लखनऊ में हुई तेज बारिश:अमेठी, सोनभद्र, लखीमपुर खीरी सहित 15 जिले में बरसात का रेड अलर्ट, अब तक 44% कम पानी बरसा

लखनऊ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये तस्वीर मंगलवार दोपहर एक बजे परिवर्तन चौक की है। आधे घंटे तक यहां झमाझम बारिश हुई। - Dainik Bhaskar
ये तस्वीर मंगलवार दोपहर एक बजे परिवर्तन चौक की है। आधे घंटे तक यहां झमाझम बारिश हुई।

लखनऊ में मंगलवार दोपहर तेज बारिश हुई। करीब आधे घंटे तक हुई झमाझम बारिश के बाद मौसम सुहाना हो गया। जौनपुर, प्रतापगढ़, फतेहपुर, रायबरेली, उन्नाव, अमेठी, सुल्तानपुर, अयोध्या, सीतापुर, सोनभद्र, बाराबंकी, अम्बेडकर नगर, लखीमपुर खीरी सहित 15 जिले में आज बारिश का रेड अलर्ट जारी है। मानसून के पीक माह में 44% कम बारिश हुई थी। बीते 24 घंटे में 4.1 मिली मीटर बारिश हुई है।

जून, जुलाई से अगस्त में हुई ज्यादा बारिश
मौसम विभाग यूपी के निदेशक जेपी गुप्ता बताते हैं कि, जून, जुलाई की अपेक्षा अगस्त महीने में अच्छी बरसात हुई है। जून में 87 मिली मीटर, जुलाई में 102 मिली मीटर बारिश पूरे प्रदेश में हुई थी। तो अगस्त महीने में 136 मिली मीटर बारिश रिकॉर्ड हुई है। निदेशक जेपी गुप्ता का मानना है कि सितम्बर में बारिश होने का अनुमान है। लेकिन ज्यादा बारिश नहीं होगी।

ये तस्वीर मनगलवार सुबह की है। ये लखनऊ का विधानसभा मार्ग है।
ये तस्वीर मनगलवार सुबह की है। ये लखनऊ का विधानसभा मार्ग है।

अब तक बारिश होने का रिकार्ड
इस साल मानसून शुरु होने से अब तक 326.2 मिली मीटर बारिश हुई है। जबकि अनुमान लगाया गया था कि 583.3 मिली मीटर बारिश होगी। अनुमान से 44 प्रतिशत बारिश अब कम हुई है। बीते 24 घंटे में बारिश 4.1 मिली मीटर रिकॉर्ड की गई है। जो कि 6 मिली मीटर होने का अनुमान था। जो कि 32 प्रतिशत कम बारिश हुई है।

लखनऊ में बारिश का हाल
लखनऊ में इस साल अब तक औसत अनुमान से अब तक 37 प्रतिशत कम बारिश हुई है। जबकि बीते 24 घंटे में 1.4 मिली मीटर बारिश हुई। 3.8 मिली मीटर बारिश होने का अनुमान था। 64 प्रतिशत बारिश कम हुई है।

लखनऊ, अयोध्या समेत 15 जिले में रेड अलर्ट
मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी करते हुए मंगलवार को भारी बारिश होने का अनुमान लगाया है। जौनपुर, प्रतापगढ़, फतेहपुर, रायबरेली, उन्नाव, अमेठी, सुल्तानपुर, अयोध्या, सीतापुर, सोनभद्र, बाराबंकी , बहराइच, अम्बेडकर नगर, हरदोई और लखीमपुर खीरी जिले शामिल है। यहां पर बिजली की गरज चमक के साथ 70 किलो मीटर प्रति घंटे के अनुमान से हवाएं भी चल सकती है।