PET में कोडीफाइड रहेंगे क्वेश्चन पेपर:प्रश्न पत्र का सीरीज और संख्या नहीं लिखा होगा, रुकेगी नकल

लखनऊ10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
PET 2022 में कोडीफाइड रहेंगे क्वेश्चन पेपर। - Dainik Bhaskar
PET 2022 में कोडीफाइड रहेंगे क्वेश्चन पेपर।

PET (प्रारंभिक अर्हता परीक्षा) में एग्जाम को नकल विहीन बनाने के लिए अहम निर्णय लिया गया हैं। पहले से चल रही सीरीज व्यवस्था को बंद कर दिया गया है। अब कोडीफाइड क्वेश्चन पेपर को लागू करने की तैयारी है।

इससे प्रश्न पत्र संख्या के आधार पर मूल्यांकन होगा। प्रश्नपत्र के सीरीज से सेंधमारी करने के तमाम प्रयास विफल होंगे। UPSSSC यानी उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने PET में सफल इम्प्लीमेंटेशन के बाद अन्य परीक्षाओं में भी इसे लागू किए जाने का निर्णय लिया हैं।

प्रश्न पत्र पर नहीं दर्ज होगी सीरीज
UPSSSC के अध्यक्ष प्रवीर कुमार की सदस्यों के साथ हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है। अब तक चली आ रही सिरीज आधारित प्रश्न पत्र की ओपन व्यवस्था समाप्त होगी। PET (प्रारंभिक अर्हता परीक्षा) से इसकी शुरुआत की जाएगी। नई पैटर्न में क्वेश्चन पेपर किस सीरीज का है। और प्रश्न पत्र संख्या यह दर्ज नहीं होगा। इवैल्यूएशन यानी मूल्यांकन से यह जान पाना लगभग असंभव होगा।

अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्र में ओएमआर सीट में प्रश्न पत्र संख्या भरते समय विशेष ध्यान रखना होगा। क्योंकि परिणाम केवल क्यूपी नंबर के आधार पर बनाया जाएगा। इससे पहले लेखपाल भर्ती परीक्षा में सेंधमारी के दौरान STF की इन्वेस्टीगेशन में कई चौंकाने वाली जानकारियां मिली थीं। STF ने इसकी जानकारी आयोग को को भी दी थी। इसमें बताया गया कि कैसे एक सिरीज के प्रश्नपत्र में सेंधमारी करके सॉल्वर गैंग नकल कराते हैं।

ऐसे बनेगी फुल प्रूफ व्यवस्था

अभ्यर्थियों को प्रश्नपत्र क्रमांक ठीक से भरना होगा। इसके आधार पर ही मूल्यांकन होगा। प्रश्नपत्र किस सिरीज का है, इसे प्रश्न संख्या के आधार पर ‘डिकोडिफिकेशन’ किया जाएगा। इसका पता इवैल्यूएशन के पहले नही चल पाएगा।

अभ्यर्थियों को OMR शीट में प्रश्न पत्र (क्यूपी) संख्या (कोडीफाइड) भरते समय इसका विशेष ध्यान रखना होगा। परिणाम केवल क्यूपी नंबर (डिकोडिफिकेशन के बाद) के आधार पर दिया जाएगा।

75 जिलों के 1899 परीक्षा केंद्रों पर होगी परीक्षा
इस बार PET परीक्षा 15 और 16 अक्टूबर को होगी। 8 अक्टूबर तक इसके एडमिट कार्ड जारी होंगे। PET 2022 के लिए 37 लाख 63 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था, जिनमें से 37 लाख 58 हजार 209 को ही इसमें शामिल होने का मौका मिलेगा। बाकी के फार्म रिजेक्ट हो गए हैं। पहले परीक्षा का आयोजन 18 सितंबर 2022 को होना था।

पिछले साल PET 2021 में 20 लाख 73 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। जिसमें से लगभग 17 लाख 5 हजार परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे। आयोग को 2 पालियों में यह परीक्षा कराने के लिए प्रदेश के सभी जिलों में 2254 परीक्षा केंद्र बनाने पड़े थे। इस बार अभ्यर्थियों की संख्या पिछले वर्ष की तुलना में बहुत ज्यादा है। यही कारण है कि परीक्षा की चुनौतियां और बढ़ गई हैं।