पेन फ्रेंडशिप का शगल भी था अटल जी को:आज भी मेरठ के परिवार ने संजो रखी हैं पूर्व पीएम की चिटि्ठयां

मेरठ5 महीने पहले

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जिंदगी में कविताएं और दोस्ती वो समानांतर रेखाएं थीं, जिस पर वो ताउम्र चले। अटल जी लोगों से मिलकर ही दोस्ती नहीं करते थे, बल्कि उन्हें पेन फ्रैंडशिप यानी चिट्ठियों के जरिये दोस्ती करने का भी शौक था। अटल जी ने जिसे एक बार पेन फ्रैंड बनाया, उससे अंत समय तक नाता जोड़े रखा।

मेरठ के शंभूनगर निवासी सुशील सिंघल, उनकी बेटी जूही के पास आज भी पूर्व प्रधानमंत्री के वो खत रखे हैं, जिसे अटल जी ने अपने हाथों से लिखकर भेजा। इतना ही नहीं अटल जी ने जूही को अपनी बेटी मानकर उसकी शादी में न पहुंचने पर अफसोस जताया था। साथ ही दामाद के लिए तोहफा भी भेजा।

हर खत का जवाब देते थे अटल जी

अटल जी ने अपनी पेन दोस्त जूही को उसकी शादी में चांदी का बॉक्स और शुभकामना संदेश भेजा था।
अटल जी ने अपनी पेन दोस्त जूही को उसकी शादी में चांदी का बॉक्स और शुभकामना संदेश भेजा था।

शंभूनगर निवासी सुशील सिंघल के तीन बच्चे हैं। बड़ी बेटी जूही, बेटा कपिल और एक छोटी बेटी है। सुशील अक्सर मंत्रियों, राज्यपाल, प्रधानमंत्री को चिट्ठियां और बधाई संदेश भरे पत्र भेजते थे। सुशील कहते हैं कि अटल जी को भी मैं चिटि्ठयां लिखता था। वो मेरे हर खत का जवाब भी देते थे।

मेरी अंग्रेजी कच्ची है, हिंदी में जवाब दूंगा

अटल जी के हर खत को आज भी सिंघल परिवार ने सहेजकर रखा है। 1993 में भेजे गए इस खत इस पर अटल बिहारी वाजपेयी के हस्ताक्षर भी हैं।
अटल जी के हर खत को आज भी सिंघल परिवार ने सहेजकर रखा है। 1993 में भेजे गए इस खत इस पर अटल बिहारी वाजपेयी के हस्ताक्षर भी हैं।

जूही ने 29 जनवरी 1993 में अटल बिहारी जी को बधाई संदेश के साथ पहला पत्र भेजा। तब जूही सोफिया गर्ल्स स्कूल में 8वीं की छात्रा थी। वह अंग्रेजी में पत्र लिखती थीं, जिसका जवाब अटलजी हिंदी में लिखकर भेजते थे। एक पत्र में उन्होंने लिखा कि नमिता (जो अटल जी की दत्तक पुत्री) से तुम्हारे पत्र की जानकारी मिली। तुम्हारी अंग्रेजी बहुत अच्छी है, मेरी अंग्रेजी बहुत कच्ची है इसलिए हिंदी में जवाब दे रहा हूं। साथ ही उन्होंने जूही को लिखा कि मेरठ दिल्ली के बहुत करीब है दिल्ली, इधर आना तो जरूर मिलना।

जेनेवा भाषण की बधाई पर बनाया बेटी

जूही के विवाह के अवसर पर अटल जी द्वारा भेजा गया शुभकामना संदेश।
जूही के विवाह के अवसर पर अटल जी द्वारा भेजा गया शुभकामना संदेश।

सुशील कहते हैं, "अटल जी और जूही के बीच इसी तरह खतों का आना-जाना चलने लगा। हर मौके पर जूही उन्हें खत लिखती, अटल जी उसका जवाब देते। जब अटल जी ने जेनेवा में भाषण दिया, तो जूही ने उसकी प्रशंसा में उनको खत लिखा। उस खत के जवाब में अटल जी ने लिखा कि तुम मेरे लिए बेटी जैसी हो, आज से मेरी बेटी हुई। उसके बाद जूही की शादी में उन्होंने प्रिय पुत्री के लिए शुभकामनाएं भेजीं।"

अटल बिहारी जी के हस्ताक्षर की यह तस्वीर जूही ने दी।
अटल बिहारी जी के हस्ताक्षर की यह तस्वीर जूही ने दी।

खत के साथ अटल जी ने अपनी तस्वीर भेज दी
जूही के भाई कपिल बताते हैं, "1996 में जब अटल जी शंभूनगर आए, तो मैंने उन्हें वह पत्र दिखाया, जिसे देखकर वो बहुत खुश हुए। उन्होंने पत्र पर पुन: दस्तखत किए। पूरे परिवार के साथ तस्वीर भी खिंचवाई। एक पत्र में जूही ने अटल जी से उनकी तस्वीर मांगी, तो 1995 में अटलजी ने तस्वीर के साथ पत्र भेजा।"

शादी में नहीं आ पाए मगर तोहफा भेजा

सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।
सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।

2002 में जूही की शादी बेगमबाग के अमित से हुई। सिंघल परिवार ने अटलजी को भी न्योता भेजा। अटल जी शादी में आ नहीं पाए, लेकिन बधाई संदेश, शुभकामनाएं और तोहफा भेज दिया। शादी के दिन ही कार से पीएमओ से कुछ लोग आए और तोहफा दिया। जो आज भी फ्रेम किया हुआ रखा है। जूही के पति कागजी बाजार में हीरे का कारोबार करते हैं। दो बच्चे बेटा अनन्य गोयल, बेटी जानवी गोयल है।

सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।
सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।
सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।
सुशील सिंघल को अटल बिहारी वाजपेयी जी की तरफ से भेजा गया पत्र का जवाब।
खबरें और भी हैं...