पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

असिस्टेंट कमिश्नर और वाणिज्य कर अधिकारी की जमानत खारिज:आगरा में चांदी कारोबारी से 43 लाख की लूट में फरार हैं दोनों अधिकारी, सिपाही और ड्राइवर पहले ही जा चुके हैं जेल

मेरठ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मथुरा के चांदी कारोबारी से 43 लाख रुपए लूटने के मामले में फरार चल रहे वाणिज्य कर विभाग के निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्य कर अधिकारी शैलेंद्र कुमार की अग्रिम जमानत याचिका मेरठ की एंटी करप्शन कोर्ट ने गुरुवार को खारिज कर दी।

बिहार से चांदी बेचकर मथुरा लौट रहे थे कारोबारी

एडीजीसी शुचि शर्मा ने बताया, मथुरा के गोविंद नगर निवासी प्रदीप अग्रवाल चांदी के कारोबारी हैं। 22 अप्रैल 2021 को वह अपने ड्राइवर राकेश चौहान के साथ बिहार के कटिहार में चांदी बेचने के लिए गए थे। चांदी बिक्री के 43 लाख रुपए लेकर वह 30 अप्रैल की रात 10 बजे गाड़ी से लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे के रास्ते मथुरा लौट रहे थे।

जयपुर हाउस में ले जाकर रुपयों का थैला छीना

आगरा के नजदीक एक टोल प्लाजा पर उन्हें एक पुलिसकर्मी ने रोका। उनकी गाड़ी पर उत्तर प्रदेश सरकार लिखा हुआ था। कार सवार लोगों ने खुद को बड़े जाकर विभाग से बताया और जांच के नाम पर आगरा में जयपुर हाउस स्थित अपने दफ्तर में ले गए। प्रदीप अग्रवाल का आरोप है कि कार सवार दोनों युवकों ने उनके 43 लाख रुपए लूट लिए।

मेरठ एंटी करप्शन कोर्ट में चल रही सुनवाई

इस मामले में 12 मई को आगरा के थाना लोहामंडी में वाणिज्य कर विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार, वाणिज्य कर अधिकारी शैलेंद्र कुमार, सिपाही संजीव कुमार, ड्राइवर दिनेश कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। संजीव और दिनेश पूर्व में ही जेल जा चुके हैं। जबकि और शैलेंद्र कुमार फरार हैं। इस मामले की सुनवाई मेरठ की एंटी करप्शन कोर्ट-एक में चल रही है।

दोनों की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज

एडीजीसी शुचि शर्मा ने बताया कि फरार दोनों अभियुक्तों अजय कुमार और शैलेंद्र कुमार ने अपने अधिवक्ता के जरिए कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। इस पर गुरुवार को सुनवाई हुई। विशेष न्यायाधीश नरेंद्र पाल सिंह तोमर ने सुनवाई करते हुए दोनों याचिका खारिज कर दी। दोनों आरोपियों के कुर्की वारंट पहले ही जारी हो चुके हैं।

खबरें और भी हैं...