जीत के बावजूद घटती सीटों पर PM की चिंता:4 घंटे तक योगी के मंत्रियों को देते रहे नसीहत,सरकार विरोधी लहरों से निपटने के लिए दिया 23 साल के अनुभव वाला मंत्र

लखनऊ3 महीने पहलेलेखक: विनोद मिश्र
  • कॉपी लिंक

सोमवार की शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ में सीएम आवास करीब 4 घंटे बिताए। इस दौरान पीएम ने योगी सरकार के मंत्रियों के साथ सरकार, सुशासन और उनके काम-काज के तरीकों को लेकर बात की। लेकिन सूत्रों की माने तो इस बातचीत में पीएम का सबसे ज्यादा फोकस यूपी में लगातार मिल रही जीत के बावजूद घट रही सीटों की संख्या पर था। सरकार चलाने के 23 साल के अनुभव के आधार पर पीएम मोदी ने मिशन 2024 में 2014 वाले करिश्मे को दोहराने पर बल दिया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने सरकार के एंटी इंकम्बेंसी को लेकर खुल कर बात की। सूत्रों की माने तो सरकार में रहते हुए कैसे सरकार विरोधी माहौल को बहुत हद तक कम किया जा सकता है, इसको लेकर अपने अनुभव भी शेयर किए। साथ ही पिछले 4 चुनावों में मिली जीत के साथ ही लगातार घट रही सीटों की संख्या को लेकर भी चिंता जाहिर की।

सरकार तो बन रही है, लेकिन सीटें क्यों कम रही है

साल 2014 में यूपी में भाजपा ने लोकसभा की 80 सीटों में से 78 सीटों पर चुनाव लड़ कर 71 सीटें जीतीं थी। साथ ही भाजपा के सहयोगी दल अपना दल-एस ने भी दो सीटे जीती थी। इस तरह एनडीए ने 80 में से 73 सीटे जीत कर इतिहास रचा था। इसके बाद 2017 में विधानसभा चुनाव में भी भाजपा गठबंधन ने 325 सीटें जीत कर सरकार बनाई। इसके बाद से हुए चुनाव में भाजपा की सरकार तो बन रही है, लेकिन सीटों की संख्या लगातार घट रही है। 2017 में हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 62 सीटें जीती और इस तरह 9 सीटें कम हुई, जबकि 2022 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 255 सीटों के साथ वापसी की। इस बार करीब 70 सीटों का नुकसान हुआ। पीएम मोदी की चिंता सीटों के घटने के इसी ट्रेंड पर को लेकर थी।

पीएम मोदी ने साझा किया सरकार चलाने का 23 साल का अनुभव

पीएम मोदी ने योगी सरकार के मंत्रियों के साथ बैठक में अपने 23 साल के सरकार चलाने का अनुभव शेयर किया। इसके पीछे मकसद यह बताना था कि सरकार में रहते हुए भी अपने काम काज के तरीकों और खुद की बेहतर छवि से एंटी इंकम्बेंसी को कैसे कम किया जा सकता है। यूपी में हुए पिछले 4 चुनावों में भाजपा लगातार जीत हासिल कर रही है, लेकिन सीटों की संख्या कम होती जा ही है। पीएम का जोर हर जीत के साथ सीटों की संख्या बढ़ाने पर था। माना जा रहा है कि पीएम 2024 में यूपी में सरकार विरोधी माहौल नही चाहते है।

जीत के साथ सीट का अंतर कम करने की तैयारी

देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में बीजेपी दोबारा सत्ता में तो काबिज हो गई लेकिन उसकी सीटें पहले के मुकाबले कम हो गईं। दो साल बाद होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए पार्टी की सीटें कम होना, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए चिंता का विषय बन गया, लिहाजा उन्होंने बीजेपी की यूपी इकाई से पूछा था कि आखिर ऐसा क्यों हुआ और इसके पीछे क्या-क्या खास वजह रही, ये उन्हें विस्तार से बताया जाए। इस पर यूपी बीजेपी ने पीएम मोदी को 80 पेज की रिपोर्ट की रिपोर्ट भेजी थी। सूत्रों की मानें तो पीएम ने इस रिपोर्ट के आधार पर 2024 में सीटों की संख्या बढ़ाने के टिप्स भी दिए है।

योगी के मंत्रियों के लाइफ-स्टाइल पर भी पीएम ने की बात
इतना ही नही पीएम मोदी ने योगी सरकार के मंत्रियों से उनके लाइफ-स्टाइल के बारे में भी जानकारी ली। 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर विभिन्न विभागों की सौ दिन और छह माह की कार्ययोजना का संक्षिप्त ब्योरा संबंधित मंत्रियों से लिया। उनका जोर था कि मंत्री इस तरह से काम करते रहें कि सरकार की जन-हितकारी योजनाओं का लाभ गरीबों तक पहुंचे और उनका विश्वास सरकार के प्रति और मजबूत हो। पीएम ने इस दौरान मंत्रियों को जनता के कामों को सर्वोपरि रखने की नसीहत दी।