वेस्ट यूपी में भाजपा का 100 दिनों का रोडमैप:किसानों की नाराजगी दूर करने  भाजपा के 100 दिन, 2 अक्टूबर से 10 जनवरी तक घूमेंगे कार्यकर्ता

मेरठ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किसान आंदोलन से तप रहे पश्चिमी उप्र में अन्नदाताओं का वोट बैंक हासिल करने के लिए भाजपा ने विशेष रोडमैप तैयार किया है। 100 दित तक भाजपा कार्यकर्ता गांव से शहर में किसानों के दर जाएंगे 2 अक्तूबर गांधी जयंती से 10 जनवरी 2022 तक भाजपा कार्यकर्ताओं को इस विशेष अभियान को पूरा करना होगा।

2022 में 14 जिले हैं भाजपा की बड़ी चुनौती
पश्चिमी यूपी के 14 जिलों की 71 सीटें इस चुनाव में बीजेपी की सबसे बड़ी चुनौती हैं। किसान बाहुल्य इन जिलों में सरकार के खिलाफ किसानों में भारी गुस्स है। किसान कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 9 महीने से अपनी नाराजगी जता रहे हैं। वेस्ट यूपी में किसान आंदोलन से उपजी नाराजगी को दूर करने के लिए भाजपाईयों ने 100 दिन का विशेष प्लान तैयार किया है। भाजपा कार्यकर्ता गांव से शहर तक घूमकर विशेष अभियान चलाएंगे। किसानों, युवाओं, जनता को सरकारी योजनाओं की जानकारी देकर उनकी परेशानी दूर करेंगे।

दलितों, पिछड़ों, किसानों तक पार्टी की पहुंच बढ़ाना
100 दिन के आयोजन का मुख्य कारण ज्यादा से ज्यादा लोगों से संपर्क कर उन्हें योगी, मोदी सरकार की योजनाओं के बारे में बताना। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने अब तक जो कार्य किए हैं उनका बखान करना है। दरअसल 100 दिनों के बहाने बीजेपी वेस्ट यूपी में अपने लिए चुनावी प्लेटफार्म तैयार करना चाहती हे। इसमें दलितों, जाटों, पिछड़ों, किसानों को प्रमुखता पर रखा गया है। जनप्रतिनिधियों से लेकर फ्रंटल कार्यकर्ता, प्रकोष्ठों, मोर्चों और इकाईयों का हर नेता, सदस्य जनता के बीच जाकर सरकार के कार्य का प्रचार करे, साथ ही जनता की परेशानी को हल करे।

भाजपा क्षेत्रीय कार्यालय में समझाई जा रही रणनीति
मेरठ में भाजपा के पश्चिम क्षेत्र के क्षेत्रीय कार्यालय में 100 दिनों का रोडमैप कार्यकर्ताओं को समझाया जा रहा है। पश्चिमी उप्र के चुनाव प्रभारी एवं करनाल के सांसद संजीव भाटिया, क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनिवाल, क्षेत्रीय प्रभारी जेपीएस राठौड़ 100 दिन के अभियान की जानकारी दे रहे हैं। सभी मोर्चों के क्षेत्रीय व जिलाध्यक्षों के साथ अलग अलग बैठकें हो रही हैं। इसमें दायित्वों के बंटवारे के साथ उन्हें सौ दिन का प्लान समझाया जा रहा है। अभियान को सफल बनाने के लिए क्षेत्रीय कार्यालय में रोजाना बैठकें हो रही हैं। यूपी में चुनाव सहप्रभारी और जाटों में अच्छी पकड़ रखने वाले नेता हरियाणा सरकार के पूर्व राज्यमंत्री कैप्टन अभिमन्यु भी जिलाध्यक्षों से संपर्क में हैं।

टीकाकरण, आयुष्मान, उज्जवला से लेकर राशन वितरण
100 दिन के कामों को जनसेवा और समर्पण से जोड़ा गया है। भाजपा कार्यकर्ता जनता की मदद का प्रयास करेंगे। ये मदद कोरोना वैक्सीनेशन, बूथ पर वैक्सीनेशन के लिए बुजुर्गों को पहुंचाना, परिवारों के आयुष्मान कार्ड बनवाना, उज्जवला योजना में लाभ दिलाना, गन्ने के पेमेंट की समस्या दूर कराना, बिजली संबंधी परेशानी, गरीबों को राशन वितरण कराने से लेकर किसानों की समस्याओं को दूर करने की रखी गई है। 3 महीना 10 दिन के अभियान में पार्टी का मुख्य फोकस किसानों पर है मगर उद्यमियों, महिलाओं पर पार्टी की खास नजर है। महिला मोर्चा, युवा मोर्चा, किसान मोर्चा, जातिगत मोर्चों व प्रकोष्ठों को विशेष जिम्मेदारी सौंपी जा रही है।

खबरें और भी हैं...