पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेरठ में कम हो रहा ब्लैक फंगस:9 अस्पताल ब्लैक फंगस के मरीजों से मुक्त, अब सिर्फ 16 मरीजों का चल रहा है इलाज

मेरठ25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मेरठ में कोरोना संक्रमण के बाद अब ब्लैक फंगस भी कम होता जा रहा है। ब्लैक फंगस के जिन अस्पतालों में मरीज भर्ती थे, उनमें 9 अस्पताल अब ब्लैक फंगस के मरीजों से मुक्त हो गए हैं। स्वास्थ विभाग के लिए सबसे राहत की खबर यह है, कि ब्लैक के नए केस नहीं मिल रहे हैं। अब सिर्फ मेरठ जिले में 16 मरीज ऐसे हैं जिनका ब्लैक फंगस का इलाज चल रहा है। और इनमें अधिकांश ऐसे मरीज हैं जिनकी की हालत में सुधार हो रहा है।

मेरठ में 334 मरीज मिल चुके हैं

जिले में ब्लैक फंगस के अभी तक 334 मरीज मिल चुके हैं। इनमें से ब्लैक फंगस से 27 मरीजों की मौत मेरठ के मेडिकल कॉलेज और अन्य निजी अस्पतालों में हुई। जबकि 291 मरीज ब्लैक फंगस जैसी बीमारी को मात देकर स्वस्थ हुए। अब जिले में सिर्फ 16 मरीज ऐसे हैं जिनका ब्लैक फंगस का इलाज चल रहा है।

CMO डॉक्टर अखिलेश मोहन ने बताया कि मेरठ के 9 अस्पताल ऐसे हैं जिनमें ब्लैक फंगस की बीमारी का कोई मरीज एडमिट नहीं है। और यह अस्पताल ब्लैक फंगस के मरीजों से मुक्त हो गए हैं। सिर्फ 16 मरीजों का इलाज चल रहा है, मेडिकल कॉलेज में 8, आनंद अस्पताल में 3, न्यूट्रिमा अस्पताल में 1, मेरठ किडनी अस्पताल में 1, और लोकप्रिय हॉस्पिटल में 2 व जसवंत राय अस्पताल में 1 मरीज भर्ती हैं। जिले में ब्लैक फंगस के 334 मरीज मिले, उनमें मेरठ के अलावा दूसरे जिलों के भी मरीज रहे। जिन्हें मेरठ में भर्ती कराया गया। सबसे ज्यादा 219 मरीज अकेले मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराए गए थे।

खबरें और भी हैं...