• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Mathura
  • Devotees Will Not Get Entry In Rang Nath Temple Of Vrindavan On Baikunth Ekadashi, Temple Management Has Decided In View Of The Increasing Outbreak Of Corona

मथुरा में धार्मिक कार्यक्रमों पर कोरोना का साया:वृंदावन के रंग नाथ मंदिर में बैकुंठ एकादशी पर श्रद्धालुओं को नहीं मिलेगा प्रवेश

मथुरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्री रंगनाथ मंदिर में बैकुंठ दरवाजा, जो बैकुंठ एकादशी पर खुलता है। - Dainik Bhaskar
श्री रंगनाथ मंदिर में बैकुंठ दरवाजा, जो बैकुंठ एकादशी पर खुलता है।

कोरोना का प्रभाव अब धार्मिक आयोजनों पर भी पड़ने लगा है। उत्तर भारत के विशाल रंग नाथ मंदिर में होने वाले बैकुंठ एकादशी उत्सव पर श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। मंदिर प्रबंधन ने यह निर्णय तेजी से फैल रहे कोरोना के संक्रमण को देखते हुए लिया है।

हालांकि, रंग नाथ मंदिर में वैसे तो साल भर उत्सव होते रहते हैं। मगर, इनमें कुछ ऐसे उत्सव भी हैं, जो श्रद्धालुओं के लिए काफी महत्व रखते हैं। ऐसा ही बैकुंठ उत्सव है। इसमें श्रद्धालु बैकुंठ एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में बैकुंठ द्वार से निकलते हैं और बैकुंठ वास की कामना करते हैं। इस बार यह उत्सव 13 जनवरी को मनाया जाएगा।

भगवान रंग नाथ पालकी में विराजमान होकर निकलते हैं

पौष महीने की दूसरी एकादशी को रंग नाथ मंदिर में बैकुंठ उत्सव मनाया जाता है। इसके तहत भगवान रंग नाथ (विष्णु जी) माता गोदा जी (लक्ष्मी जी) के साथ पालकी में विराजमान होकर बैकुंठ द्वार से निकलते हैं। यह उत्सव बैकुंठ एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में किया जाता है। भगवान के द्वार से निकलने के साथ भक्त भी उनके पीछे-पीछे निकलते हैं। यह परंपरा करीब 185 वर्ष से चल रही है। इस बार परंपरा का निर्वहन तो होगा, लेकिन श्रद्धालु नहीं निकल पाएंगे।

श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रहेगा प्रतिबंध

मंदिर की सीईओ अनघा श्री निवासन ने बताया कि कोरोना के केसों में लगातार इजाफा हो रहा है। उसको देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने बैकुंठ एकादशी पर श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी है। मंदिर में उत्सव पूरे विधि-विधान और परंपरा के अनुसार मनाया जाएगा, लेकिन श्रद्धालु उसमें नहीं रहेंगे।

बांके बिहारी मंदिर में भी बदली हुई है दर्शन की व्यवस्था

तीर्थ नगरी वृंदावन के विश्व प्रसिद्ध बांके बिहारी मंदिर में भी दर्शनों की व्यवस्था में बदलाव किया गया था। यहां श्रद्धालुओं को अब अपने आराध्य के दर्शनों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है। साथ ही RT-PCR रिपोर्ट नेगेटिव दिखानी पड़ती है।

सोमवार को मथुरा में कोरोना की स्थिति

मथुरा में पिछले 24 घंटे में 185 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही 24 घंटे में 6 लोग स्वस्थ हुए हैं। एक्टिव केसों का आंकड़ा 739 पर पहुंच गया है।

सांसद के प्रतिनिधि हुए कोरोना पॉजिटिव

सांसद हेमा मालिनी के मथुरा में प्रतिनिधि जनार्दन शर्मा भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। नोडल अधिकारी डॉ. भूदेव ने बताया कि सांसद हेमा मालिनी और उनके प्रतिनिधि का सैंपल लिया गया था। जांच में सांसद हेमा मालिनी की रिपोर्ट नेगेटिव आई, जबकि उनके प्रतिनिधि जनार्दन शर्मा की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने बताया कि वह होम आइसोलेट हैं और माइनर सिंप्टम्स हैं। कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट आने के बाद हेमा मालिनी मुंबई के लिए रवाना हो गईं।

खबरें और भी हैं...