• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Chief Minister Yogi Adityanath, Union Minister Anurag Thakur Will Honor 17 Paralympic Medal Winners Of The Country, Organized In Agriculture University

UP की पहली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी मेजर ध्यानचंद के नाम:मेरठ में CM योगी ने किया ऐलान; अनुराग ठाकुर बोले- UP में पहले भय का माहौल था

मेरठएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मेरठ पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यह यूनिवर्सिटी मेजर ध्यानचंद के नाम पर होगी। सीएम ने कहा कि मेरठ में खेल उत्पादों की अपनी एक गुणवत्ता है और ना केवल देश के अंदर बल्कि दुनिया के अंदर भी उसकी मांग है। शासन स्तर पर उसे जो प्रोत्साहन मिलना चाहिए था, उसकी कमी पहले दिखाई देती थी। 2018 के बाद उसमें जो तेजी आई, वह सराहनीय है।

वहीं, यूपी चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि मेरठ में मैं कई बार आया था, लेकिन पहले जो डर का एक माहौल था। मेरठ और आसपास के क्षेत्र में शाम को बहन बेटियों को घर से निकलने में डर लगता था, व्यापारी को डर लगता था। आज यूपी भय मुक्त है।

यहां सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित समारोह में सीएम योगी और केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने देश के 17 पदक विजेताओं को 19 पुरस्कारों से सम्मानित किया। गोल्ड मेडल विजेता को 2 करोड़, सिल्वर विजेता को 1.5 करोड़ और ब्रांज मेडल जीतने वाले विजेता को एक करोड़ रुपए का पुरस्कार दिया गया। कुल 32.50 करोड़ रुपए यूपी सरकार ने दिए हैं।

सीएम योगी ने IAS सुहास एलवाई को सम्मानित किया। सुहास ने टोक्यो पैरालिंपिक में सिल्वर मेडल जीता था।
सीएम योगी ने IAS सुहास एलवाई को सम्मानित किया। सुहास ने टोक्यो पैरालिंपिक में सिल्वर मेडल जीता था।

सीएम ने और क्या कहा?

  • टोक्यो ओलिंपिक और टोक्यो पैरालिंपिक में जो हमारे खिलाड़ियों ने प्रदर्शन किया है वह अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन है।
  • मेरठ की जब बात आती है तो स्पोर्ट्स आइटम के लिए जाना जाता है, लेकिन उसे वह पहचान नहीं मिली थी।
  • आज मेरठ में खेल यूनिवर्सिटी बन रही है जो प्रदेश के साथ देश भर के खिलाड़ियों के लिए नई दिशा तय करेगी।
  • पूर्व में प्रदेश व देश में पदक जीतने पर सामान्य खिलाड़ियों को ही सम्मान दिया जाता था, लेकिन हमारी सरकार ने प्रदेश समेत देश के पैरा खिलाड़ियों को भी सम्मान देने का फैसला किया।
  • अपनी दिव्यांगता को दरकिनार को करते हुए इन खिलाड़ियों ने जो टोक्यो पैरालिंपिक में प्रदर्शन किया है उससे जाहिर होता है कि खिलाड़ी देश के लिए खेलता है और आज ऐसे खिलाड़ियों का सम्मान गौरव का विषय है।
  • नोएडा के DM व वहीं के प्रवीण ने मेडल दिलाए, जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर ने कोरोना संक्रमण के काल में जो प्रदर्शन किया है, वह बहुत ही सराहनीय है।
  • उन्हें नोएडा में जब तैनाती दी गई तब कोरोना का दौर था। 19 अगस्त 2021 को लखनऊ में सभी खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया।
  • टोक्यो ओलिंपिक में जितने भी प्रशिक्षक गए थे उन सभी प्रशिक्षक को भी राज्य सरकार 10- 10 लाख रूपए की राशि दे रही है।
  • केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने मिलकर अब तक प्रदेश में 71 खेल मैदान दिए हैं।
समारोह में स्काउट गाइड की छात्राओं में उत्साह नजर आया।
समारोह में स्काउट गाइड की छात्राओं में उत्साह नजर आया।

अनुराग ठाकुर ने अखिलेश यादव पर साधा निशाना

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि खिलाड़ी तो अलग-अलग राज्यों से हैं लेकिन खिलाड़ियों को जो सम्मान और पैसा सीएम दे रहे हैं वह कहीं ज्यादा है। अनुराग ठाकुर ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर निशाना साधा। कहा कि वे कहते थे कि आज खेलों के नाम पर सांसद प्रतिस्पर्धा क्यों हो रही है, वह खेलों को रोकने वाले थे हम खेलों को देने वाले हैं।

और क्या-क्या कहा?

  • पैरालिंपिक में 7 खिलाड़ी हमारे पश्चिम क्षेत्र के हैं। कोविड-19 संक्रमण के समय में भी इन खिलाड़ियों ने हौसला नहीं हारा और यह खिलाड़ी अपने घर नहीं बैठे।
  • यह जो खिलाड़ी आज कार्यक्रम में मौजूद हैं इन्हें इवेंट चाहिए, प्रतिस्पर्धा चाहिए, भविष्य में इन खिलाड़ियों को मंच पर मेडल देने का काम भी किया जाएगा।
  • आज मेरठ में खेल यूनिवर्सिटी बन रही है, जो मेरठ केवल खेल उपकरण के लिए जाना जाता था उसे एक नई पहचान मिल रही है।
  • आने वाले समय में 80 से ज्यादा खिलाड़ी पैरालिंपिक ओलिंपिक में जाने का काम करेंगे।
  • कोरोना संक्रमण के समय में भी भारत सरकार ने खिलाड़ियों को सब सुविधाएं दी इस बार हम 19 मेडल जीत कर लाए हैं।
  • जब से पैरालंपिक शुरू हो गई है भारत ने 12 मेडल जीते, लेकिन इस बार हमने अकेले 19 मेडल जीते।
सीएम ने खेल प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने कैरम बोर्ड भी लिखा।
सीएम ने खेल प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने कैरम बोर्ड भी लिखा।

अन्य ने क्या कहा?

