पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेरठ में डेंगू का कहर, अब तक मिले 21 मरीज:डोर-टू-डोर चल रहा फॉगिंग और मरीज खोजने का अभियान, मलियाना के 20 घरों में मिला लार्वा

मेरठ17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेरठ में घरों में फॉगिंग करने पहुंची नगर निगम की टीम। - Dainik Bhaskar
मेरठ में घरों में फॉगिंग करने पहुंची नगर निगम की टीम।

मेरठ में डेंगू के साथ वायरल बुखार का कहर बढ़ता जा रहा है। जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़कर 21 हो चुकी है। इसमें 11 मरीज घर में इलाज करा रहे हैं। जबकि 10 मरीज अस्पतालों में गंभीर हालत में भर्ती है। अच्छी बात यह है कि जिले में अभी तक डेंगू से कोई मौत नहीं हुई है न ही बच्चे में डेंगू मिला है। लेकिन मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण लोगों में दहशत है।

घर-घर पहुंच रही निगम की टीम
डेंगू, वायरल बुखार के बढ़ते मामलों को देखकर नगर निगम की टीम घरों में जाकर सर्वे कर रही है। टीम घरों में गमलों, कूलरों में जमा पानी चैक कर रही है। आसपास सड़क या गड़्डे में पानी जमा है तो उसे निकाल रही है। कालोनियों, मोहल्लों में रोजाना फॉगिंग भी की जा रही है। ताकि डेंगू फैलाने वाला मच्छर न पनप सके।

मलियाना में फॉगिंग करती व कूलर में मिले लार्वा को मारती नगर निगम की टीम।
मलियाना में फॉगिंग करती व कूलर में मिले लार्वा को मारती नगर निगम की टीम।

27 घरों में मिला लार्वा क्षेत्रों में दहशत
नगर निगम और मलेरिया विभाग की टीम घरों में जाकर फॉगिंग कर रही है। साथ ही लार्वा खोजा जा रहा है। मलियाना के 20 घरों में डेंगू का लार्वा मिलने के कारण पूरे इलाके में दहशत का माहौल है। मलियाना में 400 घरों में से 20 घरों में डेंगू का मच्छर, लार्वा मिला है। नगर निगम की टीम को यहां विशेष अहतियात बरतने का निर्देश डीएम ने दिया है। सीएमओ ने सभी 20 घरों के मालिकों को नोटिस जारी किया है। वहीं सैनिक विहार के 7घरों में लार्वा मिला है सभी घरों के मालिकों को नोटिस दिया गया है।

पीएल शर्मा जिला अस्पताल में पर्चा काउंटर पर लगी भीड़।
पीएल शर्मा जिला अस्पताल में पर्चा काउंटर पर लगी भीड़।

ओपीडी में बुखार के मरीजों की बड़ी संख्या
बुखार के मरीजों की संख्या भी जिले में लगातार बढ़ती जा रही है। डॉक्टरों के अनुसार यह मौसमी बुखार है। अक्सर मौसम बदलने पर ऐसा वायरल फीवर होता है। मेडिकल अस्पताल और जिला अस्पताल की ओपीडी में रोजाना सबसे ज्यादा मरीज बुखार के पहुंच रहे हैं। मरीजों में कमजोरी, शरीर में अकड़न, गले में सूखेपन की परेशानी आ रही है। ये सभी बुखार के कारण होता है। गंभीर मरीजों को अस्पतालों में भर्ती किया जा रहा है। अन्यथा दवा लेकर मरीज घर पर ही इलाज करा रहे हैं। मेडिकल अपताल में रोजाना 300 और जिला अस्पताल में 350 मरीज बुखार के पहुंच रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी
स्वास्थ्य विभाग ने स्कूलों, पब्लिक प्लेस सहित अस्पतालों में डेंगू, बुखार से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी कर दी है। बाजार की खुली चीजें कम खाएं, घर व आसपास, कूलर, बर्तन, गमले में पानी जमा न होने दें, घर के बाहर, अंदर सफाई का खास ख्याल रखें। पूरी बाजू के कपड़े पहनकर रहें, चूहे, गिलहरी से बचकर रहें। घर के आसपास की झाडियां व घास की सफाई कराएं। घर में सुबह-शाम नीम की पत्ती का धुंआ करें। उपले जलाकर धुआं करें। जानवरों की सफाई का पूरा ख्याल रखें। खूब पानी पिएं। साफ भोजन खाएं व सफाई से रहें।

जिला अस्पताल में ओपीडी के बाहर लगी मरीजों की लाइन।
जिला अस्पताल में ओपीडी के बाहर लगी मरीजों की लाइन।

सीएमओ ने यह कहा
सभी अस्पतालों को गाइडलाइन जारी की गई है। अस्पतालों को अलर्ट किया गया है। अगर किसी भी मरीज में बुखार के गंभीर या अलग लक्षण मिलते हैं तो फौरन सूचना स्वास्थ्य विभाग को दी जाए। अस्पतालों में डेंगू वार्ड भी बनाए गए हैं।

ये हैं डेंगू के लक्षण मिलें तो तुरंत कराएं जांच
लगातार तेज बुखार आना
शरीर में चकत्ते बनना
हाथ पांव ठंडे होना
यूरिन का रुकना या रुक रुक कर आना
शरीर की किसी चोट से ज्यादा ब्लीडिंग होना
लगातार कमजोरी होना, बीपी लो या प्लेटलेट गिरना