मऊ में बिजली विभाग की मनमानी से उपभोक्ता परेशान:कहीं एक माह का एडवांस तो कहीं 10 गुना अधिक आ रहा बिल, सॉफ्टवेयर की कमी बताकर विभाग ने झाड़ा पल्ला

मऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मऊ में बिजली विभाग की मनमानी से उपभोक्ता परेशान। - Dainik Bhaskar
मऊ में बिजली विभाग की मनमानी से उपभोक्ता परेशान।

मऊ जिले में जनपद में विद्युत विभाग की मनमानी उपभोक्ताओं की बड़ी परेशानी बन गई है। कहीं एक माह का एडवांस तो कहीं 10 गुना अधिक बिल आ रहा है। इसको सही कराने के लिए उपभोक्ताओं को जिला मुख्यालय, उपकेंद्र व जेई का चक्कर काटना पड़ रहा है। विभाग की तरफ से इसे सॉफ्टवेयर की कमी बताकर पल्ला झाड़ लिया जा रहा है। कुछ स्थानों पर इसे सही कराने के लिए उपभोक्ताओं को वसूली भी की जा रही है। इसे लेकर उपभोक्ताओं में आक्रोश है।

बिल जमा करने का बाद होगा समस्या का निस्तारण

घोसी के पकड़ी गांव निवासी उपभोक्ता सविता बिजली का बिल प्रत्येक माह जमा करती हैं। हर माह ढाई से तीन सौ बिजली का बिल आता था, लेकिन अगस्त में चार हजार बिल आया। तबसे लेकर अभी तक उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ। विभाग के जेई का कहना है पहले बिल जमा कराइये बाद में इसका निस्तारण किया जाएगा।

सॉफ्टवेयर की कमी से आ रहा बिल

पकड़ी के ही ब्रह्मानंद के यहां भी यही हाल है। तीन सौ बिजली का बिल आने के बाद अगस्त में साढ़े चार हजार बिल आया। रसीद देने वाले कर्मचारी ने मीटर का फाल्ट बताकर पल्ला झाड़ लिया। किसान संतोष का कुर्थीजाफरपुर विद्युत उपकेंद्र से कनेक्शन है। खेती के लिए उन्होंने तीन हार्स पावर का कनेक्शन लिया है। अभी सितंबर माह बीता भी नहीं है कि उनका बिल आ गया है। इस बाबत उन्होंने उपकेंद्र के जेई से बताया तो उन्हें सॉफ्टवेयर की कमी बताया गया।

घर पर बंद है ताला भेज दिया ऑनलाइन बिल

कोपागंज ब्लॉक के चौबेपुर निवासी परमहंस चौबे ने अपने घर पर सोलर पैनल लगवाया है। साथ ही बिजली का कनेक्शन भी है। वह पिछले दो माह से मुंबई में हैं। घर पर ताला बंद है, बावजूद इसके वह ऑनलाइन बिजली का बिल देते हैं। पिछले दिनों चेकिंग के नाम पर विभाग के लोग पुलिस के साथ आए और 18,900 के जुर्माना की रसीद काट दी।

किसी ने नहीं लिया जाएगा ज्यादा बिल

रामविलास चौबे का भी कनेक्शन पुराना है। उनका भी कोई बिल बकाया नहीं है, लेकिन चेंकिग करने आए विभाग के लोगों ने मीटर तो लगाया ही साथ ही ओवरलोडिंग बताकर 9,450 रुपये जुर्माना की रजिस्ट्री भेज दी। अधिशासी अभियंता दुर्ग विजय सिंह ने कहा कि अधिक विद्युत बिल कंप्यूटर की गलती से जा रहा है। इसे कार्यालय में आने पर दुरुस्त कर दिया जाएगा। किसी से ज्यादा बिल नहीं लिया जाएगा। अगर कोई ऐसा करता है तो लिखित शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...