जॉर्ज माउंट एवरेस्ट पर पहुंचीं गुरुकुल की बेटियां:मेरठ के कन्या गुरुकुल की छात्राओं का कमाल, ट्रैकिंग कर गाया वंदेमातरम

मेरठ11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जॉर्ज माउंट एवरेस्ट पर कन्या गुरुकुल की छात्राएं। - Dainik Bhaskar
जॉर्ज माउंट एवरेस्ट पर कन्या गुरुकुल की छात्राएं।

मेरठ के कन्या गुरुकुल नारंगपुर की छात्राओं ने जॉर्ज माउंट एवरेस्ट पीक मसूरी पर ट्रैकिंग कर वंदेमातरम गाया। कन्या गुरुकुल की छात्राओं की टीम गुरुकुल की शिक्षिकाओं के साथ ट्रैकिंग के लिए निकला है। छात्राओं का अगला पड़ाव माउंट एवरेस्ट तक पहुंचना है।

22 नवंबर को ट्रैकिंग पर निकली थीं छात्राएं
गुरुकुल की छात्राएं ट्रैकिंग के लिए 22 नवंबर को निकली थीं। शिक्षिकाओं के साथ 15 छात्राओं की टीम इस मिशन पर निकली हैं। पहले चरण में हिमालय की छोटी चोटियों पर जाएंगी। दूसरे चरण में एवरेस्ट पर चढ़ने की योजना है।

बच्चियों को शास्त्र और शस्त्र की शिक्षा
परीक्षितगढ़ में बने कन्या गुरुकुल में देश के अलग-अलग हिस्से से आकर बच्चियां रहती हैं। यहां बालिकाओं को शस्त्र और शास्त्र दोनों की शिक्षा दी जाती है। बच्चियों को संस्कृत, श्लोक, मंत्र उच्चारण, हवन सिखाया जाता है। यज्ञोपवीत से लेकर व्यक्ति के जीवन में होने वाले सभी संस्कारों, शास्त्रों, ग्रंथों का ज्ञान दिया जाता है।

छात्राओं को कंप्यूटर भी सिखाया जाता है। आत्म सुरक्षा के लिए छात्राओं को लाठी भांजना, डंडा चलाना, तलवारबाजी, धनुष विद्या और अन्य हथियारों को चलाने का प्रशिक्षण दिया जाता है। शिक्षिका गुलशन कहती हैं कि गुरुकुल की परंपरा छात्राओं को अनुशासन, वैदिक पद्धतियों, तकनीकी, भाषा, आत्म सुरक्षा सभी का ज्ञान देने की है। ताकि बेटी जब यहां से निकले तो अपने पैरों पर खड़ी हो। समाज के लिए कुछ कर सकें।

खबरें और भी हैं...