82 साल के बुजुर्ग के मुंह में गोली मारकर हत्या:मेरठ में हॉस्पिटल मालिक की बदमाशों ने सोते समय बेरहमी से हत्या की, किसी करीबी पर ही पुलिस को शक

मेरठ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीपीनगर में महावीरा अस्पताल के मालिक की हत्या कर दी गई। - Dainik Bhaskar
टीपीनगर में महावीरा अस्पताल के मालिक की हत्या कर दी गई।

मेरठ में मंगलवार रात महावीरा हॉस्पिटल के मालिक यशपाल सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। बदमाशों ने 82 साल के यशपाल को सोते समय मुंह में गोली मारी। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मेरठ में तीन दिनों के अंदर ये तीसरी बड़ी वारदात है।

अपने धर्म कांटे पर सोए हुए थे
टीपीनगर थाना क्षेत्र के मुल्तान नगर निवासी यशपाल सिंह (82) पुत्र करन सिंह का टीपी नगर में मुल्तान नगर के पास महावीरा नाम से हॉस्पिटल है। हॉस्पिटल से कुछ दूरी पर ही जय शिव के नाम से धर्म कांटा भी है। मंगलवार रात हॉस्पिटल के मालिक यशपाल सिंह अपने धर्म कांटे पर सोए हुए थे। तभी देर रात अज्ञात हमलावरों ने वृद्ध की गोली मार दी। जहां उनकी मौके पर ही मौत हो गई।
बुधवार आज तड़के जब परिवार के सदस्य पहुंचे तो पता चला कि वह चारपाई पर खून से लथपथ पड़े हुए हैं। घटना की सूचना पुलिस को दी गई। CO ब्रह्मपुरी अमित कुमार राय भी मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल की। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

करीबियों पर शक
CO ब्रह्मपुरी अमित कुमार राय का कहना है कि हॉस्पिटल के मालिक यशपाल की उम्र 82 वर्ष की थी। ऐसे में इतनी उम्र के व्यक्ति को आखिर कोई गोली क्यों मारेगा। किसी रंजिश से भी परिवार ने इनकार किया है। ऐसे में प्रॉपर्टी और संपत्ति को लेकर परिवार के सदस्यों से जानकारी की जा रही है। CO का कहना है कि कुछ बिंदु मिले हैं जिन पर पुलिस काम कर रही है। जल्द ही हत्याकांड का खुलासा कर दिया जाएगा। यशपाल सिंह के 4 बेटे हैं जिनमें 3 एक साथ व एक बेटा अलग रहता है।

पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

हत्या करना ही था उद्देश्य
82 वर्ष की हत्या के बाद क्राइम सीन देखकर पुलिस भी है मान रही है कि हत्यारों का मुख्य उद्देश्य यशपाल सिंह की जान लेना ही था। कातिल एक हो या एक से ज्यादा रहे हों। लेकिन उन्होंने देर रात ऐसा मौका तलाशा। जब पहले से पता था कि यशपाल सिंह हर रोज रात में धर्म कांटे पर ही सोते हैं। और देर रात ही इस वारदात को अंजाम देना पुलिस मान रही है।
सुबह पुलिस को हत्या होने की सूचना दी गई। मौके की जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने बताया कि करीब 3 घंटे पहले हत्या यानी रात 2 बजे के आसपास हुई होगी। खून जहां भी लगा हुआ था वह सूख चुका था। हत्यारों ने वृद्ध के मुंह में गोली मारी है। ऐसे में यह साफ तौर पर पुलिस मान रही है कि यशपाल सिंह की जान लेना ही कातिल का उद्देश्य रहा होगा।

3 दिन में तीसरी हत्या
मेरठ में 3 दिन में यह तीसरी हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया है। 28 जून को मवाना थाना क्षेत्र के ततीना गांव में किसान सतपाल की हत्या को अंजाम दिया गया। यह घटना अभी खुली भी नहीं है। वही 29 जून को मुंडाली थाना क्षेत्र के नगला कैथवाडा में मंदिर के साधु चंद्रपाल की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। तीसरी घटना टीपी नगर क्षेत्र में हुई है। जहां हॉस्पिटल के मालिक यशपाल की गोली मारकर हत्या की गई।

खबरें और भी हैं...