UP में कोरोना का कहर, 15795 नए केस मिले:सबसे ज्यादा लखनऊ में 2769 संक्रमित मिले, मेरठ समेत 4 जिलों में 1-1 मरीजों की जान गई

लखनऊएक वर्ष पहले

उत्तर प्रदेश में कोरोना की स्थिति विस्फोटक हो गई है। शनिवार को यूपी में 15 हजार 795 नए केस मिले हैं। सबसे ज्यादा लखनऊ में 2769, गौतमबुद्ध नगर में 1873, गाजियाबाद में 1371, मेरठ में 1135 और आगरा में 660 केस सामने आए हैं। इस दौरान लखनऊ, मेरठ, मुजफ्फरनगर, और मैनपुरी में 1-1 मरीज की मौत हुई है।

राज्य में एक्टिव केस की संख्या 95 हजार 148 हो गई है। इस दौरान 5 हजार 31 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया है। प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट 1.89 प्रतिशत हो गई है। वहीं रिकवरी रेट बढ़कर 93.5% प्रतिशत तक पहुंच गई है।

अब तक 9 करोड़ से ज्यादा लोगों की जांच

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 2 लाख 58 हजार 904 सैंपल की जांच की गई। अब तक कुल 9 करोड़ ,60 लाख 63 हजार 472 लोगों के टेस्ट किए गए हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 16 लाख 98 हजार 873 कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। राज्य में 14 जनवरी, 2022 को एक दिन में कुल 24 लाख 77 हजार 688 डोज दी गई।

प्रदेश में कल 18 वर्ष से अधिक आयु के 13 करोड़ 63 लाख 37 हजार 212 लोगों को पहली डोज दी गई, जो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का 92.50 प्रतिशत है। वहीं 8 करोड़ 45 लाख 3 हजार 536 लोगों को दूसरी डोज लगाई गई है, जो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का 57.32 प्रतिशत है।

प्रदेश में अब तक कुल 9 करोड़ 60 लाख 63 हजार 472 लोगों के टेस्ट किए गए हैं।
प्रदेश में अब तक कुल 9 करोड़ 60 लाख 63 हजार 472 लोगों के टेस्ट किए गए हैं।

11 में से 7 जिले चिंताजनक स्थिति में

ज्यादा चिंता की बात ये है कि वेस्ट यूपी में फर्स्ट फेज में जिन 11 जिलों में चुनाव होने हैं, वहां के 7 जिले ही चिंताजनक स्थिति में है। गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, मेरठ, आगरा, मथुरा, मुजफ्फरनगर और बुलंदशहर में 40 हजार से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। ऐसे में इस बात की संभावना बेहद कम है कि यूपी चुनाव में इस बार जनसभाओं की अनुमति मिल पाएगी।

शनिवार को जब चुनाव आयोग इलेक्शन कैंपेन के तौर तरीकों पर फैसला लेने के लिए बैठेगा, तो सियासी पार्टियों को बड़ी रैलियों व रोड शो की अनुमति देना आसान नहीं होगा। यदि अनुमति मिलती है तो चुनावी रैलियां ही कोरोना की सुपर स्प्रेडर बन जाएंगी। निश्चित तौर पर आयोग यह नहीं चाहेगा। यही कारण है कि इस बार पहली दफा यूपी में चुनाव प्रचार वर्चुअल मोड में ही होने की प्रबल संभावना है।

सबसे ज्यादा 3 जिलों में बिगड़े हालात

कोरोना की तीसरी लहर में सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में दिल्ली NCR से लगे यूपी के तीन जिले गौतमबुद्ध नगर (नोएडा), गाजियाबाद, मेरठ हैं। तीसरी लहर में कोरोना का एपिसेंटर बनकर उभरे हैं। 8 जनवरी को जहां गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ में कुल मिलाकर 8 हजार 245 केस थे, वहीं शुक्रवार को इन 3 जिलों में 32 हजार 553 केस हो गए हैं। यह प्रदेश में कुल सक्रिय केस का 40 फीसदी है। पहले चरण में इन सभी जिलों में चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

कोरोना की तीसरी लहर में सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में दिल्ली NCR से लगे यूपी के तीन जिले गौतमबुद्ध नगर (नोएडा), गाजियाबाद, मेरठ हैं।
कोरोना की तीसरी लहर में सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में दिल्ली NCR से लगे यूपी के तीन जिले गौतमबुद्ध नगर (नोएडा), गाजियाबाद, मेरठ हैं।

10 फरवरी को पहले चरण में इन जिलों में पड़ेंगे वोट

10 फरवरी को प्रदेश में पश्चिमी यूपी के 11 जिलों में वोटिंग होगी। इसमें गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, मेरठ, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा, आगरा शामिल हैं। यहां की 58 विधानसभाओं में चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया शुक्रवार से शुरू हो चुकी है।

कोरोना टेस्ट करता स्वास्थ्य कर्मी।
कोरोना टेस्ट करता स्वास्थ्य कर्मी।
खबरें और भी हैं...