पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में उठी आरक्षण की मांग:मेरठ में कश्यप समाज की 17 उपजातियों ने आरक्षण के लिए किया प्रदर्शन, कहा आरक्षण नहीं तो वोट नहीं

मेरठ11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेरठ में कमिश्नरी पार्क पर आरक्षण की मांग करने पहुंचे कश्यप समाज के पदाधिकारी व कार्यकर्ता - Dainik Bhaskar
मेरठ में कमिश्नरी पार्क पर आरक्षण की मांग करने पहुंचे कश्यप समाज के पदाधिकारी व कार्यकर्ता

यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले कई आरक्षण की लड़ाई जोर पकड़ रही है। सोमवार को मेरठ में कश्यप समाज की 17 उपजातियों ने आरक्षरण की मांग के लिए प्रदर्शन किया। बुग्गी और ट्रेक्टर में बैठकर कश्यप समाज के लोग कमिश्नरी चौराहा पहुंचकर धरना दिया। समाज ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आरक्षण नहीं मिला तो कश्यप समाज वोट भी नहीं देगा।

आरक्षण की मांग के लिए मेरठ सहित आसपास के जिलों की महिलाएं व पुरुष भी पहुंचे
आरक्षण की मांग के लिए मेरठ सहित आसपास के जिलों की महिलाएं व पुरुष भी पहुंचे

कश्यप निषाद कल्याण महासभा के बैनर तले समाज की भारी भीड़ कमिश्नरी चौराहा पहुंचकर प्रदर्शन किया। समाज ने सरकार से कश्यपों व इनकी उपजातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने की मांग की है। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।

अनुसूचित जाति में शामिल करे सरकार
महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कश्यप ने कहा यूपी में कश्यपों को कहार, धीमर, झीमर, झीवर, धीवर, बेलदार, मल्लाह, माझी, मछुआ, निषाद, केवट, बिंद, बाथम, रैकवार, तुरैहा, गौंड, मझवार नाम से जाना जाता है। सरकार ने हमारी उपजातियों को एससी, ओबीसी में शामिल किया मगर कभी आरक्षण का लाभ नहीं मिला। हमारी मांग है सरकार पूरे कश्यप समाज को अनुसूचित जाति में शामिल कर आरक्षण का लाभ दे। अगर आरक्षण नहीं मिला तो प्रदेशभर में कश्यप समाज वोट नहीं देगा। यूपी में 18 फीसद वोट कश्यपों की है जो चुनाव में पूरा असर रखती है।

नदी, ताल के किनारे करते जीवन यापन
कश्यप बिरादरी जंगल, नदी, तलैया किनारे रहकर जीवन गुजारती है। आज समय के साथ रहन-सहन बदला है। मगर अभी भी समाज वंचित समाज है। अनुसूचित जातियों की सूची 1950 में जारी हुई थी, इसमें बेलदार, गोंड, मझवार, तुरैहा को शामिल किया गया मगर आरक्षण का लाभ नहीं मिला। वहीं केवट, बिंद, निषाद, कहार, कश्यप, मल्लाह अन्य को ओबीसी में शामिल कर दिया था।

जातियों में उलझाया लाभ नहीं दिया
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विरेंद्र कश्यप ने कहा आज समाज जातियों में उलझ चुका है मगर लाभ किसी का नहीं मिलता। सरकारें बस आदेश जारी करती रहीं हमें लाभ नहीं दिया। प्रदर्शन करने वालों में सुरेश, नरेश, विमला सहित जोनी, वीरेंद्र, नेपाल, ज्योति, धर्मपाल, ललिता, गीता, नीलम, लक्ष्मण मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...