हिन्दू महासभा ने शाही ईदगाह में आरती का किया एलान:10 दिसंबर को बाल गोपाल को विराजमान कर जलाभिषेक के लिए प्रशासन से मांगी अनुमति

मथुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला प्रशासन को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि प्रशासन जलाभिषेक में सहयोग करें, ऐसा नहीं करने पर भक्त आंदोलन करेंगे।  - Dainik Bhaskar
जिला प्रशासन को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि प्रशासन जलाभिषेक में सहयोग करें, ऐसा नहीं करने पर भक्त आंदोलन करेंगे। 

अखिल भारत हिंदू महासभा एक बार फिर से चर्चा में है। एक बार फिर संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री ने शाही ईदगाह मस्जिद परिसर में लड्डू गोपाल का जलाभिषेक और आरती करने का ऐलान किया है। इसके लिए हिंदू महासभा की ओर से प्रशासन से 10 दिसंबर को 10 मिनट के लिए अनुमति मांगी गई है। जिला प्रशासन को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि प्रशासन जलाभिषेक में सहयोग करें, ऐसा नहीं करने पर भक्त आंदोलन करेंगे।

अनुमति नहीं देने पर आंदोलन की चेतावनी

अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री का मंगलवार को एक वीडियो सामने आया है। जिसमें वे बता रही है कि उन्होंने जिला अधिकारी मथुरा को ईमेल किया है। 10 दिसंबर विश्व मानवाधिकार दिवस पर 10 मिनट के लिए बालगोपाल जी को उनके असली जन्म स्थान पर 10 मिनट के लिए बैठाकर आरती करने की अनुमति मांगी है।

राजश्री ने कहा कि अगर जिलाधिकारी या प्रशासन की तरफ से 10 दिसंबर को सहयोग किया जाएगा तो हम सब संतुष्ट हो जाएंगे और खुशी मनाएंगे। लेकिन लड्डू गोपाल के जलाभिषेक और आरती करने की अनुमति प्रशासन की ओर से नहीं दी गई तो अखिल भारतीय हिंदू महासभा देश भर में आंदोलन करेगा।

6 दिसम्बर को किए गए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

अखिल भारत हिन्दू महासभा ने इससे पहले 6 दिसंबर को शाही ईदगाह में बाल गोपाल के जलाभिषेक की घोषणा की थी। लेकिन प्रशासन ने कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी। एहतियात के तौर पर इलाके में धारा 144 लगा दी थी। इसके साथ ही पुलिस ने पूरे क्षेत्र में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए। उत्तर प्रदेश पुलिस के अलावा पीएसी और अर्ध सैनिक बल के जवान चप्पे चप्पे पर तैनात रहे। 6 दिसंबर की तारीख गुजरने के साथ ही प्रशासन ने राहत की सांस ली। लेकिन 7 दिसंबर की सुबह एक बार फिर अखिल भारत हिन्दू महासभा के एलान के बाद प्रशासन हरकत में आ गया है। सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है।