मथुरा में बन्द बे असर:किसानों का बुलाया भारत बन्द मथुरा में बेअसर, सुबह से खुले बाजार ....आम दिनों की तरह बाजारों में दिखी भीड़

मथुरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मथुरा में बुलाये गए किसानों के बंद का असर कहीं भी दिखाई नहीं दिया , किसानों के प्रदर्शन के चलते सुरक्षा के इंतजाम रहे - Dainik Bhaskar
मथुरा में बुलाये गए किसानों के बंद का असर कहीं भी दिखाई नहीं दिया , किसानों के प्रदर्शन के चलते सुरक्षा के इंतजाम रहे

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसान यूनियन और नेता लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी विरोध प्रदर्शन के तहत सोमवार को भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट ने भारत बन्द का आह्वाहन किया था।किसान नेताओं द्वारा बुलाये गए भारत बन्द का मथुरा में कोई असर नहीं दिखाई दिया।

बाजारों में खरीददारी करते दिखे लोग

मथुरा में आम दिनों की तरह बाजार खुले और दिन चढ़ने के साथ ही लोग खरीददारी करने घरों से निकले। मथुरा का होलीगेट, कृष्णानगर, चौक बाजार, घीया मंडी सभी प्रमुख बाजारों में आम दिनों की तरह ही रौनक नजर आई।वृन्दावन में भी यही हाल था।यहां भी बाजार खुले और लोग खरीददारी करते नजर आए। मथुरा वृन्दावन में कोई किसान नेता भी नजर नहीं आया ।

एक्सप्रेस वे पर रहे सुरक्षा के इंतजाम

किसानों द्वारा यमुना एक्सप्रेस वे जाम की भी बात कही गयी। किसानों के चक्का जाम को देखते हुए एसपी देहात के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात रहा। बलदेव से लेकर नौहझील तक पुलिस मुस्तैद रही। दोपहर 11 बजे कुछ किसान नेता मांट टोल पर पहुंचे लेकिन यहां मौजूद पुलिस कर्मियों ने उन्हें समझाकर वापस कर दिया। किसान नेता यहां केवल नारेबाजी ही कर सके।

राजमार्ग और स्टेट मार्गों पर भी रही पुलिस की नजर

भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट भारतीय किसान यूनियन अम्बाबता गुट के पदाधिकारी 11 बजे अपने घर और कार्यालयों से एकत्र होकर निकले।किसान नेताओं ने मथुरा राया रोड पर कुछ देर के लिए जाम लगाया। इसी तरह मथुरा सादाबाद रोड पर भी ब्लेडव में कुछ देर के लिए रोड जाम किया।हालांकि दिल्ली आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग और स्टेट हाइवे पर पुलिस की तैनाती से देर तक जाम नही रह सका। किसान यूनियन अम्बाबता गुट के जिलाध्यक्ष राजकुमार तोमर ने बताया कि कृषि कानूनों को वापस न होने तक किसान आंदोलन करते रहेंगे।

खबरें और भी हैं...