पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जलभराव से बढ़ी परेशानी:लखनऊ में तेज बारिश से शहर के कई इलाके में भरा पानी, घंटों रही परेशानी

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तेज बारिश ने नगर निगम की पोल खोल कर रख दी है। गुरुवार को बारिश के बाद शहर के कई इलाकों में घुटने तक पानी भर पाया। - Dainik Bhaskar
तेज बारिश ने नगर निगम की पोल खोल कर रख दी है। गुरुवार को बारिश के बाद शहर के कई इलाकों में घुटने तक पानी भर पाया।

तेज बारिश ने नगर निगम की पोल खोल कर रख दी है। गुरुवार को बारिश के बाद शहर के कई इलाकों में घुटने तक पानी भर पाया। इससे हजारों लोगों की परेशानी बढ़ गई। शहर में करीब 50 से ज्यादा इलाकों में जल भराव हो गया। पुराने लखनऊ के कई इलाकों में घर के अंदर पानी चला गया। वहीं जानकीपुरम में स्थिति यह थी कि कमर तक पानी भर गया था।

इसमें मड़ियांव, फैजुल्लागंज, केशव नगर, इस्माईलगंज, आशियाना, कानपुर रोड, सरोजनी नगर, इंदिरा नगर, गोमती नगर विस्तार, बालागंज, जानकीपुरम समेत कई इलाकों में चार से पांच घंटे तक पानी भरा रहा। इसके अलावा गोमती नगर नगर विपुल खंड में जलभराव रहा लेकिन यहां पर एक घंटे में पानी भर पाया था। लेकिन शहर का सबसे वीआईपी इलाका होने की वजह से यह बड़ी बात थी। केशव नगर निवासी आरके सिंह ने बताया कि पिछले कई साल से उनके यहां जलभराव हो रहा है। इसको लेकर वह कई बार शिकायत दर्ज करा चुके है। बावजूद इसके समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। उन्होंने बताया कि कई बार लोग इसमें गिरकर घायल भी हो जाते है

नहीं हो पाई पाई नालों की सफाई
लखनऊ नगर निगम बारिश से पहले इसबार नालों की सफाई नहीं कर पाया है। इसकी वजह से यह समस्या आ रही है। मौजूदा समय में 60 फीसदी ही नालों की सफाई ठीक से नहीं हो पाई है। यह तय हुआ था कि नालों की सफाई के बाद स्थानीय स्तर पर पार्षद से सत्यापन कराना था, लेकिन कई वॉर्ड में संबंधित इंजीनीयर और ठेकेदारों ने वह काम भी नहीं कराया है। लखनऊ शहर में नगर निगम की छोटी बड़ी मिलाकर करीब 1500 से ज्यादा नाले और नालियां है। लेकिन ज्यादातर की सफाई का काम नहीं हो पाया है।

पार्षदों ने जताई नाराजगी
ईस्माइलगंज वॉर्ड के पार्षद समीर पाल सोनू ने बताया कि वह काफी समय से वह लोग नालों की सफाई के लिए बोल रहे थे, लेकिन उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। वहीं, कांग्रेस पार्षद अमिता सिंह ने कहा कि हर बार करोड़ों का बजट नाला सफाई के लिए आता है लेकिन अधिकारी काम ठीक से नहीं करते है। यह भ्रष्टाचार है, इसकी जांच होनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...