मथुरा में संत गिरफ्तार:गिरफ्तारी से बचने को संत ने किया हाई वोल्टेज ड्रामा,संत के खिलाफ पड़ोसी महिला ने कराई थी एफआईआर

मथुराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस के आने के बाद आत्महत्या करने की धमकी देते संत - Dainik Bhaskar
पुलिस के आने के बाद आत्महत्या करने की धमकी देते संत

मथुरा के वृंदावन में बुधवार को संत ने गिरफ्तारी से बचने को हाइ वोल्टेज ड्रामा किया। आनंद वाटिका कॉलोनी में पुलिस जब महिला की शिकायत पर पुलिस संत को गिरफ्तार करने गयी तो उसने अपने आप को घर में बन्द कर लिया और पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए आत्मदाह की धमकी देने लगे। लेकिन काफी देर मशक्कत करने के बाद पुलिस ने आरोपी संत को गिरफ्तार कर लिया।

एक घण्टे तक चला ड्रामा

आनंद वाटिका कॉलोनी में बुधवार को करीब 11बजे सीओ सदर राममोहन शर्मा यहां रहने वाले एक सन्त देव मुरारी बापू को गिरफ्तार करने पुलिस बल के साथ पहुँचे। पुलिस के पहुंचते ही देव मुरारी बापू ने अपने आप को घर मे बन्द कर लिया और पुलिस पर सन्तों को आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाने लगे और हाथ व गला काटकर आत्महत्या की धमकी देने लगे। करीब एक घण्टे तक चले ड्रामे के बाद किसी तरह पुलिस ने देव मुरारी बापू को गिरफ्तार कर लिया।

यह है सारा मामला

देव मुरारी बापू के पड़ोस में रहने वाली एक महिला ने मंगलवार को वृंदावन कोतवाली में एक मुकद्दमा दर्ज कराया था। जिसमें महिला ने देव मुरारी बापू सहित 3 नामजदों पर मारपीट, छेड़छाड़ सहित कई गम्भीर धाराओं में मुकद्दमा दर्ज कराया था। इसी मामले को लेकर देव मुरारी बापू ने इसे झूठा बताते हुए खुद को फंसाने का आरोप लगाया था।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर 6 दिसम्बर को कार सेवा का किया था एलान

देव मुरारी बापू ने श्री कृष्ण जन्मस्थान को लेकर 6 दिसम्बर को वृन्दावन से शाही ईदगाह तक पदयात्रा निकालते हुए कार सेवा का एलान किया था। देव मुरारी बापू का आरोप है कि पुलिस उन्हें रोकने के लिए षड्यंत्र रच रही है। देव मुरारी बापू ने श्री कृष्ण जन्मभूमि निर्माण न्यास नाम का संघटन बनाया था। इसी संघटन के बैनर तले देव मुरारी बापू ने 6 दिसम्बर को कार सेवा का एलान किया था।

पुलिस बोली मुकद्दमे के बाद कई बार कहा पक्ष रखने को

करीब एक घण्टे तक मेहनत करने के बाद किसी तरह पुलिस ने देव मुरारी बापू को गिरफ्तार कर लिया। सीओ सदर राममोहन शर्मा ने बताया कि देवमुरारी बापू पर आरोप थे मारपीट के , छींटाकशी के। इन्होंने पुलिस को भी टारगेट किया जो भी दोषी अफसर हैं अगर गलत हैं तो उनके खिलाफ कार्यवाही करेंगे और सत्य असत्य जांच में आएगा। बापू से कल से आग्रह किया कि वह अपना पक्ष रखें लेकिन वह बाबाजी ने पक्ष नहीं रखा।