UP के 12 जिलों में भारी बारिश, 19 में अलर्ट:मेरठ में घरों से लेकर थाने तक में पानी भरा, कानपुर में दीवार गिरने से एक की मौत; आगरा में डूबने से बाल-बाल बचे BJP नेता

लखनऊ4 महीने पहले

उत्तर प्रदेश में 12 जिलों में भारी बारिश हो रही है। मंगलवार रात से बारिश होने के चलते मेरठ, कानपुर, सहारनपुर, आगरा, गाजियाबाद, नोएडा में कई जगहों पर सड़कें जलमग्न हो गईं हैं। कानपुर में बारिश के चलते दीवार गिरने से एक की मौत हो गई। सहारनपुर में एक घर पर बिजली गिर गई। इससे घर क्षतिग्रस्त हो गया। गनीमत रही कि हादसे में घर वाले सुरक्षित रहे। राजधानी लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी, बरेली, मुरादाबाद जैसे जिलों में भी रुक-रुककर बूंदा-बांदी हो रही है। इसके अलावा मौसम विभाग ने 19 जिलों के लिए अलर्ट जारी किया है।

कानपुर: दीवार गिरने से एक की मौत, हनुमान मंदिर धंसा

अशोक नगर स्थित 80 फ़ीट रोड पर हुनमान मंदिर धंस गया।
अशोक नगर स्थित 80 फ़ीट रोड पर हुनमान मंदिर धंस गया।

यहां मंगलवार शाम से शुरू हुई बारिश बुधवार को भी हो रही है। सुबह हुई जोरदार बारिश से शहर के कई मुख्य मार्केट और सड़कों पर पानी भर गया। अशोक नगर स्थित 80 फीट रोड पर हनुमान मंदिर धंस गया। इससे भक्तों में हड़कंप मच गया। कल्याणपुर थाना क्षेत्र में रावतपुर गांव में दीवार गिरने से मलबे में दबकर एक युवक की मौत हो गई।

बारिश के चलते दीवार सुबह अचानक युवक पर गिर गई। परिवार में युवक इकलौता बेटा था। जूही पुल, नवीन मार्केट, परेड, विजय नगर, जेके मंदिर रोड, गोविंद नगर समेत दर्जनों एरिया में जलभराव हो गया। वहीं, सर्वोदय नगर, किदवई नगर, बर्रा समेत कई जगह रोड धंसी। जूही पुल पूरी तरह डूब गया। चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय (CSA) के मौसम विज्ञानी के मुताबिक अगले 3 दिन बारिश की संभावना बनी हुई है। अभी तक कानपुर में 36 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है।

आगरा: BJP नेता बाल-बाल बचे, सड़कें डूबीं

आगरा में भारी बारिश से सड़कें जलमग्न हो गई थीं। इसके चलते BJP नेता की कार नाले में फंस गई।
आगरा में भारी बारिश से सड़कें जलमग्न हो गई थीं। इसके चलते BJP नेता की कार नाले में फंस गई।

शहर में मंगलवार रात से ही भारी बारिश हो रही है। इसके चलते कई इलाकों में सड़कें जलमग्न हो गईं हैं। सड़क पर जलजमाव के चलते BJP नेता बॉबी लाले की कार नाले में फंस गई। वह बाल-बाल बच गए। चंबल नदी और यमुना का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। खतरे के निशान के पास दोनों नदियों का पानी पहुंच चुका है। शहर के कई इलाकों में लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

मेरठ: भारी बारिश ने जिले को बनाया ताल-तलैया
जिले में पिछले 11 घंटों से लगातार बारिश के बाद शहर तालतलैया बन चुका है। बीआरसी और दफ्तरों में भी पानी भर गया। बीआरसी में सुबह लोग स्टाफ पहुंचा तो पूरा दफ्तर पानी से भरा हुआ था।
शहर के ऊंचा सद्दीक नगर, जयभीम नगर, ओडियन नाला, कैंचीयान, बुढ़ाना गेट, शारदा रोड, ब्रहमपुरी, दिल्ली रोड, बागपत अड्‌डा, कैंट, बच्चा पार्क चौराहा, भूमिया पुल, इंद्रा चौक, लिसाढ़ी गेट सहित अन्य इलाकों में जलभराव हो गया। सड़कों के साथ ही घरों में अंदर पानी भर चुका है। मौसम वैज्ञानिक डॉ. एन सुभाष ने बताया कि मंगलवार देर रात से सुबह 8.30 बजे तक 160 मिमी बरसात हो चुकी है।

