PNB अफसर श्रद्धा की डायरी:हर पन्ने पर मंगेतर विवेक की बेवफाई का जिक्र, लिखा- मैं ऐसे झूठे आदमी के साथ नहीं रह सकती

लखनऊ9 महीने पहले

अयोध्या में पीएनबी ऑफिसर श्रद्धा के सुसाइड के पीछे की वजह काफी हद तक उसकी डायरी से साफ हो रही है। अपनी डायरी के हर पन्ने पर श्रद्धा ने केवल मंगेतर विवेक की बेवफाई और उसके फरेब का जिक्र किया है। बल्कि एक जगह श्रद्धा ने लिखा कि मैं ऐसे झूठे आदमी के साथ नहीं रह सकती। डायरी पुलिस के कब्जे में है, उसी कथित डायरे के चुनिंदा हिस्से भास्कर के पास हैं।

श्रद्धा ने यह डायरी विवेक से रिश्ते खराब होने के शुरुआती दिनों में लिखनी शुरू की थी। पिछले साल जनवरी में उसकी शादी तय हुई और मार्च में फासले बढ़ने लगे। मार्च से शुरू हुई श्रद्धा की डायरी का सफर इस तरह है। 2 से 20 मार्च के बीच श्रद्धा, विवेक के घरवालों से मिली। उसके घरवाले श्रद्धा के भाई की एनिवर्सरी में शामिल हुए। इस बीच उसके घरवालों ने कई बार श्रद्धा को कॉल करके उसका हालचाल भी पूछा। लेकिन इसी दौरान उसे विवेक के किसी और लड़की से संबंध की जानकारी हुई।

अतीत को भुलकर जिंदगी का नया सफर शुरू करना चाहती थी
श्रद्धा ने लिखा है कि वह बार-बार विवेक से उस लड़की और उससे सम्बन्ध के बारे में पूछती रही। ताकि शादी के बाद कोई गलतफहमी न हो। वह चाहती थी कि विवेक अपने अतीत से बाहर निकलकर उसके साथ नए सिरे से जिंदगी की शुरुआत करे। लेकिन विवेक उससे झूठ बोलता रहा। इस लड़की को लेकर उधेड़बुन चल ही रही कि एक और लड़की की एंट्री हो गई। फिर एक के बाद एक करके कई लड़कियां श्रद्धा की उस जिंदगी का हिस्सा बनने लगी जिसकी वह शुरुआत करने जा रही थी।

श्रद्धा के माता- पिता के साथ विवेक गुप्ता। यह तस्वीर श्रद्धा के भाई के सगाई के दौरान की है।
श्रद्धा के माता- पिता के साथ विवेक गुप्ता। यह तस्वीर श्रद्धा के भाई के सगाई के दौरान की है।

सुधारने के लिए किया शादी से इनकार, विवेक ने रिश्ता ही तोड़ दिया
श्रद्धा ने लिखा है कि विवेक बेहद चालाकी से रिश्ता तोड़कर दोनों परिवारों की नजरों में खुद को इनोसेंट और श्रद्धा को विलेन बनाना चाह रहा था। यह बात श्रद्धा को बहुत परेशान कर रही थी। यही वजह थी कि बाद में उसने भी तय कर लिया कि अब ऐसे लड़के के साथ शादी नही करेगी।

कोई अंजान दे रहा था विवेक की हरकतों की जानकारी
श्रद्धा ने अपनी डायरी में एक ऐसे किरदार का जिक्र किया है जिसे वह जानती नही थी। उसने लिखा है कि यह अजनबी शख्स उसे कॉल करके विवेक की हर हरकत की जानकारी दे रहा था। इसका पता चलने पर विवेक ने श्रद्धा पर दबाव बनाया की उस व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर करे। श्रद्धा ने लिखा है कि विवेक चाहता था कि किसी तरह वह व्यक्ति उससे बात करना बंद करे ताकि उसकी हरकतें सामने न आएं। लेकिन विवेक उस व्यक्ति का सामना करने से भी डर रहा था।

IPS और कांस्टेबल के निलंबन की परिजन कर रहे हैं मांग
श्रद्धा के परिजनों का कहना है कि वह श्रद्धा के डायरी की तस्वीरे ले रहे थे लेकिन पुलिसवालों ने डायरी छीन ली। उन्हें आशंका है कि जिस तरह श्रद्धा ने विवेक से जुड़ी हर बात लिखी है, डायरी में कही न कही विवेक दोस्त आरोपी IPS आशीष तिवारी और कांस्टेबल अनिल रावत का भी जिक्र होगा। घरवालों का कहना है कि आशीष और अनिल को निलंबित करके जांच होनी चाहिए ताकि वह पुलिस पर कोई दबाव बनाकर खेल न कर सकें।