महावन में चौरासी खम्बा मंदिर पर उड़ा गुलाल:छायौ उल्हास हुरियारिन ने प्रेम पगी छड़ियां बरसाई, हुरियारे हुए आनंदित

महावन9 दिन पहले

महावन के चौरासी खम्मा मंदिर परिसर में होली की आभा अद्भुत थी। अबीर गुलाल से सतरंगी छटा बिखेरी हुई थी हुरंगा में श्रृद्धालु मस्ती में सरोवर होकर आंनद ले रहे थे। हुरियारिन प्रेम से पगी छड़ियां हुरियारों पर बरसा रही थी चोरों तरफ कृष्ण बलराम के जयघोषों से परिसर गूंज उठा था।

चौरासी खम्मा मंदिर के परिसर में सुबह से ही होली के हुरंगा का उल्हास बना हुआ था। सुबह चार बजे से छह बजे तक ठाकुर जी का पंचामृत से अभिषेक किया गया जिसमें दूध, दही, शहद, बूरा, यमुना जल, गंगाजल, एवं फलों के रस मिलाकर महामंडलेश्वर अयोध्या दास त्यागी महाराज द्वारा किया गया।

छप्पन भोग लगा कर ठाकुर जी की हुई आरती

दोपहर तीन बजे बस स्टैंड धर्मशाला से कृष्ण बलराम के स्वरुपों के साथ डोला निकाला गया डोला चौरासी खम्मा धर्मशाला से बंदी दरबाजा होकर पनियां ढाल, मल्लाह पाडा, परशुराम मंदिर होकर चौरासी खम्मा मंदिर के प्रांगण में पहुंचे। गली मोहल्ले में ठाकुर जी का ग्रामीणों द्वारा पुष्प वर्षा कर जगह जगह स्वागत किया गया ग्रामीणों ने जगह जगह स्वागत के साथ ठंडाई लोगों को पिलाई गई। चौरासी खम्मा मंदिर के होली प्रांगण में होली खेलने के लिए गांव गांव से महिलाएं सज धज कर अपने हाथों में छड़ी लेकर होली खेलने के लिए तैयार खड़ी हुई थी जैसे ही हुरियारे होली प्रांगण में पहुंचे महिलाओं ने प्रेम से पगी छड़ियां मारने लगी, हुरियारे अपने लठ्ठ पर छड़ियों को लेकर होली खेलने लगे।

गुलाल की होली का शुभारंभ

होली मंच से मंदिर के सेवायत पुजारी रवि पाराशर ने फूलों एवं गुलाल की होली का शुभारंभ किया चौरासी खम्मा मंदिर के होली प्रांगण में कृष्ण बलराम के स्वरूप गोपियों से होली खेल रहे थे प्रांगण में ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो द्वापर युग पुनः जीवित हो गया हो। कृष्ण बलराम के स्वरूपों पर पुष्प वर्षा कर होली खेली। होली प्रांगण में जो मोते न खेली होरी तो तेरी मेरी कट्टी हो जायेंगी, मेरो खोय गयौ बाजूबंद रसिया होरी में, आदि होरी के गीतों पर श्रृद्धालु नृत्य करते रहे।

इस दौरान ये लोग रहे उपस्थित

इस दौरान एसडीएम महावन नीलम श्रीवास्तव, तहसीलदार विवेक शील यादव,नायब तहसीलदार साबिका शर्मा,कमेंठी अध्यक्ष जगन पाठक, कोषाध्यक्ष गोपाल तिवारी, मंत्री चंद्र प्रकाश लोहबनियां, कृष्ण कुमार दीक्षित, घनश्याम दास, चंद्र प्रकाश पाठक, किशन मिश्रा, रवि पाराशर, तन्नू उपाध्याय, रामा पांडे, भवनेश शर्मा, प्रदीप सारस्वत, दिनेश स्वामी, रुप किशोर शर्मा, कन्हैया मिश्रा, लाडली प्रसाद पांडे, अमर नाथ लोहबनियां, राम स्वामी, आलोक सारस्वत, अशोक गौड़, रामकुमार गौड़ यतेंद्र गौड़, कन्हैया पाठक, चेतन शर्मा, हरीश शर्मा, ऋषि स्वामी, सुनील शर्मा, सोनू शर्मा, लव कुमार शर्मा, पप्पन उपाध्याय आदि भक्त मौजूद थे।

सात सौ महिलाओं को दिया गया फऊआ (बर्तन एवं मिठाई) मंदिर कमेंठी द्वारा महावन के आसपास के गांव आनंद गढ़ी, नगला सेवा, कृष्णापुरी, नगला सांवरिया, नूरपुर आदि गांवों की महिलाओं को मंदिर कमेंठी की ओर से न्यौता भेजा गया था सभी महिलाओं को फऊआ घर घर भेजा गया।

खबरें और भी हैं...