भारतीय उर्वरक संघ द्वारा 6 वैज्ञानिक सम्मानित:कृषि विज्ञान के क्षेत्र में बेहतर कार्य के दिल्ली में दिया गया सम्मान, 2 लाख रुपये का पुरस्कार और गोल्ड मेडल दिया

मेरठ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली में सम्मानित करते हुए - Dainik Bhaskar
दिल्ली में सम्मानित करते हुए

कृषि विज्ञान के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने के लिए मेरठ के छह वैज्ञानिकों को भारतीय उर्वरक संघ ने पुरस्कार से सम्मानित किया है। भारतीय उर्वरक संघ द्वारा प्रत्येक साल यह पुरस्कार नई दिल्ली में दिया जाता है। किसानों के खेत पर सरल उर्वरक परीक्षण समय के साथ जरूरत के अनुसार परिवर्तन के माध्यम से किसानों के क्षेत्र में उर्वरक की उपयोगिता को विकसित और प्रदर्शित करके देश की हरित क्रांति में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

भारतीय कृषि प्रणाली अनुसंधान संस्थान मोदीपुरम मेरठ के लिए यह पुरस्कार दिया गया है। मेरठ की टीम को यह अवार्ड मिला है। मेरठ के छह वैज्ञानिक जिनमें डॉ एएस पंवार निदेशक, डॉ एन रविशंकर प्रधान वैज्ञानिक, डॉ शमीम वरिष्ठ वैज्ञानिक, डॉ एके प्रुस्ती वरिष्ठ वैज्ञानिक, डॉ रघुवीर सिंह, डॉ एमए अंसारी वैज्ञानिक को भारतीय उर्वरक संघ नई दिल्ली ने दिया है। टीम को दो लाख रुपये का पुरस्कार, गोल्ड मेडल और प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया।

फसल प्रणाली पर किया काम
वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ शमीम ने बताया की अनाज फसल प्रणालियों के लिए पहचान की गई दीर्घकालिक पोषक तत्व प्रबंधन रणनीति ने चावल-गेहूं और चावल-चावल प्रणालियों की उत्पादकता को बनाए रखने में बेहतर काम किया है। मेरठ के संस्थान द्वारा वर्षों से विकसित अन्य उत्पादन प्रथाओं जैसे जुताई और रोपण विधियों, स्थान विशिष्ट पोषक तत्व प्रबंधन, टिकाऊ उत्पादन मॉडल आदि ने भी इनपुट उपयोग दक्षता में सुधार के अलावा फसलों और फसल प्रणालियों की उत्पादकता में सुधार के लिए योगदान दिया है।

पिछले दस साल में किये गए कार्य खासकर पोटेशियम जो की फसलों के लिए एक मुख्य पोषक तत्व है पर जोर देने के साथ संतुलित और एकीकृत उर्वरक उपयोग को बढ़ावा देने के लिए आईपीआई-एफएआई पुरस्कार दिया गया है।

खबरें और भी हैं...