UP...1.21 लाख महिलाएं शोहदों की कॉल से हुईं परेशान:1090 वीमेन पावर लाइन पर पीड़िताओं ने दर्ज कराई शिकायत, फोन बुलिंग में 13 शोहदे गिरफ्तार, 95 प्रतिशत शिकायतों का निस्तारण

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिलाओं की मदद के लिए सरकार ने नंबर जारी किए हैं। इन पर कॉल करके तुरंत मदद पाई जा सकती है। वीमेन हेल्पलाइन नंबर 1091/1090 पूरे देश के लिए है। - Dainik Bhaskar
महिलाओं की मदद के लिए सरकार ने नंबर जारी किए हैं। इन पर कॉल करके तुरंत मदद पाई जा सकती है। वीमेन हेल्पलाइन नंबर 1091/1090 पूरे देश के लिए है।

प्रदेश में करीब 1.21 लाख महिलाओं ने फोन या राह चलते परेशान करने वाले शोहदों के खिलाफ जनवरी 2021 से अगस्त 2021 तक वीमेन पावर लाइन 1090 पर फोन करके शिकायतें दर्ज कराई। जिसमें से 95 प्रतिशत शिकायतों को स्थानीय पुलिस की मदद से निस्तारण कराया गया। वहीं 13 शोहदों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। जो कई बार काउंसलिंग के बाद भी नहीं सुधरे। वहीं करीब 5 हजार शिकायतों पर कानूनी कार्यवाही चल रही है।

डीजीपी मुकुल गोयल ने महिला संबंधित अपराधों का जल्द निस्तारण करने के निर्देश दिए हैं। जिससे महिला संबंधित अपराधों पर अंकुश लगाया जा सके। इसके तहत महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन यूपी / वीमेन पावर लाइन 1090 महिला संबंधित अपराध नियंत्रण के लिए सख्त कदम उठाने को कहा।

मिशन शक्ति तृतीय चरण अभियान के तहत महिलाओं को जागरुक करने के साथ पुलिस कर्मियों को शोहदों से सख्ती से निपटने के नियम कानून की जानकारी दी जा रही है।

2.13 लाख महिलाओं ने की शिकायत

वीमेन पावर लाइन 1090 पर जनवरी 2021 से 31 अगस्त 2021 तक कुल 213555 हजार शिकायतें फोन पर दर्ज कराई गई। जांच में 121753 शिकायतें फोन बुलिंग, साइबर बुलिंग व छेड़छाड़ से संबंधित थी। जिनमें से लगभग 95 प्रतिशत शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है। वहीं 91802 शिकायतें अन्य प्रकरणों से सम्बन्धित होने के कारण जनपदीय पुलिस, जीआरपी, यूपी-112 को तत्काल कार्रवाई के लिए निर्देश दिए गए।

साइबर बुलिंग की 36 हजार आईं शिकायतें

साइबर बुलिंग से जुड़ी इस साल 36262 शिकायतें 1090 पर दर्ज हुई। अत्याधुनिक साइबर फोरेन्सिक टूल्स की मदद से 90 प्रतिशत शिकायतें निस्तारित की गईं। वहीं अन्य के निस्तारण के लिए साइबर एक्सपर्ट व स्थानीय पुलिस की मदद ली जा रही है।

क्या है साइबर बुलिंग

साइबर बुलिंग में लोग अपना नाम व पता छिपाकर सोशल मीडिया पर अश्लील मैसेज, फोटो व वीडियो भेजते हैं। साइबर बुलिंग से पीड़ित का न केवल मानसिक बल्कि सामाजिक स्तर पर भी अपमानित होता है। साइबर बुलिंग की शिकार ज्यादा होती हैं।

मदद के लिए इन नंबरों पर करें फोन

महिलाओं की मदद के लिए सरकार ने नंबर जारी किए हैं। इन पर कॉल करके तुरंत मदद पाई जा सकती है। वीमेन हेल्पलाइन नंबर 1091/1090 पूरे देश के लिए है। इसके अलावा महिलाएं कंट्रोल रूम 112 और नेशनल कमिशन फॉर वुमन (NCW) के 0111-23219750 नंबरों पर कॉल कर सकती हैं।

जून 2020 से अगस्त 2021 तक 13 सिरफिरे आरोपी गिरफ्तार

वीमेन पावर लाइन की हार्ड केस क्रैकिंग टीम ने जून 2020 से अब तक 13 आरपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा। इसमें कई ऐसे सिरफिरे शोहदे भी शामिल हैं जो नंबर बदलकर महिलाओं को परेशान करते थे। कई बार हिदायत देने पर घर वे नए नंबरों से दोबारा फोन कर महिलाओं को तंग करना शुरू कर देते थे। इसमें कुछ प्रमुख केस जिन्होंने महिलाओं को फोन की घंटी बजते ही रोने को मजबूर कर दिया था।

4 प्रमुख मामले

  • लखनऊ के ठाकुरगंज रहने वाला लक्ष्मीकांत महिलाओं को नंबर बदल-बदल कर परेशान करता था। उसके खिलाफ वर्ष 2017 से अब तक 71 शिकायतें फोन पर परेशान करने की दर्ज थीं।
  • एटा जिला का शैलेन्द्र कुमार को फिरोजाबाद से गिरफ्तार किया गया। इसके खिलाफ 22 शिकायतें दर्ज थी। वह महिलाओं के शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस के फोन करते ही दोबारा गलती न करने की बात कह कर माफी मांग लेता था। बाद में दोस्तों के साथ दोबारा नंबर बदलकर फोन पर परेशान करने लगता था।
  • लखनऊ पारा निवासी देशराज को प्रतापगढ़ से गिरफ्तार किया गया था। यह पुलिस से बचने के लिए अपने पैतृक गांव व रिश्तेदारों के यहां ठिकाना बनाए था। इसके खिलाफ 8 शिकायतें दर्ज थी।
  • प्रतापगढ़ निवासी रोहित शुक्ला नंबर बदल-बदल कर महिलाओं को परेशान करता था। पुलिस नंबर ट्रेस न कर सके, इसके लिए 5 अलग-अलग मोबाइल का इस्तेमाल करता था। वहीं पुलिस गिरफ्तार न कर सके, इसके लिए खेत में पेड़ पर चारपाई बांध कर सोता था। इसके खिलाफ 37 शिकायतें दर्ज थीं।
खबरें और भी हैं...