जबरन विवाह कर लाई बालिका को कराया मुक्त:AHTU और चाइल्डलाइन टीम ने की कार्यवाही, मथुरा के थाना छाता क्षेत्र से कराई बालिका मुक्त

मथुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बालिका की सुचना पर एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट और चाइल्ड लाइन की टीम ने कार्यवाही करते हुए जबरन विवाह कर लाइ बालिका को बरामद किया - Dainik Bhaskar
बालिका की सुचना पर एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट और चाइल्ड लाइन की टीम ने कार्यवाही करते हुए जबरन विवाह कर लाइ बालिका को बरामद किया

एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट और चाइल्ड लाइन की टीम ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए जबरन विवाह कर लाई गई बालिका को सूचना मिलने के बाद मुक्त कराया।बालिका को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से शादी कर मथुरा लाया गया था। बालिका ने चाइल्ड लाइन के टोल फ्री नम्बर पर फोन कर सहायता मांगी जिसके बाद कार्यवाही की गई।

छत्तीसगढ़ के जांजगीर की रहने वाली है बालिका

चाइल्ड लाइन के टोल फ्री नम्बर 1098 पर एक लड़की ने सूचना दी कि वह नाबालिग है और उसका जबरन विवाह किया गया है ।सूचना मिलने के बाद AHTU और चाइल्ड लाइन की टीम ने कार्यवाही करते हुए थाना छाता क्षेत्र के कन्न वाला चौक के रहने वाले राम ( काल्पनिक नाम) के यहाँ छापा मारा । जहां से छत्तीसगढ़ के जांजगीर की रहने वाली नाबालिग लड़की को बरामद किया ।

शादी के लिए किया था दलाल को ऑनलाइन पेमेंट

छाता कस्बे के रहने वाले राम ( काल्पनिक नाम) की शादी नहीं हो रही थी।करीब 38 वर्षीय राम के परिवार ने कस्बे के ही रहने वाले केशरिया नाम के व्यक्ति से शादी कराने के लिए सम्पर्क किया।केशरिया ने अपनी ससुराल बांदा में बोला।जहां उसकी पत्नी के भतीजे ने छतीसगढ़ बिलासपुर की रहने वाली मंजू तिवारी से सम्पर्क किया । जिसके बाद मंजू तिवारी नाम की महिला ने 11 सितम्बर को जांजगीर की रहने वाली नाबालिग लड़की से राम की शादी करा दी। राम के परिजनों ने चाइल्डलाइन टीम को बताया कि उसने इस शादी के लिए 50000 रुपये नगद और 32000 रुपये फोन पे के जरिये ऑनलाइन पैसा मंजू तिवारी को दिया।

बंधक बनाकर शादी कराने का आरोप

AHTU और चाइल्डलाइन टीम द्वारा मुक्त कराई बालिका ने बताया कि वह जांजगीर से अपनी किसी मित्र से मिलने बिलासपुर आई।जहां उसकी मुलाकात मंजू तिवारी नाम की महिला से हुई।जिसने उसे अपनी बीमारी का बहाना बनाकर घर पर रख लिया।इसके बाद मंजू तिवारी ने मथुरा से पहुंचे राम और उसके परिवार के सामने बालिका को दिखाया जिसके बाद पसन्द आने पर उसने शादी होने तक बंधक बनाकर रखा।

बालिका को भेजा राजकीय महिला शरणालय

टीम द्वारा बालिका को बरामद कर बाल कल्याण समिति के सामने प्रस्तुत किया। जिसके बाद समिति ने बालिका को राजकीय महिला शरणालय भेज दिया।चाइल्डलाइन के कॉर्डिनेटर नरेंद्र परिहार ने बताया कि बालिका से मिली जानकारी के बाद जब परिजनों से बात की तो उन्होंने बताया कि उनकी बेटी गायब है जिसकी शिकायत सम्बन्धित थाने पर की गई है।नरेंद्र परिहार के अनुसार यह मामला मानव तश्करी से जुड़ा हो सकता है जिसमे कुछ लोग भोले भाले लोगों को फंसा कर इस तरह शादी करा देते हैं।