आजाद हिंद फौज की खातिर 2500 किमी साइकिल यात्रा:10 साल का आरव पिता के साथ देशभर में साइकिल से फैला रहा जागरुकता

मेरठ8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहीद स्मारक पहुंचने पर आरव-अतुल भारद्वाज के साथ तस्वीर खिंचाने के लिए लोगों की भीड़ लग गई - Dainik Bhaskar
शहीद स्मारक पहुंचने पर आरव-अतुल भारद्वाज के साथ तस्वीर खिंचाने के लिए लोगों की भीड़ लग गई

छोटी उम्र और बुलंद हौसले हरियाणा के आरव को देखकर यही शब्द मुंह से निकलते हैं। महज़ 10 साल का आरव साइकिल से 2500 किमी की यात्रा पर है। इस नन्हें बच्चे की कठिन साइकिल यात्रा का उद्देश्य सुनकर आप चौंक जाएंगे या आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

साइकिल यात्रा के दरम्यान मेरठ पहुंचे आरव ने बताया कि आजाद हिंद फौज का जंग-ए-आजादी में जो योगदान था उससे लोगों को जागरुक कराने के लिए इस यात्रा पर निकला है। इस यात्रा में आरव के साथ उसके पिता डॉ. अतुल भारद्वाज हमसफर हैं। दोनों बाप-बेटे इस 2500 किमी की साइकिल यात्रा पर एकदूजे के हमराही हैं।

मेरठ पहुंचने पर पिता-पुत्र को सम्मानित किया गया उनका हौसला भी बढ़ाया गया
मेरठ पहुंचने पर पिता-पुत्र को सम्मानित किया गया उनका हौसला भी बढ़ाया गया

असम से 14 अप्रैल को किया यात्रा का आगाज
पिता-पुत्र ने असम से इस 2500 किमी की यात्रा का आगाज किया था। देश के विभिन्न शहरों की साइकिल यात्रा कर चुके हें। लखनऊ में डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने भी पिता-पुत्र को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। आरव ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत वो ये यात्रा कर रहे हैं। सुभाषचंद्र बोस के जीवन से प्रेरणा लेकर यात्रा को 14 अप्रैल को शुरू किया था।

आरव का सपना आजाद हिंद फौज के सैनिकों के बलिदान को जनता तक पहुंचाना है अपने पिता के साथ इस अभियान में जुटे हैं
आरव का सपना आजाद हिंद फौज के सैनिकों के बलिदान को जनता तक पहुंचाना है अपने पिता के साथ इस अभियान में जुटे हैं

दिल्ली में होगा अंतिम पड़ाव
डॉ. अतुल भारद्वाज ने बताया कि आई. एन. ए. मेमोरियल मोईरान्ग, मणिपुर से नेशनल वॉर मेमोरियल नई दिल्ली तक हम यह यात्रा करेंगे। 1944 में 14 अप्रैल के ही दिन आजाद हिंद फौज ने मोइरंग और आधे नागालैंड को फिरंगियों के चंगुल से आजाद कराकर वहां तिरंगा फहराया था। इतिहास में इसे ब्रितानी ताकतों के विरुद्ध पहली जीत घोषित किया गया था। इसलिए हमने इस दिन को चुना। साइकिल से रेडहिल, चंपारण भी जा चुके हैं।

शहीद स्मारक संग्रहालय पर आरव को सम्मानित करते सांसद राजेंद्र अग्रवाल व शहरवासी
शहीद स्मारक संग्रहालय पर आरव को सम्मानित करते सांसद राजेंद्र अग्रवाल व शहरवासी

सुभाष चंद बोस की टीशर्ट पहनाकर बढ़ाया हौसला
मेरठ शनिवार को राजकीय स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय में सांसद राजेंद्र अग्रवाल और शहरवासियों ने नन्हे सिपाही की हौसलाफजाई के लिए उसे सम्मानित किया। पिता-पुत्र को सुभाष चंद बोस की पेंटिंग वाली टीशर्ट भेंट कर उनका मान बढ़ाया। ए.पी.जे. अब्दुल कलाम जी जीवनी एवं प्रशस्ति पत्र भेंट किया।

ब्राह्मण समाज ने किया सम्मानित
युवा ब्राह्मण समाज (रजि०) उत्तरप्रदेश द्वारा भी पिता-पुत्र की जोड़ी को इस काम के लिए सम्मानित किया गया। इनकी यात्रा मंगलमय हो इसलिए भगवान परशुराम का चित्र भेंट किया। इस अवसर पर पंडित अश्वनी कौशिक,प्रशांत कौशिक,तरुण शर्मा,अजय वशिष्ठ,गिरीश भारद्वाज, मुनीत शर्मा, शोभित त्यागी,आदित्य शर्मा, अतुल शर्मा,तुषार कौशिक,नितिन कुमार,निशांत पाठक, शैलेश शर्मा,अभिषेक शर्मा,पुनीत राय अमित मऊ खास,शशांक भारद्वाज,प्रज्वल शर्मा आदि उपस्थित रहे।