मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक का विमोचन:महाभारत युद्ध से लेकर आजादी की लड़ाई तक का पढ़ सकेंगे इतिहास

मेरठ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक का विमोचन करते  कमिश्नर  सुरेंद्र सिंह। साथ में मिशिका सोसायटी से अमित नागर और अन्य भी मौजूद रहे। - Dainik Bhaskar
मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक का विमोचन करते कमिश्नर सुरेंद्र सिंह। साथ में मिशिका सोसायटी से अमित नागर और अन्य भी मौजूद रहे।

आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक का विमोचन किया गया। पुस्तक का का विमोचन करते हुए कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने कहा की मेरठ की देश भर में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में पहचान है। महाभारत कालीन समय में हस्तिनापुर राजधानी थी। आज भी हस्तिनापुर में महाभारत काल के समय के यादें हैं। प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 1857 की क्रांति का मेरठ उद्दगम स्थल है। मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक मेरठ के गौरवशाली इतिहास की याद दिलाती है।

8 माह तक ऐतिहासिक स्थलों पर काम किया

मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक>
मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक>

मिशिका सोसायटी की विभा नागर ने बताया की हस्तिनापुर के प्राचाीन स्थल, सरर्धना का चर्च, अबू का मकबरा, 1857 की क्रांति का उदगम स्थल, राजा परीक्षित द्वारा बसाया गया परीक्षितगढ़, मराठियों का इतिहास, रामायण कालीन इतिहास, महात्मा गांधी का मेरठ आगमन, नेताजी सुभाषचंद्र बाेस की मेरठ की जनसभा स्थल जैसे अनेक स्थलों को इसमें दर्शाया गया है। जिसमें करीब 8 माह तक काम किया गया। इस पुस्तक में 102 भाग और 118 पेज हैं।

सीएम योगी ने भेजा शुभकामना संदेश
आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर मेरठ हेरिटेज दर्पण पुस्तक में लेखक डॉ मनोज कुमार गौतम उप निदेशक गोरखपुर संग्राहालय हैं व मिशिका सोसाइटी ने मेरठ पब्लिक स्कूल के सहयोग से प्रकाशित किया है।इस पुस्तक के माध्यम से मेरठ जनपद के सभी महाभारत कालीन,1857की आजादी, रामायण कालीन दार्शनिक स्थलों की जानकारी व धरोहरों की जानकारी मिलेगी। इस पुस्तक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अपना शुभकामना संदेश देते हुए जिज्ञासुओं के लिए मील का पत्थर बताया।