पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Uttar Pradesh. Lucknow Toxic Substances Will Have To Be Written In Bold Letters On Methyl Alcohol Tankers, The Team Headed By DM Will Monitor

107 मौतों के बाद अब जागी योगी सरकार:मिथाइल अल्कोहल के टैंकरों पर मोटे अक्षरों में लिखना होगा विषैला पदार्थ, DM के अध्यक्षता वाली टीम करेगी निगरानी

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विष लिखे वाहनों से ही होगा मिथाईल का ट्रांसपोर्टेशन। - Dainik Bhaskar
विष लिखे वाहनों से ही होगा मिथाईल का ट्रांसपोर्टेशन।
  • किराये पर जमीन या मकान देने वालों की भी तय होगी जिम्मेदारी

जहरीली शराब से हो रही मौतों पर प्रशासन अब जाकर जागा है। सोमवार को अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्‌डी ने बैठक करके इसकी रोकथाम के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। इसमें तय किया गया कि मिथाइल का परिवहन करने वाले वाहनों पर दोनों तरफ मोटे अक्षरों में विषैला पदार्थ लिखना अनिवार्य किया जाए। जहरीली और अवैध शराब के प्रोडक्शन और मिथाइल के कारोबार की निगरानी के लिए डीएम की अध्यक्षता में टीम बनाई जाए। एसपी और जिला आबकारी अधिकारी कमेटी के सदस्य होंगे।

संजय आर भूसरेड्डी ने मिथाइल अल्कोहल के संबंध में प्रावधानों की जानकारी देते हुए बताया कि मिथाइल अल्कोहल विष अधिनियम के तहत जहर घोषित है। इसके दृष्टिगत मिथाइल अल्कोहल के कब्जे और बिक्री के लिए लाइसेंस और परमिट जारी करने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए जिलाधिकारी को लाइसेंस प्राधिकारी के रूप में अधिकृत किया गया है।

नियमों के तहत मजिस्ट्रेट के अलावा, पुलिस अधिकारी, राजस्व अधिकारी, चिकित्सा अधिकारी और आबकारी और उद्योग के अधिकारी जो निरीक्षक के पद से नीचे नहीं हैं, को इन लाइसेंसों के निरीक्षण करने का अधिकार दिया गया है।

प्रावधानों के प्रभावी क्रियान्वयन के जिला स्तर पर जिला मजिस्ट्रेट/लाइसेंस प्राधिकारी द्वारा नामित अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय नोडल समिति का गठन किया जाएगा। इसमें अपर पुलिस अधीक्षक सदस्य के रूप में तथा जिला आबकारी अधिकारी सदस्य/संयोजक के रूप में होंगे। यदि मिथाइल अल्कोहल के उत्पादन के लिए लाइसेंस प्राप्त इकाइयों के अलावा कोई अन्य इकाई इस कारोबार में संलिप्‍त पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

विष लिखे वाहनों से ही होगा मिथाईल का ट्रांसपोर्टेशन

एसीएस संजय भूसरेड्‌डी ने बताया कि मिथाइल अल्कोहल के उत्पादन, भंडारण और बिक्री की गहन निगरानी की जाएगी और मिथाइल अल्कोहल के टैंक और कंटेनरों पर स्पष्ट रूप से मिथाइल अल्कोहल अंकित किया जाएगा। मिथाइल अल्को‍हल का परिवहन करने वाले टैंकरों पर मोटे तथा सफेद अक्षरों में विषैला पदार्थ परिवहन किये जाने सम्बन्धी सूचना और कानूनी चेतावनी तथा दोनों तरफ उसके विष होने सम्बन्धी चिन्ह अंकित किया जाना अनिवार्य किया गया है। टैंकर से मिथाइल अल्कोहल की चोरी न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए टैंकरों को ठीक से सील किया जाएगा और इसकी पुष्टि के बाद ही टैंकर भेजा जाएगा।

मकान और भूस्वामियों की भी होगी जिम्मेदारी
कारोबार के लिए जमीन या मकान किराए पर देने वालों को सुनिश्चित करना होगा कि उनके मकान अवैध शराब न बनाई जा रही हो। इसकी आशंका होने पर तत्काल सूचना पुलिस और आबकारी विभाग को देनी होगी। लेखपाल और थाने से नियुक्त चौकीदारों को भी अपने क्षेत्र मे हो रही ऐसी गतिविधियों पर नजर रखनी होगी।

खबरें और भी हैं...