सड़क सुरक्षा माह का शुभारंभ:CM योगी ने दिलाई शपथ: बोले- पहले सप्ताह जागरूक किया जाए, फिर नियमों का कड़ाई से कराया जाए अनुपालन

लखनऊ2 वर्ष पहले
लखनऊ में सड़क सुरक्षा माह और परिवहन विभाग की परियोजनाओं का लाकार्पण एवं शिलान्यास सीएम योगी ने किया।
  • मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित कार्यक्रम में परिवहन मंत्री अशोक कटारिया समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सड़क सुरक्षा माह और परिवहन विभाग की परियोजनाओं का लोकार्पण, शिलान्यास गुरुवार को CM आवास पर मुख्यमंत्री योगी ने किया। सुरक्षा माह का शुभारंभ के साथ नियमों के पालन करने के लिए सभी को शपथ दिलायी गई। योगी ने कहा कि पहले लोगों को जागरुक करने का प्रयास करें फिर उसके बाद नियमों का कड़ाई से अनुपालन करवाएं।

इस मौके पर योगी ने कहा कि, बीते 3 साल में हमने घटनाएं रोकने के लिए बहुत सी सावधानी बरती है और प्रयास किए हैं। जिससे घटनाएं रुकी और कम भी हुई हैं। योगी ने कहा कि परिवहन निगम व अन्य विभाग के अधिकारी पहले सप्ताह जागरूकता अभियान चलाएं उसके बाद नियमों का कड़ाई से पालन न करने के लिए चालान करें

मुख्यमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि, सड़क सुरक्षा माह के शुभारंभ कार्यक्रम में उपस्थित सभी का स्वागत और अभिनन्दन सभी संबंधित अधिकारियों को धन्यवाद देता हूँ। सड़क सुरक्षा हमारे लिए कितनी महत्वपूर्ण है, इससे इसी से पता चलता है कि सड़क दुर्घटना की इतनी घटनाएं होती हैं, मौतें रोकी जा सकती हैं। बस थोड़ी सी सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

पिछले तीन वर्षों में कई कदम उठाए गए

योगी ने कहा कि 20 फरवरी तक हर जिले में अनवरत प्रदेश में कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसमे परिवहन, स्वास्थ्य,स्कूल कॉलेज सभी शामिल होंगे, इसके लिए जागरूकता कार्यक्रम करना होंगे, सड़क दुर्घटनाओं के लिए जो कारक हैं। हमने पिछले साढ़े 3 वर्षों में कई कदम उठाए हैं। 2018, 19 और 20 के आंकड़ों में काफी अंतर दिखाई पड़ा है लेकिन काफी काम करने हैं। इसके लिए सड़क निर्माण से जुड़ी संस्थाएं हैं। चाहे लोक निर्माण विभाग या राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण हों सभी को इस के कारण चिन्हित करने की आवश्यकता है।

सभी ने ली यह शपथ

"हम प्रतिज्ञा करते हैं कि हम सड़क सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए अपनी ओर से पूरा प्रयास करेंगे,तथा दोपहिया वाहन चलाते समय हमेशा हेलमेट पहनेंगे,कभी कभी शराब पीकर गाड़ी नही चलाएंगे,कार चलाते समय हमेशा सीट बेल्ट पहनेंगे, वाहन चलाते समय कभी कभी भी मोबाइल फोन पर बात नही करेंगे,तथा न कोई मैसेज भेजेंगे और न ही देखेंगे, हमेशा ट्रैफिक नियमो का पालन करेंगे,तथा अपने परिजनों से पालन कराएंगे,सड़क दुर्घटना पीड़ितों की मदद करने हेतु सदैव तत्तपर रहेंगे।"

खबरें और भी हैं...