सपा के फाइनेंसर्स पर IT की रेड:अखिलेश के OSD रहे जैनेंद्र और भसीन के घर से हार्डडिस्क- बैंक डिटेल्स जब्त किए, मनोज यादव बोले- डकैती नहीं की

लखनऊ/ मऊ/ मैनपुरी9 महीने पहले

उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के 4 बड़े नेताओं के ठिकानों पर इनकम टैक्स की छापेमारी हुई है। मऊ में सपा के राष्ट्रीय सचिव राजीव राय, लखनऊ में जैनेंद्र यादव और मैनपुरी में मनोज यादव के घर छापे की कार्रवाई चल रही है। इसी बीच खबर आई है कि लखनऊ में अखिलेश के एक और करीबी अरबपति कारोबारी राहुल भसीन के घर भी 12.30 बजे IT टीम पहुंची है।

भसीन का कपड़ों का बड़ा कारोबार है। उनके घर भी कार्रवाई शुरू हो गई है। भसीन अखिलेश के 'नौ रत्नों' में से एक माने जाते हैं। वे 3 कंपनियों के मालिक हैं। इनकम टैक्स की टीम जैनेंद्र यादव उर्फ नीटू के घर से बाहर निकल गई है। यहां से टीम ने हार्ड डिस्क, बैंक डिटेल्स, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और दस्तावेज जब्त किए हैं।

मैनपुरी में छापे के दौरान मीडिया से चर्चा करते हुए मनोज यादव ने कहा कि इन छापों को हमसे बेहतर पब्लिक समझती है। कोई चोरी डकैती नही की है हमने। मैं मैनपुरी जनपद में सबसे सबसे ज्यादा टैक्स देता हूँ।

सभी नेता सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बेहद करीबी हैं। ये पार्टी के फाइनेंसर माने जाते हैं। जैनेंद्र यादव अखिलेश के मुख्यमंत्री रहते हुए उनके OSD भी रह चुके हैं। चुनाव के पूर्व हुई इस छापेमारी को सियासी एंगल से भी देखा जा रहा है।

LIVE अपडेट्स:

  • मऊ में छापे के दौरान राजीव राय की तबीयत बिगड़ गई है। IT की टीम डॉक्टर को लाने निकली है।
  • राय के घर के बाहर उनके समर्थकों की भीड़ जमा हो गई है। तबीयत बिगड़ने से पहले राय से सबसे कहा कि ये दुर्भावना की कार्रवाई है। चुनाव में जवाब देंगे।
  • 4 करीबियों पर छापे के बाद अखिलेश यादव ने रायबरेली में कहा कि अभी तो इनकम टैक्स वाले ही आए हैं। ED और CBI का आना बाकी है।
  • जिनके यहां रेड पड़ी है, उन्हें घर में ही नजर बंद रखा गया है। उन्हें बाहर जाने की इजाजत नहीं है।

अखिलेश बोले-यूपी में चुनाव लड़ने आ गया इनकम टैक्स

राजीव राय के दुबई और बेंगलुरू में इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज

राजीव राय समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव हैं और अखिलेश के बेहद करीबी माने जाते हैं।
राजीव राय समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव हैं और अखिलेश के बेहद करीबी माने जाते हैं।

सबसे पहले शनिवार सुबह करीब 7 बजे राजीव राय के मऊ में शहादतपुरा आवास पर छापे की खबर आई। राय 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं। राय के दुबई और बेंगलुरू में मेडिकल कॉलेज हैं। इनकम टैक्स की छापेमारी की खबर मिलते ही उनके समर्थक बड़ी संख्या में उनके घर पहुंचे हैं। वे भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं।

राय ने घोसी से चुनाव लड़ने की तैयारी की
राजीव राय शुरू से ही सपा से जुड़े हुए हैं। भूमिहार नेता के तौर इनकी पहचान है। मऊ, बलिया और गाजीपुर क्षेत्र में भूमिहारों में अपनी पकड़ रखते हैं। यह मूलत: बलिया के रहने वाले हैं। अखिलेश यादव राजीव राय को घोसी से चुनाव लड़ाना चाहते हैं। इसके लिए वे तीन महीने पहले ही मऊ में शिफ्ट हुए हैं। अभी उन्होंने वहां आवास लिया है और अपना कार्यालय खोला है।

अखिलेश के OSD रह चुके हैं जैनेंद्र यादव

जैनेंद्र समाजवादी पार्टी के फाइनेंसर माने जाते हैं। वे भी अखिलेश के करीबी हैं।
जैनेंद्र समाजवादी पार्टी के फाइनेंसर माने जाते हैं। वे भी अखिलेश के करीबी हैं।

इधर, लखनऊ में जैनेंद्र यादव के गोमती नगर आवास पर इनकम टैक्स की टीम पहुंची है। अखिलेश से करीबी होने की वजह से वे उनके OSD बने थे। इसके बाद जैनेंद्र यादव ने रियल स्टेट में कदम रखा। आगरा लखनऊ और कई अन्य शहरों में जैनेंद्र की कई जमीने हैं। इसके अलावा इनकी मिनरल वाटर की फैक्ट्री भी है।

मनोज यादव लखनऊ के बड़े कारोबारी हैं

मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के नेता मनोज यादव के इसी घर में इनकम टैक्स की टीम पहुंची है।
मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के नेता मनोज यादव के इसी घर में इनकम टैक्स की टीम पहुंची है।

मैनपुरी में मनोज यादव के घर छापेमारी हुई है। वे RCL ग्रुप के चेयरमैन हैं। वे लंबे समय से मैनपुरी में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर काबिज हैं।

मनोज सपा अध्यक्ष अखिलेश की कोर टीम के सदस्य माने जाते हैं।
मनोज सपा अध्यक्ष अखिलेश की कोर टीम के सदस्य माने जाते हैं।
खबरें और भी हैं...