• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • UP Primary School Teacher Devoid Of Salary During Festivals Monthly Salary Of 4.5 Lakh Teachers Of State's Council Schools Stuck, Teachers Fury Due To Non payment Of Salary On Festivals

लखनऊ...परिषदीय विद्यालयों के 4.5 लाख शिक्षकों का मासिक वेतन अटका:सैलरी न मिलने से शिक्षकों में मायूसी, BSA बोले- जल्द होगा वेतन का भुगतान

लखनऊएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी का बेसिक शिक्षा विभाग अक्सर सुर्खियों में रहता है। इस बार मामला बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों के वेतन भुगतान से जुड़ा है। विभागीय शिक्षकों को इन दिनों वेतन से जुड़ी समस्या से जूझना पड़ रहा है। परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को सितंबर माह का वेतन अब तक नहीं मिल सका है, जबकि आमतौर पर वेतन महीने की एक से पांच तारीख के बीच खातों में चला जाता है।

प्रदेश के करीब साढ़े चार लाख से अधिक शिक्षकों और कर्मचारियों के सामने बिना तनख्वाह के दशहरा मनाने का संकट खड़ा हो गया। राजधानी समेत प्रदेश भर के अन्य जनपदों में स्थित परिषदीय विद्यालयों में शिक्षक, शिक्षामित्र अनुदेशक और कर्मचारियों की संख्या करीब साढ़े चार लाख है। इनके वेतन के लिए हर महीने विभाग को करोड़ों रुपए की जरूरत पड़ती है।

बताया जा रहा है कि इस महीने किसी कारणवश वेतन जारी नहीं हो सका। उधर विभाग से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि हर महीने की तरह इस महीने भी वेतन बिल तैयार कर भेजा गया है, किसी अभी तक भुगतान नहीं हो सका है। उच्च अधिकारियों की ओर से आश्वासन मिला है कि जल्द ही वेतन भुगतान किया जाएगा।

शिक्षण के अलावा तमाम काम गए है सौंपे पर समय से नही मिलता वेतन का भुगतान

मिशन प्रेरणा, मिशन शिक्षण संवाद से लेकर DBT तक के सभी कामों के साथ शिक्षक का काम कर रहे। शिक्षक संघों का दावा है कि उनके पास पहले से ही कई काम है और बेहतर ढंग से दायित्व का निर्वाहन भी होता है बावजूद इसके समय रहते वेतन निर्गत नही किया जाता।वेतन के मुद्दे को लेकर शिक्षकों ने मामले की शिकायत जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से लेकर उच्चाधिकारियों तक की, मगर दशहरे तक इस दिशा में किए गए सभी प्रयास शून्य ही रहे।नतीजतन शिक्षकों में नाराजगी है।उनका कहना है कि दुर्गा पूजा तो बिना पैसे की बीती ही अब दशहरा भी सूखा ही मनाना होगा।

नहीं मिला वेतन, दशहरा रहेगा सुना

प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षित स्नातक एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष विनय कुमार सिंह का कहना है कि परिषदीय शिक्षकों के वेतन के लिए अभी तक शासन से ग्रांट जारी नही हुई, इससे त्योहार प्रभावित हुए हैं। बहुत से शिक्षकों की लोन इत्यादि और बच्चो की फीस भी इसी समय दी जाती है, वो भी प्रभावित हुई। जबकि परिषदीय शिक्षकों से सभी कार्य लिए जाते है, ऐसे में अधिकारियों को जल्द इस प्रकरण पर ध्यान देना चाहिए।

क्या कहते है जिम्मेदार -

इस विषय पर लखनऊ के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप सिंह का कहना है कि शिक्षकों का वेतन भुगतान जल्द से जल्द कराए जाने का प्रयास किया जा रहा है।