पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेबसी की इंतेहा:लखनऊ में पूर्व जज की संक्रमित पत्नी की एंबुलेंस के इंतजार में मौत; बुजुर्ग पति ने लाश उठवाने के लिए सोशल मीडिया पर मांगी मदद

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह फोटो लखनऊ में भैंसाकुंड श्मशान घाट की है। यहां रोड किनारे चाहरदीवार बनाई गई है। - Dainik Bhaskar
यह फोटो लखनऊ में भैंसाकुंड श्मशान घाट की है। यहां रोड किनारे चाहरदीवार बनाई गई है।

उत्तर प्रदेश में बेकाबू कोरोना संक्रमण के बीच स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। इसके कई उदाहरण हैं। लेकिन गुरुवार को राजधानी लखनऊ में कुछ ऐसा हुआ, जो रूह को कंपा देना वाला है। यहां कोरोना संक्रमित पूर्व जज की 64 साल की पत्नी की एंबुलेंस के इंतजार में तड़प-तड़पकर गुरुवार सुबह मौत हो गई। आलम यह है कि बूढ़े हो चुके हो पूर्व जज की बाजुओं में इतना दम नहीं है कि वे पत्नी की लाश को उठा सकें। उन्होंने सोशल मीडिया पर चिट्ठी वायरल कर लाश उठवाने के लिए मदद मांगी। बताया जा रहा है कि दोपहर साढ़े 12 बजे के करीब एंबुलेंस पहुंची है।

पूर्व जज ने चिट्ठी में क्या लिखा?

लखनऊ के गोमती नगर के विनम्र खंड में मकान नंबर 2/37C में रहने वाले रमेश चंद्रा (67) साल रिटायर्ड जिला जज हैं। परिवार में वे पत्नी मधु चंद्रा (64 साल) के साथ रहते थे। रमेश चंद्र ने चिट्ठी में लिखा है कि वह और उनकी पत्नी मधु चंद्रा दोनों कोरोना पॉजिटिव हुए। कल बुधवार को सुबह 7:00 बजे से लगातार 50-100 बार प्रशासन के द्वारा उपलब्ध कराए गए नंबरों पर फोन करता रहा, लेकिन ना तो कोई घर पर दवा देने आया और ना ही अस्पताल में भर्ती की प्रक्रिया की गई। प्रशासन की लापरवाही के कारण मधु चंद्रा का स्वर्गवास हो गया। वर्तमान समय में स्थिति यह है कि कोई डेड बॉडी उठाने वाला नहीं है। कृपया मदद की जाए।

पूर्व जज ने कहा कि CMO और कंट्रोल रूम को कई बार किया, जिसकी कोई गिनती नहीं है। हर बार यही गया कि बस पांच मिनट...बस 10 मिनट रुक जाइए एंबुलेंस पहुंच रही होगी। लेकिन यह सुनते-सुनते डेढ़ दिन बीत गया। आज सुबह पत्नी की सांस थम गई।

पूर्व जज की चिट्ठी।
पूर्व जज की चिट्ठी।

पूर्व जज की कहानी ने उन तमाम दावों को सच्चाई सामने लाकर रख दी है जिसमें बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने की बात कही जाती है। आलम यह है कि भैंसाकुंड श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार के लिए लंबी लाइन लगी हुई है। इसे छिपाने के लिए सरकार ने श्मशान घाट के बाहर रोड पर टीनशेड की चाहरदीवार बना दी है। इस पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अब नाकामी छिपाना व्यर्थ है।

लखनऊ के भैंसाकुंड श्मशान घाट को चाहरदीवार बनाकर ढंका गया।
लखनऊ के भैंसाकुंड श्मशान घाट को चाहरदीवार बनाकर ढंका गया।

प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर हमला- नाकामी छुपाना व्यर्थ

राजधानी लखनऊ के भैसाकुंड शमशान घाट पर अंतिम संस्कार के लिए लंबी लाइन लग रही है। एक साथ 20 से अधिक शवों का अंतिम संस्कार चल रहा है। एक साथ जल रही कई चिताओं का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसके बाद प्रशासन ने भैसाकुंड श्मशान घाट के उस स्थान पर तीन सेट की चारदीवारी लगा दी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसको लेकर योगी सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि उप्र की सरकार से एक निवेदन है कि अपना समय, संसाधन और ऊर्जा इस त्रासदी को छुपाने, दबाने में लगाना व्यर्थ है। महामारी को रोकने, लोगों की जान बचाने, संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए ठोस कदम उठाइए। यही वक्त की पुकार है।

बिना टेस्ट के आ रही रिपोर्ट निगेटिव
लखनऊ के रहने वाले विश्वजीत भट्टाचार्य ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए लिखा कि बिना टेस्ट किए ही स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव दी जा रही है। डीएम लखनऊ को सोशल मीडिया से अवगत कराया है कि मेरे दोस्त के मोबाइल नंबर से कई बार रिपोर्ट नेगेटिव बताई जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरा सैंपल तक नहीं लिया गया और मेरी रिपोर्ट नेगेटिव आ गई। यह प्रशासन की घोर लापरवाही है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह टारगेट पूरा करने के लिए खानापूर्ति की जा रही है।