मथुरा में 40 देशों से आए 10 हजार विदेशी भक्त:हरे राधा-हरे कृष्णा के भजन पर नाच-गा रहे, अमेरिका की मारिया को याद है गीता

मथुरा6 महीने पहलेलेखक: आशीष उरमलिया और देवांशु तिवारी

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर मथुरा के सभी मंदिर श्रद्धालुओं से भर गए हैं। इसमें यूक्रेन, रूस, अमेरिका, इटली समेत 40 देशों से आए 10 हजार विदेशी भक्त भी हैं। यह सभी कृष्ण भक्ति में झूम रहे हैं। हरे राधा-हरे कृष्णा का उद्घोष करते हुए नाच रहे हैं। लोगों को भंडारे का अन्न परोस रहे हैं।

दैनिक भास्कर की टीम वृंदावन के इस्कॉन मंदिर पहुंची और वहां विदेशी श्रद्धालुओं से बात किया। उनकी कृष्ण भक्ति कुछ ऐसी थी कि सुनकर चकित रह गए। आइए जानते हैं।

8 साल से भगवत-गीता का पाठ कर रहीं मारिया
अमेरिका की मारिया जन्माष्टमी मानने के लिए वृंदावन के इस्कॉन मंदिर पहुंची हैं। उनके गले में छोटा स्पीकर है और वो 'हरे रामा-हरे कृष्णा' गा रही हैं। आपको कैसा लग रहा है? इस सवाल पर मारिया ने हंसते हुए अंग्रेजी में कहा, "अमेजिंग...एंड आई लव कृष्णा।"

वृंदावन के इस्कॉन मंदिर के सामने 'हरे-कृष्ण, हरे रामा' भजन गाती मारिया और उनके दोस्त।
वृंदावन के इस्कॉन मंदिर के सामने 'हरे-कृष्ण, हरे रामा' भजन गाती मारिया और उनके दोस्त।

लॉस एंजेलिस शहर की मारिया पिछले 8 साल से भगवत गीता का पाठ कर रही हैं। वो ISKCON ट्रस्ट से जुड़ी हुई हैं। चौथी बार जन्माष्टमी मनाने वृंदावन पहुंची मारिया ने बताया, "मेरा पूरा परिवार जन्माष्टमी मनाने वृंदावन आया है। हम हर साल मथुरा आते हैं। यहां 10 दिन तक कृष्ण के भजन गाते हैं और खूब नाचते हैं। मुझे कान्हा के भजन गाना अच्छा लगता है। इससे बहुत शांति मिलती है।"

यूक्रेन से आई हरिनामा परोस रही भंडारा
इस्कॉन मंदिर में श्रद्धालुओं को भंडारा परोस रहीं हरिनामा यूक्रेन से आई हैं। पिछले दो साल कोरोना के चलते नहीं आ पाईं। जबकि उसके पहले पांच साल से लगातार वृंदावन आती रही हैं। श्रद्धालुओं को प्रसाद देते हुए हर बार राधे-राधे कहना नहीं भूलती हैं। लगातार भारत आने कारण वह अब हिन्दी भी समझने लगी हैं। हालांकि बोल नहीं पाती हैं।

ये फोटो यूक्रेन से मथुरा आई हरिनामा की है। वह भक्तों को भंडारा में प्रसाद परोस रही हैं।
ये फोटो यूक्रेन से मथुरा आई हरिनामा की है। वह भक्तों को भंडारा में प्रसाद परोस रही हैं।

इस्कॉन मंदिर के अंदर...हरे कृष्णा पर झूम रहे भक्त
मंदिर के अंदर एक हिस्से में चारों तरफ विदेशी नजर आते हैं। हरे राधे-हरे कृष्णा गाते हुए सभी झूम रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के जॉर्डन और फ्लोरिडा एक किनारे बैठे फोटो खींच रहे थे। हमने बात की तो जवाब मिला, "दिस इज हॉली प्लेस, वी लव इट हियर।" इसका हिन्दी मतलब हुआ, यह बहुत अच्छी जगह है, हमें बहुत पसंद है। इसके बाद वह फोटो खींचने लगे।

ऑस्ट्रेलिया से आई फ्लोरिडा श्रद्धालुओं को खीर बांट रही थीं।
ऑस्ट्रेलिया से आई फ्लोरिडा श्रद्धालुओं को खीर बांट रही थीं।

अल्बर्टो बोले- मेरे लिए हर दिन जन्माष्टमी
सफेद भारतीय पोशाक पहने नजर आए इटली के फ्लोरेंस में जन्मे अल्बर्टो बलदीनी 20 साल से वृंदावन में हैं। दिन में 10 घंटे राधा-कृष्ण का जाप करते हैं। 2 घंटे गीता का पाठ करते हैं। अल्बर्टो ऑफ कैमरा बात करते हुए बताते हैं, "मेरे लिए कृष्ण ही सब कुछ हैं। उनकी भक्ति से शांति मिलती है। मेरे लिए हर दिन कृष्ण जन्माष्टमी है।"

विदेशी महिलाएं भारतीय कपड़ों को पहनकर मंदिर में राधा-कृष्ण की आराधना कर रही हैं।
विदेशी महिलाएं भारतीय कपड़ों को पहनकर मंदिर में राधा-कृष्ण की आराधना कर रही हैं।

12 वीं बार जन्माष्टमी मनाने मथुरा पहुंचे मलेशिया के स्टीव
मलेशिया के इपोह शहर के रहने वाले स्टीव ने कहा, “मैं वृंदावन जन्माष्टमी मनाने आया हूं। जब मलेशिया में रहता हूं तब भी भगवान कृष्ण की पूजा करता हूं। मैंने अपने घर में कृष्ण का मंदिर बना रखा है। लगातार 12 साल से कान्हा का बर्थडे मनाने वृंदावन आ रहा हूं। मैंने इंग्लिश में भगवत गीता को सुना है, गीता ने मुझे जीना सिखाया है।”

आखिर में आप इस्कॉन मंदिर के अंदर मौजूद विदेशी भक्तों का यह वीडियो देखिए।

मथुरा में 20 लाख श्रद्धालु पहुंचे
मथुरा में कृष्ण जन्माष्टमी में शामिल होने के लिए 20 लाख श्रद्धालु पहुंचे हैं। सभी प्रमुख मंदिर भीड़ से भरे हुए हैं। अधिक भीड़ की वजह यह भी है कि पिछले दो सालों से कोरोना के चलते जन्मोत्सव नहीं मनाया गया है। सुरक्षा के लिए मथुरा और वृंदावन को 5 जोन और 30 सेक्टर में बांटा गया है।