UP के 26 जिलों में तीसरे दिन भी बारिश:खेतों में खड़ी फसल डूबी; हरिद्वार बैराज से 3.72 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा, गंगा किनारे के 6 जिलों में अलर्ट

लखनऊ7 महीने पहले

उत्तर प्रदेश में तीसरे दिन भी बारिश का दौर जारी है। लखनऊ सहित प्रदेश के 26 जिलों के लिए आज भारी बारिश का अलर्ट है। लगातार बारिश की वजह से खेतों में खड़ी फसल पानी में डूब गई है। जिन किसानों ने फसल काटकर खेत में रखी थी वो भी खराब हो गई है।

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश से गंगा में 24 घंटे में जल स्तर 8 गुना बढ़ गया है। हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान से आधा मीटर ऊपर बह रही है। मंगलवार दोपहर हरिद्वार बैराज से 3.72 लाख क्यूसेक पानी गंगा में छोड़ा गया है। इससे मेरठ, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, हापुड़, बुलंद शहर और अमरोहा जिले के गंगा किनारे के 100 से ज्यादा गांव प्रभावित होंगे।

मेरठ में तटबंधों के किनारे अलर्ट कर दिया गया है। पिछले दिनों तटबंधों में दरार देखी गई थी।
मेरठ में तटबंधों के किनारे अलर्ट कर दिया गया है। पिछले दिनों तटबंधों में दरार देखी गई थी।
कानपुर-दिल्ली हाईवे पर पानी भर गया है।
कानपुर-दिल्ली हाईवे पर पानी भर गया है।
कानपुर की सड़कों पर पानी भर गया है।
कानपुर की सड़कों पर पानी भर गया है।
लखनऊ में भी सुबह से तेज बारिश हो रही है। सड़कों पर पानी भर गया है।
लखनऊ में भी सुबह से तेज बारिश हो रही है। सड़कों पर पानी भर गया है।

इन जिलों में बारिश का अलर्ट
प्रदेश के हरदोई, लखनऊ , शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, बाराबंकी, बहराइच, अयोध्या, रायबरेली, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, प्रयागराज, जौनपुर, संत रविदास नगर, अमेठी, कौशम्बी, गोंडा, पीलीभीत, उन्नाव, कानपुर नगर, गाजियाबाद, नोएडा, फतेहपुर जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग के अनुसार, 60 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती है। बिजली की गरज-चमक के साथ बारिश होगी। मौसम विभाग के निदेशक ने सभी जिलों में बारिश का लेकर अलर्ट जारी कर दिया है।

फसल को हो रहा नुकसान
तीन दिनों से प्रदेश में हो रही बारिश ने ऐसी तबाही मचा रखी है कि लहलहाती धान की फसल बारिश की वजह से गिर गई है। खेतों पर कटी धान की फसल बारिश के पानी से खराब होने का अंदेशा है। गन्ने की फसलों में भी काफी पानी भर गया है। किसान श्याम किशोर ने कहा कि अगर जल्द ही बारिश नहीं बंद हुई तो किसानों को धान की फसल में लाखों रुपये का नुकसान होगा। साथ ही इस बारिश से जानवरों को हरा चारा भी नहीं मिल पा रहा है। भारी बरिश के चलते धान, लाहा, आलू, बाजरा की फसल पर भी असर हुआ है।

खेतों में पानी भरने से फसलें चौपट हो गई हैं।
खेतों में पानी भरने से फसलें चौपट हो गई हैं।
बुलंदशहर में धान खरीदी केंद्र में पानी भर जाने से धान खराब हो गई।
बुलंदशहर में धान खरीदी केंद्र में पानी भर जाने से धान खराब हो गई।
खबरें और भी हैं...