पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कारगिल में बिजनौर के 30 मजदूरों को छोड़ आया ठेकेदार:कारगिल से 150 किमी ऊपर मजदूरों को सांस लेने में हो रही थी दिक्कत, बस से लेह और फिर दिल्ली के रास्ते घर लौटेंगे

बिजनौर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मजदूरों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। किसी तरह से मजदूरों घरवालों तक बात पहुंचाई। घरवालों ने विधायक के पति के जरिए डीएम तक बात पहुंचाई है। मजदूरों को लाने की तैयारी चल रही है।  - Dainik Bhaskar
मजदूरों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। किसी तरह से मजदूरों घरवालों तक बात पहुंचाई। घरवालों ने विधायक के पति के जरिए डीएम तक बात पहुंचाई है। मजदूरों को लाने की तैयारी चल रही है। 

उत्तर प्रदेश के बिजनौर के बेगावाला थानाक्षेत्र के मजदूर कारगिल से 150 किमी ऊपर फंसे थे, अब उन्हें वापस लाया जा रहा है। मिनी बस से उन्हें लेह तक ले आया गया है। अब वह बस से दिल्ली के रास्ते अपने घर आएंगे। ठेकेदार जम्मू में मजदूरी दिलाने के नाम पर उन्हें ले गया था और खुद वापस चला आया। मजदूरों को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। किसी तरह से मजदूरों ने घरवालों तक बात पहुंचाई।

घरवालों ने विधायक के पति के जरिए डीएम तक बात पहुंचाई, जिसके बाद वापस लाने की तैयारी की गई। गांव वालों और परिजनों ने भाजपा नेता ऐश्वर्य चौधरी से मुलाकात की। ऐश्वर्य चौधरी ने डीएम को मामले से अवगत कराया।

30 मजदूरों को ले गया था ठेकेदार
गांव रावली के 30 लोगों को ठेकेदार जम्मू ले गया था। उसने अच्छे पैसे दिलाने का लालच दिया था। लेह लद्दाख होते हुए कारगिल से भी 150 किलोमीटर ऊपर पद्म सिटी ले गया। वहां किसी पावर प्लांट का काम चल रहा है। इतना ही नहीं, मजदूरों को वहीं छोड़कर वह भाग आया। खाने-पीने की व्यवस्था तक नहीं है।

मजदूरों के घर वालों ने डीएम तक पहुंचाई अपनी बात।
मजदूरों के घर वालों ने डीएम तक पहुंचाई अपनी बात।

फोन कर परिजनों को बताया हाल
इतनी ऊंचाई पर ऑक्सीजन की कमी से मजदूरों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। उन्होंने अपने घरवालों को फोन कर बताई यहां ज्यादा दिन जिंदा नहीं रह सकते। खाने के लिए भी कुछ नहीं है और सांस लेने में भी बहुत दिक्कत हो रही है।

डीएम उमेश मिश्रा ने लिया संज्ञान
ऐश्वर्य चौधरी के कहने के बाद डीएम उमेश मिश्रा ने मजदूरो को लाने के लिए एक टूर एंड ट्रैवल वाले से बात की। तीन मिनी बस ऊपर तक पहुंचाई गई। इन्हीं से मजदूरों को नीचे लाया गया। पद्म सिटी से लेह आने के बाद मजदूर बस से दिल्ली के रास्ते अपने घर आएंगे।

खबरें और भी हैं...