• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Ground Report Of Muzaffarnagar Kisan Mahapanchayat Dainik Bhaskar Preparations For Kisan Mahapanchayat To Be Held On September 5 Intensified, Water Is Being Extracted From The Ground, Farmers From All Over The Country Started Coming

यूपी में किसानों का बड़ा प्रदर्शन:कृषि कानूनों के खिलाफ मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत में 5 लाख से ज्यादा किसान जुटेंगे, 5 हजार कारीगर खाना बनाने में जुटे

मुजफ्फरनगर3 महीने पहलेलेखक: मनु चौधरी

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कल यानी 5 सितंबर को किसान महापंचायत होगी। शहर के GIC ग्राउंड में होने वाली इस महापंचायत का आयोजन संयुक्त किसान मोर्चा कर रहा है। दावा है कि इसमें देशभर से 5 लाख किसान पहुंचेंगे। भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत के बेटे गौरव खुद आयोजन का जिम्मा संभाल रहे हैं। शनिवार सुबह दैनिक भास्कर ग्राउंड जीरो पर पहुंचा।

शुक्रवार को हुई बारिश से मैदान में पानी भर गया है। करीब 250 लोग मैदान से पानी निकालने में जुटे हैं। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के भाई सुरेंद्र सिंह खुद लोअर और टीशर्ट पहने मैदान से बाल्टी से पानी निकालते दिखे। इसके अलावा, अलग-अलग जगहों पर 500 भंडारे होंगे। किसानों के लिए खाना तैयार करने में 5 हजार कारीगर जुटे हैं।

वहीं, शहर को किसान एकता जिंदाबाद...किसानों की ताकत देखेगा भारत, 5 सितंबर ऐतिहासिक किसान महापंचायत, क्रांति की धरा मुजफ्फरनगर रचेगी किसान आंदोलन का इतिहास जैसे नारे लिखे बड़े-बड़े होर्डिंगों से पाट दिया गया है। चारों तरफ लाउडस्पीकर लगे हैं। एक ही आवाज, मुजफ्फरनगर चलो...किसानों की ताकत देखेगा भारत... गूंज रही है। किसानों के जत्थे पहुंचना भी शुरू हो गए हैं।

शुक्रवार को हुई बारिश से महापंचायत वाली जगह ग्राउंड पर पानी भर गया है।
शुक्रवार को हुई बारिश से महापंचायत वाली जगह ग्राउंड पर पानी भर गया है।

मिट्टी डालकर तैयार किया जा रहा मैदान
पिछले 3 दिन हुई लगातार बारिश से मैदान में भरे पानी और कीचड़ को साफ किया जा रहा है। जेसीबी से मिट्टी डाली जा रही है। मैदान के ज्यादातर हिस्से को तैयार किया जा रहा है। हालांकि, शनिवार सुबह मौसम साफ है। धूप भी निकली है।

10 फीट ऊंचा मंच बनाया गया
महापंचायत के लिए मैदान की साइड में एक मंच बनाया है। यह मंच करीब 100 फीट लंबा और 100 फीट चौड़ा है। ऊंचाई 10 फीट है। यहीं से महापंचायत में आने वाले किसानों को संबोधित किया जाएगा। सामने जो ग्राउंड है वहां भी टेंट लगाए गए हैं। ग्राउंड में 100 फीट की ऊंचाई पर एक बड़े पोल पर तिरंगा लहरा रहा है।

यहां लगातार तीन दिन से बारिश हो रही है। इससे दिक्कत हो रही है।
यहां लगातार तीन दिन से बारिश हो रही है। इससे दिक्कत हो रही है।

500 जगह भंडारे, किसान नेता कारीगरों का हाथ बंटाने मे जुटे
देश के कोने-कोने से किसान महापंचायत में पहुंचेंगे। उनके यहां रुकने और खाने की व्यवस्था की गई है। भाकियू नेता गौरव टिकैत खुद व्यवस्था देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि शहर में अलग अलग जगह 500 भंडारों में भोजन की व्यवस्था की गई है। एक एक भंडारे में हलवाई समेत दस-दस लोग लगाए गए हैं। भंडारों के अलावा 110 गांवों से 5 सितंबर को खाना बनकर आएगा। अन्य जगह भी भट्ठी चढ़ा दी गई है। भंडारों में किसान खुद आलू छीलते हुए नजर आए।

