पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • 250 Oxygen Cylinders Reached Gautam Buddha Nagar With The Help Of Airforce, ITBP Set Up Oxygen Plant In 48 Hours

सेना को सलाम:एयरफोर्स की मदद से गौतमबुद्धनगर लाए गए 250 ऑक्सीजन सिलेंडर, ITBP ने 48 घंटे में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया

नोएडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईटीबीपी ने इटली की मदद से ऑक्सीजन प्लांट लगाया। - Dainik Bhaskar
आईटीबीपी ने इटली की मदद से ऑक्सीजन प्लांट लगाया।

कोरोना की दूसरी लहर में कोरोना मरीजों को सबसे ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। मांग इतनी ज्यादा है कि सरकार आपूर्ति नहीं कर पा रही है। ऐसे में गौतमबुद्धनगर में सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। एक तरफ मिशन संजीवनी के तहत एयरफोर्स ने चेन्नई से 250 ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाए हैं। जबकि आईटीबीपी के जवानों ने इटली की मदद से गौतमबुद्धनगर में 48 घंटे के अंदर एक ऑक्सीजन प्लांट खड़ा कर दिया है।

20 और 15 टन के ऑक्सीजन के सिलेंडर लाए गए
बीते दिनों गौतमबुद्धनगर के अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत हो गयी थी। ऐसे में मदद के लिए एयरफोर्स सामने आई। जिसने चेन्नई से 250 सिलेंडर मंगवाए, जबकि इन सिलेंडर में गैस के लिए एयरफोर्स दो ट्रक लेकर आज ही जमशेदपुर रवाना होगी। जहां से दोनों ट्रक सड़क मार्ग से गौतमबुद्धनगर पहुंचेंगे।

आईटीबीपी के जवानों ने नोएडा में एक आक्सीजन प्लांट खड़ा किया है।
आईटीबीपी के जवानों ने नोएडा में एक आक्सीजन प्लांट खड़ा किया है।

एनजीओ, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसियेशन, ओनर अपार्टमेंट एसोसियेशन को दिए जाएंगे सिलेंडर
अधिकारियों ने बताया कि जमशेदपुर से आने वाली ऑक्सीजन को अलग-अलग एनजीओ, रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसियेशन, अपार्टमेंट ओनर एसोसियेशन को भेजे जाएंगे। दरअसल, इन लोगों ने अलग-अलग आइसोलेशन सेंटर बनाए हैं, जहां ऑक्सीजन की जरूरत होती है।

गौतमबुद्धनगर में है रोजाना 60 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत
हालांकि, अभी जमशेदपुर से कुल 35 मीट्रिक टन ही ऑक्सीजन आ रही है लेकिन यह भी कुछ राहत ही पहुंचाएगी। फिलहाल, यहां रोजाना 60 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है। वहीं, आईटीबीपी ने सूरजकुंड में अपने अस्पताल में 48 घंटे में एक ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कर दिया। इस प्लांट से अस्पताल के 100 बेड पर ऑक्सीजन की सप्लाई हो जाएगी। इस प्लांट का उद्घाटन इटली के राजदूत विन्सेंजो डी लुका ने किया।