बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने रखा उपवास:महोबा की आल्हा चौक पर बैठे, योगी सरकार को दी चेतावनी, पहले भी कर चुके हैं 635 दिन का अनशन

महोबा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने रखा उपवास। - Dainik Bhaskar
बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने रखा उपवास।

महोबा में बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने शनिवार को मध्यम वर्ग के उत्पीड़न के खिलाफ आल्हा चौक पर उपवास रखा। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कहा कि वे मध्यम वर्ग की और उपेक्षा न करें वरना 2022 में उनको इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल की मार सबसे ज्यादा मध्यम वर्ग पर पड़ी है, लेकिन सरकार ने उसे कोई राहत नहीं दी है।

सरकार से कहा- मध्यम वर्ग को फायदे पहुंचाने के लिए योजनाएं लाएं

उपवास रखकर उन्होंने मध्यम वर्ग को फायदा पहुंचाने वाली योजनाएं लाने के लिए कहा। बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर लगातार 635 दिन अनशन कर चुके बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने बताया कि उनका यह उपवास एक हफ्ते तक आल्हा चौक पर चलेगा। उसके बाद वे चरखारी, कुलपहाड़, बेलाताल, कबरई और श्रीनगर में एक-एक दिन का उपवास करेंगे।

महंगाई से लोगों को राहत दे सरकार

इस दौरान वो लोगों की समस्याओं को डीएम, विधायक और सांसद के माध्यम से शासन तक पहुंचाएंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि वे बुंदेलखंड के मध्यम वर्ग को राहत पहुंचाने के लिए तत्काल बिजली बिल माफ करें। साथ ही अस्पतालों में डाक्टर और अन्य स्टाफ की कमी को जल्दी से जल्दी पूरा करें।

महंगाई से लोगों को राहत देने के लिए खाद्य पदार्थों, डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस के दामों में कमी करें। उपवास में उनका साथ देने के लिए बुंदेली समाज के महामंत्री डा. अजय बरसैया, देवेन्द्र तिवारी, गया प्रसाद, जसवंत सिंह सेंगर, सुरेश बुंदेलखंडी, हरिओम निषाद, अरूण तिवारी और आनंद सोनी समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...