UP में 'प्रवासी' करेंगे BJP का बेड़ा पार!:मिशन 2022 के लिए महाराष्ट्र में बन रहा यूपी के मूल निवासियों का डेटाबेस, वहां करीब 1.45 करोड़ लोग उत्तर भारत के हैं

लखनऊ2 महीने पहले

कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों के पलायन की तस्वीरें अभी भी लोगों के जेहन में जरूर होंगी। सियासत और नाकामी की वजह से यूपी-बिहार के लाखों लोग महाराष्ट्र-दिल्ली से पैदल ही अपने घरों की तरफ निकल पड़े थे। अब भाजपा महाराष्ट्र में रहने वाले यूपी के मूल निवासियों को यूपी जीतने में मदद लेने की योजना बना रही है। कारण महाराष्ट्र की आबादी का करीब 10 फीसदी (1.45 करोड़) उत्तर भारत से हैं। वे या तो बिहार से हैं या यूपी से।

महाराष्ट्र भाजपा की एक शाखा उत्तर भारतीय मोर्चा ने महाराष्ट्र में यूपी के रहने वाले लोगों की मैपिंग शुरू कर दी है। मोर्चा के एक प्रतिनिधि मंडल ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह से लखनऊ में मुलाकात की। दावा किया कि महाराष्ट्र में रहने वाले यूपी के लोग फिर से सीएम योगी की सरकार बनाने में पार्टी की मदद करना चाहते हैं। कोरोना काल में जिन मजदूरों को यूपी में काम मिला, वही अब विधानसभा चुनाव में जीत की राह आसान करेंगे।

यूपी वालों से गूगल फार्म भरवाया जा रहा

उतर-भारतीय मोर्चा उन सभी लोगों का एक डेटाबेस तैयार कर रहा है, जो विधानसभा चुनाव में यूपी आना चाहते हैं। महाराष्ट्र के अलग-अलग जिलों में रहने वाले, डाॅक्टर, इंजीनियर, उद्योगपति, व्यवसायी और बाकी प्रोफेशनल्स की एक लिस्ट तैयार की जा रही है। इन सभी से गूगल फार्म भरवाया जा रहा है। इसमें महाराष्ट्र में रहने वाले उतर-भारतीयों को अपना नाम ,फोन नंबर और वर्तमान पते के साथ ही अपने गृह जनपद का नाम भी लिखना होगा।

स्वतंत्रदेव सिंह ने मोर्चे को भरोसा दिलाया कि महाराष्ट्र में रह रहे यूपी के लोगों और उनके परिवार की मदद के लिए संगठन के एक पदाधिकारी को जिम्मेदारी दी जाएगी।
स्वतंत्रदेव सिंह ने मोर्चे को भरोसा दिलाया कि महाराष्ट्र में रह रहे यूपी के लोगों और उनके परिवार की मदद के लिए संगठन के एक पदाधिकारी को जिम्मेदारी दी जाएगी।

प्रवासी करेंगे तन-मन-धन से मदद
उत्तर-भारतीय मोर्चें की प्रदेश प्रवक्ता श्वेता शालिनी ने दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए कहा, महाराष्ट्र में बसा यूपी का हर नागरिक योगी आदित्यनाथ को दोबारा सीएम के रूप में देखना चाहता है। यूपी में भाजपा की ऐतिहासिक जीत के लिए हर प्रवासी तन-मन-धन से मदद करना चाहता है। इसी सिलसिले में मोर्चे के एक प्रतिनिधि मंडल ने सीएम योगी, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और संगठन मंत्री सुनील बंसल से मुलाकात कर इजाजत मांगी है।

बनारस में PM मोदी का गुजारत वालों ने किया था प्रचार
2014 के लोकसभा चुनाव में गुजरात में रहने वाले यूपी वालों ने वाराणसी आकर मोदी के लिए माहौल बनाया था। ठीक उसी तरह इस बार महाराष्ट्र में रहने वाले यूपी के लोग अपने प्रदेश में चुनाव के दौरान आकर लोगों को जोड़ेंगे, छोटी छोटी जनसभाएं करेंगे और भाजपा के लिए वोट मांगने का काम भी करेंगे। इससे महाराष्ट्र में रहने वाले उत्तर-भारतीयों का महत्व भी समझ में आएगा। माना जा रहा है कि इनका प्रभाव चुनाव पर पड़ेगा।

भाजपा प्रवासी प्रभारी की भी की तैनाती
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता हीरो बाजपेयी का कहना है की पार्टी अपने हर चुनाव में प्रवासी प्रभारी भी बनाती हैं। ये प्रभारी दूसरे राज्यों से आते हैं। उत्तर-प्रदेश के आस पास के राज्य जैसे बिहार, मध्य-प्रदेश, राज्स्थान के संगठन को पदाधिकारियों को प्रवासी प्रभारी बनाया जाता है। चुनाव के अंतिम महीनें में ये विधानसभा में रहकर अपना फीडबैक देते हैं, जिसके आधार पर चुनाव जीतने की रणनीति बनाई जाती है, या फिर रणनीति मे बदलाव किया जाता है।

खबरें और भी हैं...