किसानों के खाने के इंतजाम में जुटे लोग।
किसानों के खाने के इंतजाम में जुटे लोग।

देश भर से किसानों का आना शुरू, इनमें महिलाएं भी
महापंचायत में हिस्सा लेने के लिए देश भर से किसान यहां आने शुरू हो गए हैं। एक जत्थे में 100 से 250 तक किसान शामिल हैं। इनमें बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं। पूरा परिवार एक साथ है। कंधे पर बैग टंगे हैं और नारों की आवाज दूर से ही सुनी जा सकती है। दूर-दूर सड़कों पर भी किसान नजर आ रहे हैं।

किसानों के जत्थे महापंचायत के लिए पहुंच रहे हैं। इसमें महिलाएं भी शामिल हैं।
किसानों के जत्थे महापंचायत के लिए पहुंच रहे हैं। इसमें महिलाएं भी शामिल हैं।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम, पुराने अधिकारियों पर भरोसा
महापंचायत स्थल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। यहां मेरठ जोन के एडीजी राजीव सभरवाल, डीआईजी सहारनपुर प्रतिंदर सिंह और एसएसपी मुजफ्फरनगर अभिषेक यादव लगातार सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं। 8 कंपनी पीएसी, आरएएफ, यूपी पुलिस के अलावा एटीएस की टीम भी लगाई गई है। करीब तीन हजार जवान सुरक्षा में लगेंगे।

एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने ऐसे अधिकारियों को जिम्मेदारी दी है, जो पहले मुजफ्फरनगर में तैनात रहे हैं और किसानों-भाकियू नेताओं में अच्छी पहचान रखते हैं। अपर पुलिस उपायुक्त लखनऊ से श्रवण कुमार सिंह और अपर पुलिस अधीक्षक शाहजहांपुर सें संजीव बाजपेई को लगाया गया है। अपर पुलिस अधीक्षक आगरा से शिवराम यादव, नोएडा से प्रबल प्रताप सिंह लगाए हैं। यह चारों ही अफसर मुजफ्फरनगर में लंबे समय तक तैनात रहे हैं। कई आईपीएस अफसर भी दूसरे जिलों से लगाए गए हैं।

ग्राउंड पर मौजूद भाकियू नेता गौरव टिकैत।
ग्राउंड पर मौजूद भाकियू नेता गौरव टिकैत।

'पूरी जिंदगी कीचड़ में काट देवे है म्हारा किसान'
किसान नेता सुरेंद्र सिंह टिकैत मैदान पर मिले। उन्होंने कहा, म्हारा किसान पूरी जिंदगी ऐसे ही काट देवे है। ऊपर वाला जब चाहे सूखा डाल दे, जब चाहे बारिश में तर कर दे, पर किसानों की यही जिंदगी है। सारी-सारी रात ठंड पाले में खेतों में पानी लगावे। मिल में गन्ना डालने भीगता हुए जावे। ना सर्दी देक्खे और न ही गर्मी। महापंचायत में पानी बरसे या कुछ और। इसी मिट्टी में किसान की सारी जिंदगी चली जावे है, यह म्हारा काम है। शरम किस बात की, हमसे कुछ भी करवा लो।

जमीन न रहवेगी तो खावेंगे क्या?
भारतीय किसान यूनियन के नेता गौरव टिकैत के साथ किसानों की बड़ी संख्या है। किसानों से कहते हुए दिखे कि काम कर लो काम, जब जमीन न रहवेगी तो करेंगे क्या। यह सरकार म्हारी थारी जमीन को घर में घुसके कब्जाने के लिए है। गौरव टिकैत फोन पर कार्यकर्ताओं से कहते नजर आए कि भीड़ कम न रहजा, खाने में दिक्कत मत मान्नो। मुजफ्फरनगर की धरती है, यहां से कोई भूखा न जावेगा, यह धरती किसानों की धरती है।

खबरें और भी हैं...