पूरे UP में आज फिर बारिश का अलर्ट:कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी समेत कई जिलों में बाढ़ के हालात; गंगा, घाघरा और शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर

लखनऊ4 महीने पहले
यह फोटो वाराणसी की है। यहां दशाश्वमेध घाट पर गंगा का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है।

उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में आज बारिश के आसार है। मौसम विभाग ने इसका अलर्ट जारी किया है। पिछले दो दिनों से हो रही बारिश से तापमान में 6 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। बारिश से गंगा, घाघरा और शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रहीं हैं। इससे कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। उधर, लगातार बारिश से शहरी इलाकों में भी जलभराव की स्थिति हो गई है।

निचले इलाके के लोगों को किया गया अलर्ट
लखनऊ स्थित आंचलिक मौसम विभाग के डायरेक्टर जेपी गुप्ता कहते हैं कि गुरुवार यानी 5 अगस्त तक प्रदेश भर में बारिश का अलर्ट है। इस बीच बदायूं में गंगा, लखीमपुर खीरी में शारदा और बलिया व गोंडा में घाघरा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। निचले इलाकों के लोगों को अलर्ट किया गया है।

प्रदेश के राहत आयुक्त रणवीर प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के वर्तमान में सभी तटबंध सुरक्षित हैं। प्रदेश में एक जून से अब तक 381 मिमी औसत वर्षा हुई‚ जो सामान्य वर्षा 369.3 के सापेक्ष 103 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि बदायूं में कछला ब्रिज पर गंगा, पलिया कलां खीरी में शारदा नदी‚ तुरतीपार बलिया में घाघरा नदी और गोंडा में घाघरा नदी खतरे के जलस्तर से ऊपर बह रही हैं।

लखनऊ में सोमवार को भी बादल छाए हुए हैं।
लखनऊ में सोमवार को भी बादल छाए हुए हैं।

कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात

बिजनौर के कई गांव पानी में डूब गए हैं।
बिजनौर के कई गांव पानी में डूब गए हैं।

पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश बिजनौर के लोगों के लिए मुसीबत बनी हुई है। उत्तराखंड से बांध में पानी छोड़े जाने से एक दर्जन से अधिक गांव डूब गए हैं। एक ओर खेतों में पानी भरने से सैकड़ों बीघा गन्ने व धान की फसलें खराब हो चुकी हैं। वहीं, सड़कें पानी से लबालब हैं। सड़क पर पानी के तेज बहाव के बीच राहगीरों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। भारी जल बहाव होने से लोगों को अब बाढ़ का खतरा सता रहा है। कानपुर, बिजनौर, महराजगंज, वाराणसी, प्रयागराज, ग़ाज़ीपुर, बलिया जैसे जिलों में बाढ़ के हालात बन गए हैं।

उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले में नाव से लोगों को ले जा रहा बचाव दल।
उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले में नाव से लोगों को ले जा रहा बचाव दल।

लखनऊ में 8% कम हुई बारिश
मौसम वैज्ञानिक जेपी गुप्ता ने बताया कि इस बार लखनऊ में 1 जून से 31 जुलाई तक सामान्य वर्षा 318.9 मिलीमीटर की तुलना में 291.9 मिलीमीटर वर्षा हुई है, जो सामान्य से 8% कम है। जून में यदि रिकॉर्ड 142.7 मिमी. बरसात न हुई होती तो अब तक सूखा पड़ने की संभावना थी।

आज पूरे प्रदेश में बारिश होने की संभावना है। रविवार को भी यूपी में बारिश-बदली से मौसम सुहाना बना रहा। दिन के तापमान में 6.4 डिग्री सेल्सियस और रात के तापमान में 6.1 डिग्री सेल्सियस तक गिरावट दर्ज की गई।

प्रयागराज में सबसे ज्यादा बारिश हुई
रविवार को प्रयागराज के बाद 18 मिमी बारिश हमीरपुर में हुई। इसके अलावा लखनऊ‚ हरदोई‚ कानपुर‚ इटावा‚ लखीमपुर खीरी‚ वाराणसी‚ बलिया‚ चुर्क‚ बहराइच‚ अयोध्या‚ रायबरेली‚ गाजीपुर‚ झांसी‚ उरई‚ हमीरपुर‚ बरेली‚ मुरादाबाद‚ मेरठ और अलीगढ़ में भी बारिश हुई।

मकान ढहने से महिला समेत पांच घायल
उधर, कौशांबी में बारिश के चलते मकान ढहने से एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। जबकि दो मवेशियों की मौत हो गई। बुलंदशहर में बारिश के चलते जर्जर दीवार गिरने से पांच बच्चे घायल हो गए।

खबरें और भी हैं...