मऊ...टूटी पुलिया और सड़क को है निर्माण का इंतजार:2018 में पहली बार टूटी थी सड़क की एक पुलिया, 2019 में दूसरी भी टूट गई

मऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
4 साल बाद भी नहीं हुआ विकास। - Dainik Bhaskar
4 साल बाद भी नहीं हुआ विकास।

मऊ में मधुबन तहसील क्षेत्र स्थित दरगाह-सिकड़ीकोल मार्ग की तीनों टूटी पुलिया और ये सड़क पिछले 4 सालों से निर्माण की राह देख रही हैं। सिंचाई विभाग और लोक निर्माण विभाग का वादा पूरा होने का नाम ही नहीं ले रहा है। ये मार्ग लोगों के लिए कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा केवल आप इस बात से लगा सकते हैं कि, ये सिकड़ीकोल, सेमरा, खजुहा, नुरुल्लाहपुर, बैरीसाथ सहित करीब दो दर्जन गांव को मधुबन-दोहरीघाट मुख्य मार्ग से जोड़ने का इकलौता मार्ग है। फिर भी इस मार्ग की सुधि न तो हमारे जनप्रतिनिधियों ने ली और न ही सम्बंधित विभाग ने ली है।

जल्द शुरू होगा निर्माण कार्य

साल 2018 में पहली बार बरसात के दिनों में इस मार्ग के दोनों किनारों पर भारी जलजमाव से एक पुलिया टूट गई थी। जिससे दर्जनों गांव का आवागमन बाधित हो गया था। तब मौके पर पहुंचे सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता द्वारा टूटी सड़क के बीच मिट्टी और ईंट के टुकड़े डाल आवागमन को चालू करा दिया गया था। स्थानीय लोगों को ये आश्वासन दिया गया था कि सड़क के दोनों किनारों के पानी के सूखते ही टूटी पुलिया एवं सड़क निर्माण का कार्य पूरा करा दिया जाएगा। मगर रात गई और बात गई की तर्ज पर सब कुछ ठंडे बस्ते में चला गया।

2019 में फिर दोहराई गई वही कहानी

2019 में फिर से पानी के दबाव से सड़क टूटी और इस बार शेष दो पुलिया भी टूट गई। एक बार फिर 2018 वाली कहानी दोहराई गई। टूटी सड़क के बीच मिटटी और ईट के टुकड़े डाल आवागमन बहाल कर दिया गया। एक बार फिर से वही आश्वासन मिला और हुआ कुछ नहीं। आज 4 साल हो गए हैं और ये मार्ग आज भी तीनों पुलिया एंव सड़क निर्माण की रात तक रही है। लोग इंतजार कर रहे हैं कि शायद अब काम शुरू हो, मगर वादा है कि वफा होने का नाम ही नहीं ले रहा है।

खबरें और भी हैं...