शिवरात्रि पर मंदिरों की सुरक्षा कड़ी:मेरठ कैंट स्थित बाबा औघड़नाथ मंदिर पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स लगाई, श्रद्धालुओं ने शरू किया जलाभिषेक

मेरठ9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
औघड़नाथ मंदिर में शिवलिंग पर जलाभिषेक करते श्रृद्धालु - Dainik Bhaskar
औघड़नाथ मंदिर में शिवलिंग पर जलाभिषेक करते श्रृद्धालु

सावन माह की शिवरात्रि पर आज शहर के प्रमुख मंदिरों पर सुरक्षा का कड़ा पहरा है। कैंट स्थित बाबा औघड़नाथ मंदिर के आसपास सुरक्षा को देखते हुए PAC के अलावा एक कंपनी पैरा मिलिट्री भी लगाई गई है। यहां भारी संख्या में पुलिस फोर्स लगाई गई है। जहां डॉग स्क्वायड व बम निरोधक दस्ता भी चेकिंग कर रहा है।

मंदिर के बाहर अलर्ट पुलिस फोर्स व लाइन में लगे श्रद्धालु
मंदिर के बाहर अलर्ट पुलिस फोर्स व लाइन में लगे श्रद्धालु

जलाभिषेक के लिए शिव भक्तों की लाइनें लगी

कैंट स्थित बाबा औघड़नाथ मंदिर जिसे काली पलटन के मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह स्थल 1857 की क्रांति का उद्गम स्थल भी है। सावन माह में शिवरात्रि पर यहां 5 लाख से अधिक कांवड़िए जलाभिषेक करते थे। लेकिन कोरोना के चलते साल 2020 व इस वर्ष कावड़ यात्रा नहीं हो सकी। ऐसे में बृजघाट और गंगा के किनारे अलग-अलग स्थानों से शिव भक्त, आम श्रद्धालु औघड़नाथ मंदिर में जलाभिषेक के लिए पहुंचे। आज सुबह 4:00 बजे से ही मंदिर के बाहर और मंदिर परिसर में लाइने लगी रहीं। मंदिर समिति लगातार सोशल डिस्टेंस का पालन करा रही है। परिवार के लोगों की जल चढ़ाने के लिए भीड़ लगी हुई है।

रात से ही मंदिर के बाहर जुटने लगी भक्तों की भीड़
रात से ही मंदिर के बाहर जुटने लगी भक्तों की भीड़

संवेदनशील शील है यह क्षेत्र

कैंट स्थित औघड़नाथ मंदिर का क्षेत्र संवेदनशील क्षेत्रों में है। अधिकांश कावड़ यात्रा, शिवरात्रि पर यहां स्थानीय फोर्स के अलावा पीएसी, RAF और एटीएस की निगरानी में यह मंदिर रहता था। लेकिन इस बार कांवड़ियों की संख्या नहीं है। ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए यहां एक कंपनी पैरा मिलिट्री के अलावा एक कंपनी RRF भी लगाई गई है। एसपी सिटी विनीत भटनागर लगातार इंस्पेक्टर सदर बाजार विजेंद्र राणा के साथ सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं।

अन्य मंदिरों में भी श्रद्धालुओं की लगी भीड़

औघड़नाथ मंदिर के अलावा सदर बाजार स्थित बाबा बिल्वेश्वर नाथ मंदिर में भी जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी है। यह मंदिर सबसे प्राचीन मंदिर है। जिसमें मंदोदरी भी पूजा अर्चना के लिए यहां आती थीं। नवचंडी स्थित दुर्गा मंदिर, गोल मार्केट मंदिर, कोतवाली स्थित शिव मंदिर और अन्य मुख्य मंदिरों में भी शिव भक्त जल चढ़ा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...