पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस छोड़ने वाले रमेश धींगड़ा पर लगे स्वार्थ के आरोप:मेरठ में गरमाई कांग्रेसी सियासत, पार्टी नेता बोले निजी स्वार्थ के लिए आज कांग्रेस को बदनाम कर रहे हैं रमेश धींगड़ा

मेरठ11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस छोड़ने वाले रमेश धींगड़ा पर पूर्व जिलाध्यक्ष ने साधा निशाना, कहा पार्टी में कभी एक्टिव नहीं रहे - Dainik Bhaskar
कांग्रेस छोड़ने वाले रमेश धींगड़ा पर पूर्व जिलाध्यक्ष ने साधा निशाना, कहा पार्टी में कभी एक्टिव नहीं रहे

सियासत में 2 दशक की लंबी पारी खेलने के बाद कांग्रेस को अलविदा कहने वाले रमेश ढींगरा को पार्टी नेता स्वार्थी कह रहे हैं। पुराने कांग्रेसियों का कहना है निजी हित साधने के लिए रमेश ढींगरा ने पार्टी छोड़ी, लेकिन बदनाम पार्टी की विचारधारा को कर रहैं। जिस पार्टी से 4 बार चुनाव लड़ा उसमें कमियां निकाल रहे हैं।

मेरठ में रविवार को नेता रमेश ढींगरा ने कांग्रेस को अलविदा कह दिया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि कांग्रेस छोड़ने की वजह पार्टी का अपने उद्देश्यों से भटकना है। रमेश धींगड़ा के इस बयान के बाद कांग्रेसी नेताओं में उबाल है, पार्टी नेताओं ने धींगड़ा पर निशाना साधते हुए इसे निजी हित का कदम कहा है।

कांग्रेस पूर्व जिलाध्यक्ष कृष्ण कुमार किसनी
कांग्रेस पूर्व जिलाध्यक्ष कृष्ण कुमार किसनी

कार्यकर्ता नहीं चुनाव लड़ने आते थे
कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष और पीसीसी सदस्य कृष्ण कुमार किशनी कहते हैं मेरे कार्यकाल में धींगड़ा ने चुनाव लड़े मगर जीते नहीं। इनका अपना कोई वोट बैंक नहीं है। ये कांग्रेस के कार्यकर्ता नहीं केवल व्यापारी रहे हैं। सिर्फ चुनाव लड़ने पार्टी में आते थे। किसी कार्यक्रम में कभी सक्रिय नहीं रहे। अब इनको लगता है कि व्यापारिक हित कांग्रेस में चल नहीं रहा। धींगड़ा 3 महीने से भाजपा में जाने की तैयारी कर रहे थे। पार्टी तो छोड़ दी, योगीजी, मोदीजी की तारीफ भी कर दी इससे साफ है कि भाजपा में जाना चाहते हैं। भाजपा इन्हें स्वीकार भी नहीं करेगी।

सोशल मीडिया पर दिखाते थे भाजपाई मानसिकता
कृष्ण कुमार ने रमेश पर आरोप लगाया कि इन्हें होटल चलाना है, कुछ राजनीतिक दल लगातार उन पर दवाब बना रहे हैं। कभी इनका होटल बंद होता है, कभी इनका बार बंद कर दिया जाता है। होटल चलाने के लिए दूसरे दल के साथ जा रहे हैं। पंजाबी समाज ने इनको वोट नहीं दी। हमेशा इनका वोट बैंक भी गिरता गया। आम कार्यकर्ता अब खुश हैं कि उसे टिकट मिलेगा। कभी इनको पार्टी ने पद नहीं दिया।

कांग्रेस के वर्तमान जिलाध्यक्ष अवनीश काजला
कांग्रेस के वर्तमान जिलाध्यक्ष अवनीश काजला

पार्टी ने तो सम्मान दिया, अब उन्हें स्वार्थ दिख रहा
कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अवनीश काजला कहते हैं ऐसे लोगों के पार्टी से जाने से कोई असर नहीं पड़ता। ये स्वार्थी लोग हैं। संगठन ने इन्हें सम्मान दिया। पार्टी ने 4 बार टिकट दिया, चुनाव लड़ाया। जब कांग्रेस ने दूसरे दलों से गठबंधन कर चुनाव लड़ा तो भी इन्हें टिकट दिया। आज ये उस पार्टी को गलत कह रहे हैं। रमेश धींगड़ा जी खुद लंबे समय से पार्टी में सक्रिय नहीं थे। न किसी आयोजन में एक्टिव थे। आज ये पार्टी की नीतियों को गलत बता रहे हैं।
पार्टी को ही नुकसान देते रहे धींगड़ा
कांग्रेस नेताओं में रमेश धींगड़ा के खिलाफ बगावत के सुर बुलंद हो रहे हैं। महामंत्री मतीन अंसारी सहित अन्य पार्टी पदाधिकारियों का कहना है कि रमेश धींगड़ा ने 4 बार पार्टी का नुकसान किया है। कांग्रेस से जो पंजाबी वोट अलग होने की बात धींगड़ा कर रहे हैं उस पंजाबी बिरादरी ने खुद कभी इनका साथ नहीं दिया।

खबरें और भी हैं...