यूपी में सरकार है कहां ?:UP- TET के 21 लाख छात्रों से धोखा हो या अलीगढ़ शराब कांड, किसी बड़े अफसर पर कार्रवाई नहीं

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी TET का पेपर लीक होने की वजह से पेपर रद्द कर दिया गया है। इस मामले की जांच STF को सौंपी गई है। अभी तक 30 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। हालांकि, जीरो टॉलरेंस की दुहाई देने वाली सरकार जिम्मेदारों पर कार्रवाई से बच रही है। यूपी TET ऐसा पहला मामला नहीं है जब दो दिन बीत जाने के बाद भी अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं हुई है।

बीते 1 साल में ऐसे ही कई मामले सामने तो आए, लेकिन सरकार का विश्वास उन अधिकारियों पर बना रहा जिनकी सीधी जवाबदेही जनता को रही है। भले ही जनता का विश्वास उन अधिकारियों से उठ गया है। हम जिले के डीएम और एसपी की बात कर रहे हैं जिनकी सीधी जिम्मेदारी जिले में होने वाली घटना की होती है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर सरकार इन जिम्मेदारों पर सीधे कार्रवाई से डरती है या फिर सरकार की साख ख़राब न हो इससे सरकार कार्रवाई से बचती है।

यूपी टीईटी पेपर लीक मामले के सीधे जिम्मेदारों पर भी सरकार अभी तक चुप्पी साधे हुए है। इस पेपर लीक में डायरेक्टर, परीक्षा नियामक से लेकर डीआईओएस और संबंधित जिले के डीएम और एसपी तक जिम्मेदार हैं, लेकिन दो दिन बाद भी इन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। हालांकि, ऐसा क्यों है, यह अभी तक सरकार की तरफ से नहीं बताया गया है।

हम ऐसे ही 6 मामलों के बारे में आपको बता रहे हैं जहां सरकार अधिकारियों पर कार्रवाई करने से बचती दिखी है।