सहारनपुर में रात डेढ़ बजे से हो रही बारिश

हादसे की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने पड़ताल की। पीड़ित परिवार ने सहायता की मांग की है।
हादसे की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने पड़ताल की। पीड़ित परिवार ने सहायता की मांग की है।

सहारनपुर में मंगलवार देर रात करीब डेढ़ बजे से लगातार बारिश हो रही है। बारिश के साथ 17 किलोमीटर/घंटा की रफ्तार से हवा भी चलीं। अब तक 6.3 एमएम बारिश हो चुकी है। यहां थाना तीतरों के गांव कोलाखेड़ी में पृथ्वी का पुस्तैनी मकान है। जिसमें उसके बेटे मदन, सतवीर, जसवीर, रोहताश रहते हैं। बड़े बेटे मदन ने बताया कि रात करीब दो बजे तेज आवाज के साथ घर पर बिजली गिरी। बिजली गिरने से मकान का कुछ हिस्सा गिर गया और दीवारों में दरार आ गई। शुक्र था कि किसी तरह की जनहानि नहीं हुई है।

सहारनपुर: कचहरी पुल के नीचे बैठी मिट्टी, बड़े हादसे का इंतजार
दो महीने पहले मरम्मत किए गए कचहरी पुल के नीचे की मिट्टी बैठ गई है। जिस कारण पुल की सड़क भी बैठने से पुल के दोनों और पुलिस ने बैरिकेड लगा दिए हैं। दरार कई दिनों से आ रही है। इस पुल से रोजाना हजारों वाहन गुजरते हैं। कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

सहारनपुर में देर रात से बारिश हो रही है। सुबह आफिस जाने वालों को काफी दिक्कत हुई।
सहारनपुर में देर रात से बारिश हो रही है। सुबह आफिस जाने वालों को काफी दिक्कत हुई।

गाजियाबाद-नोएडा एक्सप्रेस-वे पर पानी भरा
गाजियाबाद और नोएडा में मंगलवार रात से ही बारिश हो रही है। इससे मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे पर डासना अंडरपास के पास पानी भर गया है। लालकुआं से नोएडा जाने वाली रोड पर निर्माण कार्य चालू होने से सड़क संकरी थी। उस पर भी पानी भर गया। कस्बा लोनी में हाइवे की पूरी सड़क पानी में डूब चुकी है।

वाराणसी, प्रयागराज, मुरादाबाद, बरेली में रुक-रुककर बारिश
वाराणसी, प्रयागराज, बरेली में भी में मंगलवार रात रुक-रुककर बारिश हो रही है। यहां कुछ इलाकों में जलभराव जरूर हुआ लेकिन हालात काबू में है। बारिश के चलते लोगों को गर्मी से काफी राहत मिली। बरेली में मंगलवार रात से सुबह तक करीब 20 से 25 मिमी बारिश हो चुकी है। मुरादाबाद में भी रात 10 बजे से बारिश हो रही है।

मुरादाबाद में बारिश के दौरान फल और सब्जियों को लेकर जाता घोड़ा चालक।
मुरादाबाद में बारिश के दौरान फल और सब्जियों को लेकर जाता घोड़ा चालक।

इन जिलों में येलो अलर्ट जारी
प्रदेश के देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर, बस्ती, कुशीनगर, महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, फर्रुखाबाद, शामली, बागपत, मेरठ, हापुड़, कासगंज, अमरोहा, बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर, संभल और बदायूं में येलो अलर्ट जारी किया गया है। इन इलाकों में 50 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है।

यहां ऑरेंज अलर्ट
मौसम विभाग ने पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद, रामपुर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और बिजनौर में भारी बरसात की संभावना जताई है। इन जिलों में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। बिजली गिरने की संभावना है।

क्या होते हैं ग्रीन, रेड, येलो और ऑरेंज अलर्ट
ग्रीन अलर्ट: कोई खतरा नहीं है।
येलो अलर्ट: आने वाले खतरे के प्रति सचेत करता है, येलो अलर्ट को मौसम विज्ञान विभाग जैसे-जैसे मौसम खराब होता है, ऑरेंज अलर्ट में परिवर्तित कर देता है।
ऑरेंज अलर्ट: बारिश व आंधी की पूरी संभावनाएं होती है। इस अलर्ट के बाद लोगों को सावधान होना चाहिए और इधर-उधर जाने पर सावधानी बरतनी चाहिए।
रेड अलर्ट: इसका मतलब है कि स्थिति अत्यंत खतरनाक है। मौसम विभाग के अनुसार ऐसे मौसम में इधर-उधर नहीं निकलना चाहिए इस अलर्ट का अर्थ है, मौसम खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है, भारी बारिश होने की अधिक संभावना होती है।

खबरें और भी हैं...