दलित नेता किरन जाटव ने थामा भाजपा का दामन:साइकिल यात्रा कर मेरठ से लखनऊ जाकर की थी मुलायम से मुलाकात, अखिलेश ने बनाया था बहन

मेरठ6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में भाजपा कार्यालय में सदस्यता ग्रहण करते हुए किरण जाटव और सौरभ सुमन - Dainik Bhaskar
लखनऊ में भाजपा कार्यालय में सदस्यता ग्रहण करते हुए किरण जाटव और सौरभ सुमन

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राखी बांधकर भाई बनाने वाली मेरठ की किरण आरसी जाटव ने सोमवार को भाजपा का दामन थाम लिया। हापुड़ से विधानसभा और मेरठ सीट से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने वाली किरण जाटव सपा सरकार में अनुसूचित आयोग की सदस्य भी रही है। वहीं सोमवार को ही मेरठ से कवि सौरभ सुमन ने भी लखनऊ में भाजपा का पटका पहन लिया।

किरण आरसी जाटव
किरण आरसी जाटव

मायावती ने मिलने से किया इंकार तो साइकिल से पहुंची लखनऊ
किरण जाटव शुरू से दलितों, वंचितों के हक की आवाज उठाती रही है। मायावती सरकार में दलितों के सम्मान के लिए सक्रिय रही किरन जाटव बसपा के साथ थी। एक बार किसी समस्या को लेकर पूर्व सीएम मायावती से मिलना चाहा तो मायावती ने मिलने से इंकार कर दिया। किरण को जेल में डलवा दिया गया। इसके बाद किरण जाटव मेरठ से साइकिल यात्रा कर लखनऊ में मुलायम सिंह यादव से मिली। मुलायत सिंह ने दलित चेहरे के रूप में देखते हुए किरन से मुलाकात की, अखिलेश ने राखी भी बंधवाई। मुलायम सिंह ने ही किरण को अपनी सरकार में एससी एसटी आयोग का सदस्य बना दिया।

कवि सौरभ सुमन को सदस्तया ग्रहण कराते स्वतंत्र देव सिंह और लक्ष्मीकांत वाजपेयी
कवि सौरभ सुमन को सदस्तया ग्रहण कराते स्वतंत्र देव सिंह और लक्ष्मीकांत वाजपेयी

2016 में बनाई थी अपनी पार्टी
किरण सपा के टिकट पर हापुड़ से 2012 का चुनाव लड़ा लेकिन चुनाव हार गई। 2016 में किरण ने अपनी नई कर्तव्य राष्ट्रीय पार्टी बना ली थी। इसी पार्टी से 2019 का लोकसभा चुनाव मेरठ से लड़ा और हार गई। 2018 में किरन जाटव ने मुस्लिम दलित सम्मान बचाओ यात्रा पूरे यूपी में निकाली थी।जिसमें उन्होंने भाजपा द्वारा जिलों, शहरों के नाम बदलने पर ऐतराज किया था। वहीं सपा सरकार में एससी एसटी आयोग की सदस्य रहते हुए सीएम अखिलेश यादव को पत्र लिखकर अपनी पार्टी पर निशाना साधा था। जिसमें दयाशंकर को गिरफ्तारी न होने पर पद से इस्तीफा देने की बात भी कही थी।

प्रियंका गांधी से की थी मुलाकात कांग्रेस में जाने की चर्चा
कुछ दिन पहले ही किरन जाटव ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी, तब किरन के कांग्रेस में जाने की चर्चा जोरों पर थी। वहीं पीए पूनिया से भी मिली थी। लेकिन आज उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया।

मशहूर कवियत्री अनामिका अंबर के पति भी हुए भाजपाई
किरण के साथ ही मेरठ से मशहूर कवियत्री अनामिका अंबर के पति कवि सौरभ सुमन ने भी लखनऊ में भाजपा का पटका पहन लिया है। 2019 के लोकसभा चुनाव में अनामिका अंबर ने प्रगतिशील समजावादी पार्टी से चुनाव मैदान में उतरी, बाद में चुनाव नहीं लड़ा था। अनामिका, सौरभ दोनों मेरठ में एक स्कूल चलाते हैं। साथ ही दोनों कई चैनलों पर कवि सम्मेलनों में शिरकत कर चुके हैं। सौरभ सुमन ने बताया कि अभी मैंने भाजपा का पटका पहना है, जल्द ही पत्नी अनामिका भी भाजपा में आएंगी।

खबरें और भी हैं...