3 IPS अधिकारियों को रिटायरमेंट:UP के चर्चित IPS अमिताभ ठाकुर की सरकार ने जबरन सेवा खत्म की ; राजेश कृष्ण व राकेश शंकर भी रिटायर हुए

लखनऊ8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को गृह मंत्रालय की तरफ से समय से पहले ही सवेानिवृत्ति दे दी गई। - Dainik Bhaskar
आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को गृह मंत्रालय की तरफ से समय से पहले ही सवेानिवृत्ति दे दी गई।

उत्तर प्रदेश में भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अधिकारी अमिताभ ठाकुर आईजी रूल्स एवं मैनुअल को मंगलवार को स्वैच्छिक सेवानिवृत्त दे दी गई। आईपीएस के खिलाफ कई मामालों में विभागीय जांच चल रही है। ये सेवानिवृत्त उनके लोकहित में सेवा में उपयुक्त न पाए जाने पर दिया गया। आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर आईजी रूल्स एवं मैनुअल के पद पर कार्यरत थे। उनके खिलाफ कई मामलों में जांच चल रही थी। जिसके बाद मंगलवार को शासन ने उन्हें स्वैच्छिक सेवानिवृत्त दे दी।

जानकारी के अनुसार, आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने ट्वीटर पर जानकारी देते हुए कहा कि उन्हें आज शासन का आदेश प्राप्त हुआ। जिसमें उन्हें स्वैच्छिक सेवानिवृत्त दी गई है। हालांकि उनसे बात करने की कोशिश की गई लेकिन बात नहीं हो सकी। आईपीएस आधिकारी अमिताभ ठाकुर को गृह मंत्रालय ने समय से पूर्व अनिवार्य रूप से सेवानिवृत करने का आदेश दिया है।

आदेश में लिखा गया है कि अमिताभ ठाकुर को लोकहित में सेवा में बनाए रखे जाने के उपयुक्त न पाते हुए लोकहित में तात्कालिक प्रभाव से सेवा पूर्ण होने से पूर्व सेवानिवृत किये जाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।

पूर्व की सरकार में दर्ज हुआ था रेप का मामला
आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर उस समय चर्चा में आए थे जब उन्होंने पूर्व की सपा सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव पर धमकाए जाने का आरोप लगाते हुए हजरतगंज कोतवाली में तहरीर दी थी। जिसके बाद उनके खिलाफ रेप का मामला तक दर्ज हो गया था और उन्हें निलंबित भी किया गया था।

दो और आईपीएस किए गए सेवानिवृत्त
आईपीएस अमिताभ ठाकुर के अलावा दो अन्य आईपीएस अधिकारी भी सेवानिवृत्त किए गए। इनमें सेनानायक 10 बटालियन बाराबंकी आईपीएस अधिकारी राजेश कृष्ण और डीआईजी स्थापना राकेश शंकर शामिल हैं। राजेश कृष्ण पर आजमगढ़ में तैनाती के दौरान पुलिस भर्ती में घोटाले का आरोप लगा था जबकि डीआईजी स्थापना राकेश शंकर के खिलाफ देवरिया शेल्टर होम प्रकरण की जांच चल रही थी।