100 शोधार्थियों को सीएम ने दिया टैबलेट:योगी बोले- अच्छा काम करने वालों को एज रिलेक्सेशन और एक्स्ट्रा वेटेज देकर प्रशासनिक सेवाओं में भेजा जाएगा

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीएम योगी मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम के अंतर्गत नए चयनित 100 अभ्यर्थियों को टैबलेट दिया। लोकभवन में हुए इस कार्यक्रम में दोनों उपमुख्यमंत्री मौजूद रहे। शोधार्थियों को टैबलेट वितरण कार्यक्रम में सीएम ने कहा कि 100 शोधार्थियों को टैबलेट देकर 100 विकास खंड में भेजा जाएगा।

लगभग 25 करोड़ की जनसंख्या वाले राज्य की 75 प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रह रही है। सभी शोधार्थी गांव में काम करेंगे।

सीएम फेलोशिप कार्यक्रम में सीएम के साथ दोनों डिप्टी सीएम भी शामिल रहे।
सीएम फेलोशिप कार्यक्रम में सीएम के साथ दोनों डिप्टी सीएम भी शामिल रहे।

''सरकारी सेवाओं में दिया जाएगा अवसर''
सीएम योगी आदित्यनाथ ने इन मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम के शोधार्थियों के लिए बड़ी घोषणा की। सीएम ने कहा कि अच्छा काम करने वाले शोधार्थियों को प्रशासनिक सेवाओं में अवसर मिलेगा। एज रिलेक्सेशन और एक्स्ट्रा वेटेज देकर सरकारी सेवा में बेहतर अवसर दिया जाएगा। अच्छा कार्य करने वाले ये शोधार्थी सरकारी सेवा में लिए जाएंगे। सीएम ने आगे कहा कि इस प्रकार के शोधार्थियों को नगर विकास के क्षेत्र में भी अवसर मिलेगा। फिलहाल यह सभी ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए तैनात किए जा रहे हैं।

सीएम बोले- यंग जेनरेशन में है बदलाव लाने की ताकत।
सीएम बोले- यंग जेनरेशन में है बदलाव लाने की ताकत।

देश के टॉप टेन में 5 जनपद यूपी के आये सीएम ने कहा कि हमारी प्रशासनिक टीम ने अच्छा काम किया है। टॉप 20 में यूपी के आठों आकांक्षात्मक जनपद आये है। अब 826 ब्लॉकों में से 100 आकांक्षात्मक ब्लॉक चुने गए है। इन्ही ब्लॉक्स में इन 100 शोधार्थियों को काम करना है।जो विकासखंड विकास में छूट गए हैं उनमें ये प्रशिक्षार्थी उनकी विकास के लिए काम करेंगे।प्रधानमंत्री द्वारा 600 आकांक्षातमक जनपदो के लिए लक्ष्य तय किये गए थे,उत्तरप्रदेश में 8 जनपद थे, इनके लिए हमने नीति आयोग के साथ मिलकर कार्य शुरू किए है।

लोक-भवन में 100 शोधार्थियों को दिया गया टैबलेट।
लोक-भवन में 100 शोधार्थियों को दिया गया टैबलेट।

सरकार के पास पैसे की कमी नही है-CM योगी
यूपी में पैसे की कमी नही है,कमी संयोजन की है,इसके साथ काम करने से परिणाम आते हैं। सीएम ने कहा कि हमने नियोजन विभाग में डैशबोर्ड का गठन किया। इसके लिए 26 हजार आवेदन आये, जगह सिर्फ 100 थी,लेकिन इतने ज्यादा आवेदन आये। आप 100 फेलो के लिए ये शोध का अवसर है। प्राचीन समय मे ग्रामीण व्यवस्था में आत्मनिर्भरता ही एक आधार था। हम अपने कार्यो का डॉक्यूमेंटशन नही कर पाते,डाटा कलेक्शन नही कर पाते,यही हमारी कमी है।