बागपत में सपा का पर्चा रद्द कराने पहुंची फर्जी उम्मीदवार:दोपहर में एडीएम ने कहा- सपा, रालोद प्रत्याशी ने पर्चा वापस ले लिया, हंगामा हुआ तो शाम को डीएम बोले- पर्चा वापस लेने वाली महिला थी फर्जी

बागपत5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोशल मीडिया पर तीन महिलाओं की तस्वीर वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि इनमें से एक महिला सपा-रालोद प्रत्याशी बन कर पर्चा वापस लेने कलक्ट्रेट पहुंची थी। - Dainik Bhaskar
सोशल मीडिया पर तीन महिलाओं की तस्वीर वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि इनमें से एक महिला सपा-रालोद प्रत्याशी बन कर पर्चा वापस लेने कलक्ट्रेट पहुंची थी।

बागपत में पार्टी प्रत्याशी का पर्चा वापस होने की सूचना से नाराज रालोद-सपा कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट का घेराव कर जमकर हंगामा काटा। नारेबाजी कर कार्यकर्ताओं ने कड़ा विरोध जताया। वहीं देर शाम डीएम बागपत राजकमल यादव ने बताया कि, पर्चा वापस लेने वाली महिला नकली थी। आरोपी महिला के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यही नहीं उन्होंने ममता किशोर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बात भी की है।

डीएम बोले- पर्चा दाखिल करने वाली ममता नहीं
बागपत के डीएम राजकमल यादव ने बताया कि, दोपहर 12 बजे नामांकन वापस लेने एक महिला आई। जिसने नामांकन वापस लेने का एप्लीकेशन दिया। जिसमें ये कहा गया कि, हम ममता है, जिसकी आइडेंटिटी की जांच की गई। इसके बाद 2:20 बजे एक एप्लीकेशन दी गई कि, हम ममता नहीं है। इसके बाद पूरे मामले की जांच कराई गई। जिसमें उनकी भूमिका संदिग्ध पाई गई। अब उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। साथ ही उनका पेपर स्वीकार्य नहीं किया जाएगा।

कलेक्ट्रेट परिसर में प्रवेश करने के लिए गेट पर चढ़कर कार्यकर्ताओं ने की नारेबाजी
कलेक्ट्रेट परिसर में प्रवेश करने के लिए गेट पर चढ़कर कार्यकर्ताओं ने की नारेबाजी

नाराज सपा-रालोद कर्मचारियों का हंगामा

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर रालोद और सपा दोनों पार्टी ने ममता किशोर को अपना संयुक्त प्रत्याशी घोषित किया था। लेकिन, चुनाव से पहले उनका पर्चा वापस लेने की खबर से कार्यकर्ता नाराज हो गए। दोनों पार्टी के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में अपना विरोध जताने कलेक्ट्रेट पहुंच गए। मामले की सूचना मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गया। उसने कार्यकर्ताओं को कलेक्ट्रेट गेट बंद कर परिसर के अंदर प्रवेश से रोक दिया। नाराज कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट के गेट पर चढ़ गए। नारे बाजी शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस और कार्यकर्ताओं में झड़प भी हुई।

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर रालोद और सपा दोनों पार्टी ने ममता किशोर को अपना संयुक्त प्रत्याशी घोषित किया था।
जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर रालोद और सपा दोनों पार्टी ने ममता किशोर को अपना संयुक्त प्रत्याशी घोषित किया था।

सुबह भाजपा में खुशी, अब फिर से बन रही रणनीति

रालोद-सपा प्रत्याशी का पर्चा ऐन समय पर वापस होने से बीजेपी प्रत्याशी बबली का निर्विरोध चुना जाना करीब करीब तय माना जा रहा था। सुबह से ही भाजपा में खुशी छा गई, लेकिन शाम होते होते अब फिर एक बार बीजेपी रणनीति बनाने में लग गई है। बता दें कि, वार्ड-13 से जिला पंचायत सदस्य ममता किशोर ने नामांकन के दिन सुबह भाजपा ज्वाइन कर ली थी। लेकिन किन्ही कारणों से दोपहर में फिर रालोद में वापसी कर ली थी। रालोद और सपा ने प्रत्याशी के तौर पर पर्चा दाखिल कर दिया, लेकिन आज फिर उस समय बाजी पलट गई जब ममता का पर्चा वापिस ले लिया गया।

प्रत्याशी के पति ने दी परिवार संग आत्महत्या की धमकी

प्रत्याशी ममता किशोर के पति जयकिशोर ने ऐन वक्त में पर्चा वापस करने के मामले पर अपनी कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि, वो बागपत से 400 किलोमीटर दूर राजस्थान के भरतपुर में हैं, ऐसे में ममता ने पर्चा कैसे वापिस ले लिया। उन्होंने धमकी देते हुए कहा कि, यदि पर्चा जबरन वापिस लिया गया तो, वो परिवार के साथ आत्मदाह कर लेंगे। जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

खबरें और भी हैं...