UP में जानलेवा बुखार पर केंद्र की नजर:4 जिलों में अबतक 116 की मौत, जांच के लिए फिरोजाबाद भेजी टीम, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने हालात पर जल्द काबू पाने का किया दावा

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पतालों मेे निरीक्षण करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ। - Dainik Bhaskar
अस्पतालों मेे निरीक्षण करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ।

उत्तर प्रदेश में जानलेवा बुखार का कहर जारी है। फिरोजाबाद, मथुरा, मैनपुरी और फर्रुखाबाद में अबतक 116 की मौत हो चुकी है। इस बीच केंद्र सरकार भी यूपी के हालात पर नजर बनाए हुए है। हालात का जायजा लेने और लगातार हो रहीं मौतों का कारण जानने के लिए एक टीम यूपी भेजा है।

इस टीम में नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (NCDC) और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के सदस्य शामिल है। फिलहाल यह टीम फिरोजाबाद पहुंच चुकी है।

तीन से चार दिनों में हालात पर पाया जाएगा काबू

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि उत्तर-प्रदेश के 3 से 4 जिलें मे ही जानलेवा बुखार के ज्यादा मरीज मिलें हैं। इन जिलों में यूपी सरकार की तरफ से भी स्टडी की गई है। अधिकतर मामले डेंगू के ही निकले हैं।

सरकार इस बीमारी से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर जुटी हुई है। सुधार के संकेत मिल रहें है। अगले 3 से 4 दिनों में हालात पर काबू पा लिया जाएगा।

सरकार डेंगू के रोक-थाम और इलाज का केंद्र सरकार के प्रोटोकॉल को फालो कर रही है। हमें जल्द बेहतर परिणाम मिलने की उम्मीद है। सीएम सीएम योगी के आदेश पर प्रदेश के 75 जिलों में 75 नोडल अफसरों की तैनाती भी की गई है।

यूपी के 75 जिलों में 75 नोडल अधिकारियों की हुई नियुक्ति

बाढ़ और अतिवृष्टि से जलजनित बीमारियों पर रोकथाम और साफ-सफाई के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के सभी 75 जनपदों में वरिष्ठ अधिकारियों की नोडल अधिकारियों के तौर पर भेजा गया है। ये सभी नोडल अधिकारी शुक्रवार को ही अपने अपने जिलों में पहुंच चुके है। इन सभी अधिकारियों को सीएम ने निर्देश दिया है कि 3 सितंबर को शाम तक अपने आवंटित जनपद में अवश्य पहुंचे। अपने आवंटित जनपद की 4 दिन तक समीक्षा एवं स्थलीय निरीक्षण करने के बाद 7 सितंबर को राज्य मुख्यालय लौट आए। उसके बाद रिपोर्ट की समीक्षा की जाएगी।

अफसरों को मोर्चे पर लगाकर सीएम खुद उतरे ग्राउंड पर

सीएम खुद लगातार बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर रहे है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि बाढ़/अतिवृष्टि के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के आंकलन करें। शहरी/ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता,सैनेटाइजेशन, फॉगिंग के साथ बाढ़ राहत कैम्पों का निरीक्षण करें। साथ ही उनकी

जनसमस्याओं का निस्तारण करें। मुख्यमंत्री मानसून के बाद की स्थिति की समीक्षा करने के बाद बाढ़ से प्रभावित पूर्वांचल के जिलों का निरिक्षण कर लोगों को राहत पहुंचाने में जुटे है। सीएम आज भी यूपी के सिद्धार्थनगर और देवरिया के दौरे पर है।

यूपी के 4 जिलों में अबतक 116 की मौत

सरकार लगातार तैयारियों का दावा कर रही हो, लेकिन आंकड़े हालात की हकीकत बयां करने के लिए काफी है। यूपी के 4 जिलों में अब तक 116 लोगों की मौत हो चुकी है। सबसे ज्यादा फिरोजाबाद में 75 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें 65 बच्चे थे। मथुरा में बुखार से अब तक 12 और मैनपुरी में 20 लोगों की मौत हो चुकी है। फर्रुखाबाद में भी बुखार की चपेट में आकर 9 लोग दम तोड़ चुके हैं। आगरा और बागपत में भी बुखार, डेंगू के मरीज बढ़ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...