दो फरार IPS को गिरफ्तारी करने को शिकंजा कसा:एक लाख के इनामी IPS मणिलाल पाटीदार और अभिषेक दीक्षित के पीछे लगी STF टीम, विजिलेंस भी कस रही शिकंजा

लखनऊ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हत्या के आरोपी भगाेड़े और एक लाख के इनामी IPS मणिलाल पाटीदार और आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोपी अभिषेक दीक्षित के पीछे STF के सुपरकॉप अफसरों की टीम लगाई गई है। दोनों लंबे समय से फरार हैं। आय से अधिक संपत्ति की जांच में दोनों दोषी पाए गए हैं। इस मामले में विजिलेंस भी दोनों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर चुकी है।

हत्या का आरोपी है IPS मणिलाल
महोबा के क्रशर कारोबारी की हत्या और एक्सटॉर्शन के आरोपी IPS मणिलाल पाटीदार पर हाईकोर्ट की नाराजगी के बाद एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया है। बावजूद इसके, पाटीदार अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगा। पुलिस अब उसकी संपत्तियों को कुर्क करने की तैयारी कर रही है।

दूसरी ओर, अपर मुख्य सचिव गृह ने पाटीदार को पकड़ने के लिए SIT गठित की थी जो अब तक कोई रिजल्ट नहीं दे पाई। इसे देखते हुए अब पाटीदार को दबोचने के लिए UP STF के सुपरकॉप अफसरों की एक टीम को जिम्मेदारी सौंपी गई है। टीम अपने मिशन पर निकल चुकी है। उम्मीद है कि जल्द ही पाटीदार सलाखों के पीछे होगा।

मणिलाल और उनकी पत्नी के बैंक अकाउंट में लाखों रुपए ट्रांसफर हुए हैं।
मणिलाल और उनकी पत्नी के बैंक अकाउंट में लाखों रुपए ट्रांसफर हुए हैं।

60 करोड़ की संपत्तियां चिन्हित

पाटीदार के खिलाफ दर्ज मामले की विवेचना में जुटी एसआईटी ने राजस्थान में उसकी 60 करोड़ की संपत्तियां चिह्नित की हैं। इनमें से एक दुकान, फ्लैट और बेशकीमती जमीन हैं। इसके अलावा डूंगुरपुर जनपद के सरौंदा स्थित उनके मूल गांव में भी संपत्तियों को चिह्नित किया गया है। मणिलाल पाटीदार ने कई महीने पहले पत्नी के एकाउंट में 17 लाख रुपए ट्रांसफर किए थे। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ बड़ौदा में मणिलाल का बैंक एकाउंट है। दोनों खातों की जांच में पत्नी को बड़ी रकम ट्रांसफर करने का पता चला है।

भगोड़े IPS पाटीदार की संपत्ति होगी कुर्क:IPS मणिलाल के गांव राजस्थान पहुंची प्रयागराज से दो टीमें, पैतृक आवास पर कुर्की की कार्रवाई शुरू

IPS मणिलाल के खिलाफ दर्ज हैं कई मामले

मणिलाल पाटीदार पर मृतक व्यापारी से पांच लाख रुपए महीने का एक्सटॉर्शन मांगने का आरोप लगाया था। शिकायत के बाद शासन ने मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया गया था।
मणिलाल पाटीदार पर मृतक व्यापारी से पांच लाख रुपए महीने का एक्सटॉर्शन मांगने का आरोप लगाया था। शिकायत के बाद शासन ने मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया गया था।

महोबा जिले के एसपी रहे मणिलाल पाटीदार पर क्रशर कारोबारी की हत्या करवाने और उससे एक्सटॉर्शन वसूलने का आरोप है। महोबा के कबरई थानाक्षेत्र के रहने वाले क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी को 8 सितंबर 2020 के दिन संदिग्ध हालत में गोली लग गई थी। कानपुर के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान 13 सितंबर को इन्द्रकांत की मौत हो गयी थी। इंद्रकांत के भाई ने तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इंद्रकांत के भाई रविकांत ने मणिलाल पाटीदार, कबरई के थाना प्रभारी देवेंद्र शुक्ला, सिपाही अरुण यादव, व्यापारी ब्रह्मनंद और नरेश सोनी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया था। रविकांत ने मणिलाल पाटीदार पर मृतक व्यापारी से पांच लाख रुपए महीने का एक्सटॉर्शन मांगने का आरोप लगाया था। शिकायत के बाद शासन ने मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया गया था।

प्रयागराज से निलंबित IPS अभिषेक दीक्षित पर कसता शिकंजा
भ्रष्टाचार व आय से अधिक संपत्ति के संगीन आरोपों में निलंबित चल रहे प्रयागराज के तत्कालीन SSP अभिषेक दीक्षित पर भी शिकंजा कसता जा रहा है। उसके खिलाफ जांच कर रहे लखनऊ कमिश्नरेट के जॉइंट पुलिस कमिश्नर कानून-व्यवस्था नीलाब्जा चौधरी ने अभिषेक दीक्षित और एडीजी जोन प्रयागराज प्रेम प्रकाश के बयान के आधार पर बेहद सख्त रिपोर्ट तैयार की है। इसके अलावा विजिलेंस ने भी उसके खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

थानेदारों की पोस्टिंग में रिश्वत लेने का आरोप

साल 2006 बैच के IPS अफसर अभिषेक दीक्षित।
साल 2006 बैच के IPS अफसर अभिषेक दीक्षित।

IPS अफसर अभिषेक दीक्षित को विभागीय अनियमितता के मामले में 8 सितंबर 2020 को निलंबित किया गया था। विजिलेंस की जांच में उन्हें वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों का ठीक ढंग से अनुपालन न कराने व उनकी ओर से दी गई जांचें सही ढंग से न कराने का दोषी पाया गया था। इसके अलावा वो प्रशासनिक आधार पर स्थानान्तरित किए गए स्टेनो को बैकडेट में छुट्टी देने के भी दोषी पाए गए थे। जांच अधिकारियों ने माना था कि, स्टेनो को उसका स्थानान्तरण रुकवाने की पैरवी का पूरा मौका देने के लिए ऐसा किया गया था। इसके अलावा थानेदारों की पोस्टिंग में लेनदेन का संगीन आरोप लगा था। हालांकि, विजिलेंस को इसके साक्ष्य नहीं मिले, लेकिन यह साफ हो गया कि, थानेदारों की तैनाती में नियमों की अनदेखी की गई थी। विजिलेंस अब अभिषेक दीक्षित के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है।

खबरें और भी हैं...