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि जो कार्यक्रम कभी हरियाणा सरकार अपने खिलाड़ियों के लिए करती थी, आज यूपी सरकार कर रही है लेकिन यहां देश भर के खिलाड़ियों का सम्मान हो रहा है। ओलिंपिक हो या एशियाड यूपी ने खेलों में अपनी अलग पहचान बनाई है। यूपी सरकार ने मेरठ के सलावा में पहला खेल विश्वविद्यालय दिया है। यहां से पश्चिम उत्तर प्रदेश हरियाणा को खेलों में टक्कर देगा।

यूपी के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा कि खिलाड़ी अपने लिए नहीं खेलता, देश के लिए खेलता है। जिन्होंने टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीते, 29 अगस्त को यूपी सरकार ने लखनऊ में सम्मान किया। पहला अवसर है जब यूपी के खिलाड़ियों ने दुनिया के मानचित्र पर परचम लहराया। पदक जीतने वाले खिलाड़ियों की सेवाओं में नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है। एशियन चैम्पियनशिप की राशि 3 लाख से 15 लाख की गई।

समारोह में पूरे प्रदेश से खिलाड़ी आए थे।
समारोह में पूरे प्रदेश से खिलाड़ी आए थे।

टोक्यो में खिलाड़ियों ने रचा इतिहास

1968 से 11 बार भारत ने पैरालिंपिक में हिस्सा लिया और 12 मेडल जीते। टोक्यो में इस बार 17 खिलाड़ियों ने 19 पदक जीते और यूपी से 6 खिलाड़ी ने हिस्सा लिया था। 1857 की क्रांति, हस्तिनापुर से पहचान पूरे देश में अब खेल में मेरठ बड़ा हब है।

समारोह में खिलाड़ियों का अभिनंदन करते सीएम योगी आदित्यनाथ और अन्य।
समारोह में खिलाड़ियों का अभिनंदन करते सीएम योगी आदित्यनाथ और अन्य।

खिलाड़ियों को यह होगी सम्मान राशि
आयोजन में यूपी के गोल्ड मेडलिस्ट को 2-2 करोड़, रजत पदक विजेताओं को डेढ़-डेढ़ करोड़ और कांस्य पदक विजेताओं को एक-एक कराड़ रुपए सम्मान स्वरूप दिया गया। सुहास एल वाई और प्रवीन कुमार को चार करोड़ रुपए मिले। इसमें प्रदेश का पुरस्कार भी शामिल है। यूपी के 75 जिलों से आने वाले 2078 दिव्यांग खिलाड़ियों को उपहार प्रदान किया गया।

सम्मानित होने वाले यूपी के इन 6 खिलाड़ियों में मेरठ के तीरंदाज विवेक चिकारा, मुजफ्फरनगर की तीरंदाज ज्योति बालियान, बागपत के शूटर आकाश तोमर, वरुण सिंह भाटी हाई जंप गौतमबुद्ध नगर, अजीत सिंह यादवा भाला फेंक इटावा, दीपेंद्र सिंह संभल भटपुरा 10 मी एयर पिस्टल निशानेबाज शामिल हैं।

ये हैं टोक्यो पैरालिंपिक-2020 के पदकवीर

स्वर्ण पदक

  • एथलेटिक्स सुमित अंतिल (पुरुष भाला फेंक)
  • बैडमिंटन प्रमोद भगत (पुरुष एकल)
  • बैडमिंटन कृष्णा नगर (पुरुष एकल)
  • निशानेबाजी मनीष नरवाल (मिक्स्ड 50 मीटर पिस्टल)
  • निशानेबाजी अवनि लेखारा (महिला 10 मीटर एयर राइफल स्टैंडिंग)

रजत पदक

  • एथलेटिक्स योगेया कथूनिया (पुरुष डिस्कस थ्रो)
  • एथलेटिक्स निशाद कुमार (पुरुष हाई जंप)
  • एथलेटिक्स मरियप्पन थंगवलू (पुरुष हाई जंप)
  • एथलेटिक्स प्रवीन कुमार (पुरुष हाई जंप)
  • एथलेटिक्स देवेंद्र झाझरिया (पुरुष जेवलिन थ्रो)
  • बैडमिंटन सुहास यथिराज (पुरुष एकल)
  • शूटिंग सिंघराज अधाना (मिक्सड 50 मी. पिस्टल)
  • टेबल टेनिस भाविना पटेल( महिला सिंगल्स)

कांस्य पदक

  • तीरंदाजी हरविंदर सिंह (पुरुष इंडिविजुवल रिकर्व)
  • एथलेटिक्स शरद कुमार (पुरुष हाई जंप)
  • एथलेटिक्स सुंदर सिंह गुर्जर (पुरुष जेवलिन थ्रो)
  • बैडमिंटन मनोज सरकार (पुरुष सिंगल्स)
  • शूटिंग सिंघराज अधाना (पुरुष 10 मी. एयर पिस्टल)
  • शूटिंग अवनी लखेरा (महिला 50 मी. रायफल 3 पॉजिशिन)